जीका वायरस से बचने में मददगार हैं ये 4 उपाय

दुख की बात यह है कि इस वायरस से बचाव के लिए हमारे पास कोई टीका उपलब्ध नहीं है। इसलिए मच्छरों से बचना ही इसकी मुख्य सावधानी है। आइए जीका वायरस से बचने के ऐसे ही 4 उपायों की जानकारी लेते हैं।

Pooja Sinha
Written by: Pooja SinhaPublished at: Feb 02, 2016

जीका वायरस से बचने के उपाय

जीका वायरस से बचने के उपाय
1/5

जीका वायरस के संभावित खतरे से निपटने के लिए आप भी कमर कस लीजिए। यह जानलेवा बीमारी कभी भी भारत पर हमला कर सकती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चेतावनी दी है कि जीका वायरस विस्फोटक तरीके से आगे बढ़ रहा है और इससे भारत जैसे देश प्रभावित हो सकते हैं। भारत में इस वायरस के फैलने का खतरा इसलिए है, क्योंकि जीका वायरस एडीज मच्छर से फैलता है और भारत में इन मच्छरों की भरमार है, जिनसे मलेरिया होता है। गर्भ में पल रहे बच्चों को इससे सबसे ज्यादा खतरा है। दुख की बात यह है कि इस वायरस से बचाव के लिए हमारे पास कोई टीका उपलब्ध नहीं है। इसलिए मच्छरों से बचना ही इसकी मुख्य सावधानी है। आइए जीका वायरस से बचने के ऐसे ही 4 उपायों की जानकारी लेते हैं।

मच्छरों की रोकथाम

मच्छरों की रोकथाम
2/5

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक, मच्छरों की रोकथाम जीका वायरस के इंफेक्‍शन को रोकने का सबसे अच्छा उपाय है। मच्‍छरों से बचने वाली क्रीम या मच्‍छरदानी का उपयोग करें। अपने घर के आसपास मच्छरों के प्रजनन को न पनपने दें। झाडियों और गंदगी को साफ रखें और गडढ़ों, कूलर, बाल्टी, गमले, छत, नाली में पानी न जमा होने दें।

शरीर को ढककर रखें

शरीर को ढककर रखें
3/5

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, जीका वायरस मच्छरों के काटने से होता है, इसलिए मच्छरों से बचने के लिए पूरे शरीर को ढककर रखें और हल्के रंग के कपड़े पहनें और बच्चों के प्रति विशेष सावधानी बरतें।

स्वयं चिकित्सा न करें

स्वयं चिकित्सा न करें
4/5

बुखार, जोड़ों में दर्द, गले में खराश, आंखें लाल होने जैसे लक्षण नजर आने पर स्वयं चिकित्सा न करें और न ही घरेलू चिकित्सा को करके अपना समय नष्ट करें। शरीर में दर्द की शिकायत पर भी पैरासिटामॉल (Paracetamol) या एसिटीमिनोफेन (Acetaminophen) लें, इबूप्रोफेन (जैसे कि डिस्प्रिन Disprin) बिल्कुल न लें।

डॉक्‍टर से संपर्क करें

डॉक्‍टर से संपर्क करें
5/5

जीका वायरस के मरीज को पूरी तरह से बेड रेस्ट करना चाहिए। साथ ही व्‍यक्ति को अधिक मात्रा में पानी और तरल पदार्थ दें। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, स्थिति में सुधार नहीं होने पर जितनी जल्दी हो सके, डॉक्टर से सम्पर्क करें।Image Source : Getty

Disclaimer