इन 5 तरीकों से दूसरों की दिवाली करें रोशन

कितनी लाइट्स लगाओगे, आपका घर तो रोशन हो गया, ये अंधेरा तो सामने वाली बस्ती में अंधेरा होने के कारण है, हां वहां लाइट लगाओ तो आपका घर भी रोशन होगा और दूसरों को खुशी भी होगी।

सम्‍पादकीय विभाग
Written by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Oct 25, 2018

दिवाली करें रौशन

दिवाली करें रौशन
1/6

रौशनी, रौशनी को खींचती है औऱ अंधेरा, अंधेरे को। ये पुरानी कहावत है जिसे लोग दिवाली के समय अपने घर को कोने-कोने को रौशन करते समय बोलते हैं। सही भी है। कोना-कोना रौशन करो घर खुद रौशन हो जाएगा। जबकि इसका मूल अर्थ है कि दिवाली में हर एक घर को रौशन करो जिससे पूरे समाज से अंधेरा भाग जाए। क्यों न इस दिवाली समाज से अंधेरा भगाने की शुरुआत करते हैं? तो इन तरीकों से रौशन करें दूसरों की दिवाली, आपकी दिवाली खुद-ब-खुद रौशन हो जाएगी।

ओल्डेज होम

ओल्डेज होम
2/6

3जी, 4जी और 5जी के रेस में सबसे ज्यादा अगर कोई पिछड़ा है तो वो है हमारी पुरानी जेनेरेशन। आज हर छोटे से छोटे शहर में ओल्डेज होम खुल गए हैं। जबकि ये पहले बड़े शहरों तक ही था। इस दिवाली शहर में अकेले हैं तो किसी एक ओल्डेज होम जाकर करें बहुत सारे दादा-दादी के साथ दिवाली सेलीब्रेट।

पैरेंट्स की कराएं पॉलिसी

पैरेंट्स की कराएं पॉलिसी
3/6

आपके मम्मी-पापा ने आप पर बहुत खर्च किए हैं जिसे आप दुनिया की सारी दौलत देकर भी नहीं लौटा सकते और ना वो मांगते हैं। लेकिन कुछ तो करना बनता है। सामने वाला कोई पेन भी देता है तो उसे थैंक्स बोल-बोलकर परेशान कर देते हैं। तो मां-बाप को क्यों नहीं? इस दिवाली उनको पॉलिसी गिफ्ट करिए जो की उनके बुढ़ापे का सहारा होगा। ये जरूरी है क्योंकि आज की जेनरेशन का भरोसा नहीं और उन्होंने आपके हायर-एजुकेशन के लिए अपनी एफडी तुड़वा दी है।

बस्ती में जाएं

बस्ती में जाएं
4/6

किसी बस्ती में जाएं और वहां के बच्चों को पटाखे, फुलझड़ी, मिठाई और कैंडल्स गिफ्ट करें। किसी एक घर की भी दिवाली आपने रौशन कर दी तो आपकी दिवाली सफल। चेतावनी- मिठाई हाथ की ही बनी ले जाएं। अगर नहीं बना सकते तो आटा का हलुआ ही बना लें। लेकिन दुकान की ना ले जाए।

हैंड-मेड गिफ्ट फॉर लव

हैंड-मेड गिफ्ट फॉर लव
5/6

कितना खरीदकर गिफ्ट देंगे। इस दुनिया में सुंदर और अच्छी गिफ्ट्स की कमी नहीं है। एक से बढ़कर एक सुंदर चीज है। तो व्यर्थ की मेहनत ना करें और अपने हाथों से एक प्यारा गिफ्ट बनाएं और अपने प्यार को दिवाली विश करें।

बच्चों को पढ़ाएं

बच्चों को पढ़ाएं
6/6

पैसे के दान से बड़ा है श्रमदान... और इससे भी बड़ा है ज्ञानदान। तो इस दिवाली ज्ञान की ज्योती जलाए और समाज के दिमाग को रौशन करने की कोशिश करें। शुरुआत करें अपने सब्जीवाले के बच्चे से, जो गरीबी के कारण अच्छी शिक्षा नहीं ले पा रहे हैं।

Disclaimer