अलसी के बीजों का काढ़ा पीने से सेहत को मिलते हैं ये 9 फायदे, जानें रेसिपी

अलसी के बीजों का काढ़ा पीने से सेहत को कई फायदे होते हैं। यहां जानें इससे होने वाले फायदे और रेसिपी।

Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Jul 14, 2021

अलसी के बीज के काढ़े के फायदे

 अलसी के बीज के काढ़े के फायदे
1/11

अलसी के बीज सेहत के लिहाज से काफी फायदेमंद होते हैं। वहीं आयुर्वेद की मानें तो अलसी के बीजों का काढ़ा भी सेहत के लिए उतना ही कारगर साबित होता है। यह ओमेगा 3 फैटी एसिड, प्रोटीन, विटामिन और मिनिरल्स से भरपूर होते हैं। यह शरीर को उर्जा देने के साथ ही मधुमेह और हृदय के मरीजों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। चलिए जानते हैं अलसी के बीजों का काढ़ा पीने के कुछ फायदों के बारे में।   

वेट लॉस

वेट लॉस
2/11

अलसी के बीजों में फाइबर पाया जाता है। फाइबर डाइजेशन की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। इसे पीने से आपका पेट भरा-भरा लगता है और आपको भूख भी कम लगती है। लंबे समय तक इसका सेवन कर आप शरीर से एक्सट्रा फैट भी घटा सकते हैं। इसमें पाए जाने वाला लिगनान शरीर में सेल्स की प्रक्रिया सुधारकर मेटाबॉलिज्म अच्छा और वजन कम करता है।  

हृदय स्वास्थ

हृदय स्वास्थ
3/11

अलसी के बीजों का काढ़ा हृदय स्वास्थ के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसमें अल्फा लिनोलिक एसिड की मात्रा पाई जाती है, जिससे आप हृदय रोगों बच सकते हैं। अलसी के बीजों का काढ़ा पीने से आपका ब्लड प्रेशर भी नियंत्रित रहृता है। इससे आपको हृदय से संबंधित समस्याएं नहीं होती। साथ ही अलसी के बीज का काढ़ा पीने से ब्लड शुगर लेवल भी नियंत्रित रहता है।  

कोलेस्ट्रॉल कम करे

कोलेस्ट्रॉल कम करे
4/11

अलसी के बीजों का काढ़ा पीने से शरीर का कोलेस्ट्रॉल लेवल भी कम होता है। शोध में पाया गया है कि अलसी के बीज 6 से 7 दिनों में ही काफी हद तक कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करता है। कोलेस्ट्रॉल शरीर की जरूरत होती है, लेकिन जब ज्यादा मात्रा में कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाए तो हृदय रोग होने का खतरा भी होने लगता है। इसलिए अगर कोलेस्ट्रॉल बढ़ा है तो अलसी के बीज का काढ़ा जरूर पिएं।  

इम्यूनिटी बूस्टर

इम्यूनिटी बूस्टर
5/11

इम्यून सिस्टम के लिए अलसी का काढ़ा बहुत जल्दी प्रतिक्रिया देता है। अलसी के बीज का काढ़ा पीने से इम्यून सिस्टम की शक्ति बढ़ती है। यह काढ़ा शरीर में बैक्टीरिया और वायरस से लड़ता है। अलसी के बीज में ओमेगा 3 और ओमेगा 6 फैटी एसिड्स पाए जाते हैं। अलसी के बीजों एंटी वायरल, एंटी बैक्टीरिया, एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटी फंगल गुण होते हैं। जो इम्यूनिटी करने में अहम भूमिका निभाता है।   

त्वचा में लाए निखार

त्वचा में लाए निखार
6/11

अलसी के बीजों का काढ़ा पीने से त्वचा पर ग्लो आता है। यह काढ़ा एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर होता है। यह त्वचा को सन डैमेज से बचाने के साथ ही चेहरे पर फाइन लाइंस और रिंकल्स आने से भी रोकता है। यह काढ़ा पीने से त्वचा हाइड्रेट रहती है और त्वचा का प्राकृतिक मॉइश्चर बना रहता है। इसलिए डायटीशियन की सलाहनुसार त्वचा पर ग्लो लाने के लिए इसका नियमित सेवन करें।  

बालों को बनाए हेल्दी

बालों को बनाए हेल्दी
7/11

बालों की हेल्दी ग्रोथ के लिए आप अलसी के बीजों का काढ़ा ट्राई कर सकते हैं। अलसी के बीज बी विटामिन्स का एक बहुत अच्छा स्त्रोत माने जाते हैं। बी विटामिन्स बालों की ग्रोथ के लिए बहुत जरूरी होते हैं। साथ ही इसमें विटामिन ई भी पाया जाता है, जो कि बालों को सन डैमेज से भी बचाता है। अलसी का काढ़ा पीने से आपके बाल हमेशा हेल्दी रहते हैं।  

कैंसर का खतरा काम करे

कैंसर का खतरा काम करे
8/11

लिगनान्स से भरपूर होने के कारण अलसी के बीजों का काढ़ा कैंसर का खतरा कम करने में सक्षम होता है। इसमें शरीर में ट्यूमर की ग्रोथ रोकने की भी क्षमता होती है। शोध में पाया गया है की जो महिलाएं रोजाना अलसी का सेवन करती हैं, उनमें ब्रेस्ट कैंसर का खतरा काफी हद तक कम होता है। यह शरीर में एस्ट्रोजन के उत्पादन को कम करता है, जिससे कैंसर काफी हद तक कैंसर की रोकथाम संभव हो जाती है।   

मसल्स बढ़ाए

मसल्स बढ़ाए
9/11

अलसी के बीजों प्रोटीन का बेहतरीन स्त्रोत होते हैं। अलसी के बीज का काढ़ा पीने से आपके दिन भर की प्रोटीन रिक्वायरमेंट पूरी हो जाती है। इससे शरीर की सेल्स अपने आप ही रिपेयर होती है। यह शरीर में मसल्स बढ़ता है। अगर आप एक्सरसाइज कर रहे हैं या फिर जिम जा रहे हैं तो इसका सेवन जरूर करें। यह आपकी बॉडी को मस्कुलर बनाने का काम करता है।   

जोड़ो की सूजन कम करे

जोड़ो की सूजन कम करे
10/11

अलसी के बीजों का काढ़ा आपके हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। इसमें उच्च मात्रा में लिनोलिक एसिड पाया जाता है, जो हड्डियों के विकास में सहायता करता है। अलसी के बीज का काढ़ा हाई कैल्शियम होने के कारण आपकी अर्थराइटिस और हड्डियों के अन्य विकारों की आशंका को भी कम करता है।   

Disclaimer