5 चीजें जो हमें वास्त व में नहीं करतीं बीमार

ठंड शुरू होते ही हम एहतियात बरतना शुरू कर देते हैं, लेकिन कई चीजें ऐसी भी हैं जिनके संपर्क में आने से हम वास्तव में बीमार नहीं होते हैं, उनके बारे में आप भी जानें।

Devendra Tiwari
Written by: Devendra Tiwari Published at: Nov 09, 2015

जो दिखता है वो सच नहीं होता

जो दिखता है वो सच नहीं होता
1/6

कई बार हमें किसी चीज को लेकर गलतफहमी हो जाती है और हम उसी भ्रम में जीते हैं, लेकिन वास्तविकता कुछ और होती है। यही बात स्वास्थ्य को लेकर भी होती है, और हम जानकारी के अभाव में उन चीजों को भी अनहेल्दी मान लेते हैं जो वास्तव में अनहेल्दी होती नहीं हैं। ठंड के मौसम में तो गलतफहमी और बढ़ जाती है और हमें ये लगता है कि ऐसा करने से हमें कोल्द हो जायेगा, लेकिन सच में उनके संपर्क में आने से बीमारी नहीं होती है। आज इस स्लाइडशो में हम उन बातों के बारे में जानेंगे जिनके बारे में हम यह समझते हैं कि वे अस्वस्थ हैं जबकि वे अनहेल्दी नहीं होतीं।

गीले बालों के साथ बाहर जाना

गीले बालों के साथ बाहर जाना
2/6

अगर ठंड का मौसम है और आपके बाल गीले हैं तो अमूमन आप बाहर जाने से डरते हैं, क्योंकि आपको लगता है कि गीले बालों के कारण आपको कोल्ड हो जायेगा। जबकि वास्तेविकता ये है कि ठंड के मौमस में कोल्ड और गीले बालों के बीच में कोई संपर्क नहीं होता है। वास्तव में कोल्ड‍ वायरस के कारण होता है न कि गीले बालों के कारण। इसलिए अगर आपके बाल गीले हैं तो ठंड के मौसम में बाहर निकलने से घबरायें नहीं बल्कि इस मौसम का लुत्फ उठायें।

ठंडे मौसम में सही से कपड़े न पहनना

ठंडे मौसम में सही से कपड़े न पहनना
3/6

ठंड का मौसम शुरू होते ही हम गरम कपड़े निकाल लेते हैं और जब ठंडी हवायें चलती हैं या पारा गिरने लगता है तब हम बहुत सारे गरम कपड़े पहनते हैं। क्योंकि हमें लगता है कि गरम कपड़े अधिक पहनने से हम कोल्ड से बच जायेंगे। लेकिन सच्चाई ये है कि अधिक कपड़े पहनने और कोल्ड की चपेट में आने के बीच में कोई रिश्ता नहीं है। वास्तव में कोल्ड‍ वायरस के जरिये या फिर संक्रमित इंसान से बात के दौरान हो सकता है। यानी कोल्ड के लिए जिम्मेदार वायरस आपके शरीर में नाक, मुंह, आंखों के जरिये पहुंचते हैं न कि कई परत के कपड़ों के जरिये।

फ्लू शॉट लेना

फ्लू शॉट लेना
4/6

ठंड के मौसम में फ्लू से बचने के लिए लोग फ्लू के शॅट्स लेने की सलाह देते हैं, जबकि फ्लू वैक्सीन मृत वायरस से बनाया जाता है जबकि फ्लू जीवित वायरस के संपर्क में आने से होता है। इसके अलावा अगर आप वैक्सीन लेते हैं तो इसके कारण मांसपेशियों में दर्द, इंजेक्शेन की जगह पर सूजन, हल्का  बुखार, और सिरदर्द की समस्या हो सकती है, जो कि वैक्सीन के कारण होती है। लेकिन अगर फ्लू शॉट के दो हफ्ते बाद भी आप बीमार हो जायें तो समझिये आप अब भी पूरी तरह से सुरक्षित नहीं हैं।

विटा‍मिन सी का पर्याप्त सेवन न करना

विटा‍मिन सी का पर्याप्त सेवन न करना
5/6

ठंड के मौसम में हम विटामिन सी का पर्याप्त मात्रा का सेवन नहीं करते हैं। जबकि 2013 में हुए एक शोध की मानें तो इस मौसम में विटामिन सी का अधिक सेवन करने से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है और बीमार होने की संभावना कम हो जाती है। यह कोल्ड होने की संभावना को भी कम करता है। इसलिए इस मौसम में भी विटामिन सी का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए।

किसी बीमार के आसपास न जाना

किसी बीमार के आसपास न जाना
6/6

अगर आपने यह निश्चय किया है इस मौसम में कोल्ड से बचने के लिए आप किसी बीमार व्यक्ति के आसपास जाने से बचेंगे, तो आपने कोल्ड से बचने के सही तरीके का चुनाव किया है। लेकिन सिर्फ इतना करने से ही बीमारी से बचाव नहीं हो सकता है। अमेरिकन लंग एसोसिएशन की मानें तो, अमूमन लोगों में वायरस के लक्षण 1 से 6 दिन में विकसित होते हैं, ऐसे में अगर किसी स्वस्थ दिखने वाले इंसान जिसको वायरस ने अपने चपेट में लिया हो आप उसके संपर्क में आते हैं, उससे हाथ मिलाते हैं तो इससे आप भी वायरस की चपेट में आ जाते हैं। वायरस हर उस चीज में हो सकता है जिसे बीमार इंसान ने छुआ है।

Disclaimer