इन 5 नौकरियों में डिप्रेशन का स्‍तर होता है सबसे ज्‍यादा!

नौकरी में तनाव होना बहुत ही साधारण बात हो गई है, लेकिन कुछ नौकरियां ऐसी हैं जिनमें तनाव अवसाद का रूप ले लेता है।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: May 14, 2018

तनाव और अवसाद

तनाव और अवसाद
1/6

नौकरीपेशा व्‍यक्तियों में काम को लेकर तनाव होना बहुत ही स्‍वाभाविक है। ऑफिस में काम की डेडलाइन एंप्‍लॉई को तनाव के अतिरिक्‍त कुछ नही देती है। इसके अलावा कुछ लोग सैलरी और पोजिशन नही बढ़ने को लेकर भी अवसाद से ग्रसित हो जाते हैं। कभी कभी यह अवसाद इतना बढ़ जाता है कि लोग उससे बाहर नही निकल पाते हैं। ऐसी कई नौकरियां हैं जिनमें अवसाद या डिप्रेशन का स्‍तर सबसे ज्‍यादा होता है। आइए इस स्‍लाइड शो के माध्‍यम से उन नौकरियों के बारे में जानते हैं।Image Source : Getty

प्रशासनिक सेवा

प्रशासनिक सेवा
2/6

प्रशासनिक अधिकारी या सहायक को हमेशा लोगों को डील करना होता है। ये सारे पद बहुत ही ऊंचे होते हैं जैसे किसी कंपनी के सीईओ, वाइस प्रेजिडेंट आदि। इस लेवल के अधिकारियों की भी प्रवृत्ति भी डिप्रेशन वाली हो जाती है।Image Source : Getty

नर्स

नर्स
3/6

नर्स का काम बहुत ही तनावपूर्ण होता है। नर्स को मरीज का पूरा ख्‍याल रखना पड़ता है, यह उसकी जिम्‍मेदारी होती है। मरीज को समय पर दवाई खिलाना जैसी कई तरह से ध्‍यान रखना होता है। यह एक उर्जापूर्ण काम होता है, जिसमें तनाव और अवसाद की स्थिति बन जाती है। Image Source : Getty

सोशल वर्क

सोशल वर्क
4/6

सोशल वर्क या समाज सेवा का काम भी बहुत ही तनावपूर्ण होता है, इस काम में तरह तरह के लोगों से मिलना उन्‍हें मोटिवेट करना आदि काम करने होते हैं, कई बार बहुत ही अपराधी किस्‍म के व्‍यक्तियों को भी समझाना पड़ता है। Image Source : Getty

राइटर

राइटर
5/6

राइटर या लेखक का काम में दिमागी कसरत करनी पड़ती है, कई बार ऐसा देखने को मिलता है कि लेखक का दिमाग ब्‍लॉक हो जाता है और वक काम करने के योग्‍य नही रह जाता है। Image Source : Getty

ड्राइवर

ड्राइवर
6/6

ड्राइवर चाहे किसी बस का हो ट्रेन का हो उसके हाथ में यात्रियों की जिंदगी थमी होती है, ऐसे में ड्राइवर हमेशा तनाव में रहता है। ड्राइवर को रात में भी गाड़ी चलानी रहती है, जिससे उनमें डिप्रेशन स्थिति बन जाती है। Image Source : Getty

Disclaimer