आपकी आंखें खराब कर सकते हैं कॉन्‍टेक्‍ट लैंस, आज ही जानें ये 8 जरूरी बातें

बेशक, अपनी नजर बढ़ाने का अदृश्‍य तरीका है। लेकिन, अगर आप कॉन्‍टेक्‍ट लैंस पहनते हैं, तो आपको इससे जुड़ी सभी परेशानियों के बारे में पता ही होगा।

Rashmi Upadhyay
Written by: Rashmi UpadhyayPublished at: Nov 15, 2018

कॉन्‍टेक्‍ट लैंस का प्रभाव

कॉन्‍टेक्‍ट लैंस का प्रभाव
1/11

बेशक, अपनी नजर बढ़ाने का अदृश्‍य तरीका है। लेकिन, अगर आप कॉन्‍टेक्‍ट लैंस पहनते हैं, तो आपको इससे जुड़ी सभी परेशानियों के बारे में पता ही होगा। कॉन्‍टेक्‍ट लैंस खोना या खराब होना आपको काफी मुश्किल में डाल सकता है। और बिना सॉल्‍युशन के इसका इस्‍तेमाल करना भी बेहद खराब अनुभव देता है। कॉन्‍टेक्‍ट लैंस लगाते समय आप अनजाने में कितनी ही बार आंख में उंगली मार लेते हैं। हम जानबूझ कर तो कॉन्‍टेक्‍ट नहीं पहनते, यह सब अपनी नजर को बढ़ाने के लिए ही तो किया जाता है। आइए जानते हैं कॉन्‍टेक्‍ट लैंस से जुड़ी कुछ अनजान बातें। image courtesy : getty images

नमक के कारण सूखापन

नमक के कारण सूखापन
2/11

कॉन्‍टेक्‍ट लैंस पहनने वाले कई लोग अकसर दिन खत्‍म होते-होते आंखों में रुखापन होने की शिकायत करते हैं। ऐसा इसलिए होता है कि कॉन्‍टेक्‍ट लैंस वास्‍तव में रूखे यानी ड्राई होते हैं। आंखों के कुदरती आंसुओं के कारण लैंस पूरा दिन नमक के संपर्क में रहते हैं। जैसे-जैसे आंसु कुदरती रूप से आंखों से बाहर आता है, कुछ नमक लैंस पर लगा रह जाता है। यह नमकीन तत्‍व आंखों के लिए अच्‍छा होता है, लेकिन बहुत ज्‍यादा नमक नहीं। image courtesy : getty images

रोने से नमक जाता है

 रोने से नमक जाता है
3/11

जी, यह बात सही है कि आंसुओं में नमक होता है, लेकिन यह बात जानकर आप हैरान हुए बिना नहीं रह पाएंगे। रोने के दौरान आपकी आंखों से जो आंसु निकलते हैं, वे वास्‍तव में आंख में रहने वाले आंसुओं की अपेक्षा कम नमकीन होते हैं। इसलिए जब आप रोते हैं, तो आप आंख की पुतली में नमक के संतुलन पर असर डालते हैं। रोने के बाद आपके कॉन्‍टेक्‍ट लैंस उतने नमकीन नहीं रहते, जिससे आपको अजीब लग सकता है। image courtesy : getty images

नयी तकनीक के लैंस दिलायें छुटकारा

नयी तकनीक के लैंस दिलायें छुटकारा
4/11

तकलीफ की शिकायतों के बाद शोधकर्ताओं ने एक दशक तक शोध किया। इसके बाद एक कंपनी ने अधिक उन्‍नत किस्‍म का लैंस बनाने का दावा किया। यह लैंस अपनी तरह का पहला लैंस है, जिसे तीन परतों से बनाया गया। सिलिकॉन हायड्रोजैल की बीच वाली परत के आगे-पीछे हायड्रोफिलिक सरफेस जैल लगाया गया है। यह परंपरागत एक परत वाले लैंस के मुकाबले अधिक घुलनशील है। इन लेयर्स के जुड़ने से पु‍तलियों को पहले की अपेक्षा अधिक नमी मिलती है। और इसके साथ ही वे पतले और अधिक कारगर बने रहते हैं। image courtesy : alcon a novartis company

रोज कॉन्‍टेक्‍ट लगाना आपकी सेहत के लिए फायदेमंद

रोज कॉन्‍टेक्‍ट लगाना आपकी सेहत के लिए फायदेमंद
5/11

कॉन्‍टेक्‍ट लैंस कई प्रकार के आते हैं- इसमें डेली, दो सप्‍ताह में एक बार या महीने में एक बार आदि प्रमुख हैं। आमतौर पर लोग लंबे समय तक पहने जा सकने वाले लैंस का विकल्प चुनते हैं। लेकिन रोज उतारकर रखे जाने वाले लैंस बेहतर होते हैं। ये सबसे सुरक्षित होते हैं। ये लैंस बैक्‍टीरिया से भी लंबे समय तक सुरक्षित रहते हैं। image courtesy : getty images

सही से न हो सफाई, तो डेलीज महंगे

सही से न हो सफाई, तो डेलीज महंगे
6/11

लोग अकसर इन लैंस की कीमत को लेकर परेशान रहते हैं। लेकिन, अगर इसमें लैंस को साफ करने वाले सॉल्‍युशन की कीमत और अन्‍य चीजें जोड़ लें, तो यह लंबे समय तक पहने जा सकने वाले लैंस के बराबर कीमत का ही बैठते हैं। ये उन लोगों के लिए भी बेहतर होते हैं, जो नियमित रूप से लैंस पहनते हैं, क्‍योंकि लैंस को लंबे समय तक सॉल्‍युशन में नहीं रखा जा सकता। image courtesy : getty images

रात को पहने जा सकने वाले लैंस

रात को पहने जा सकने वाले लैंस
7/11

भविष्‍य में ऐसा होता नजर आ रहा है। रात को लैंस लगाकर सोयें और सुबह तक आपकी नजर पूरी तरह ठीक हो जाएगी। लेकिन कॉर्निया को री-शेप करने की यह ऑर्थेाकेराटोलॉजी या ऑर्थो-के काफी बरसों से मौजूद है। आर्थो-के लैंस कॉर्निया को रात भर में ठीक कर देते हैं। कॉर्निया दिन भर उसी आकार में रहता है। यह प्रक्रिया बच्‍चों और किशोरों में ठीक रहती है, जिनकी नजर लगातार बदलती रहती है। ऐसे जो चश्‍मा नहीं पहनना चाहते और जिन्‍हें हल्‍का निकट दृष्टि दोष है। इसकी कीमत में अंतर हो सकता है। image courtesy : getty images

लेसिक सर्जरी से बेहतर है लैंस

लेसिक सर्जरी से बेहतर है लैंस
8/11

कई बार आप लैंस या चश्‍मे से इतना परेशान हो जाते हैं कि लेसिक ऑपरेशन करवाने का फैसला करते हैं। लेकिन, इसके कुछ नुकसान भी हैं। लेसिक करवाने के बाद उसके प्रभावों को पलटा नहीं जा सकता। लेकिन, लैंस के साथ यह सुविधा है कि अगर आपको किसी तरह की तकलीफ हो रही है, तो आप उसे उतार कर रख सकते हैं। लेकिन, कई बार लेसिक करवाने के बाद ड्राई-आई, रात को देखने में परेशानी और संक्रमण आदि की स्‍थायी समस्‍या हो सकती है। image courtesy : getty images

विकृतियों से परेशान लोगों के लिए सिर्फ हार्ड कॉन्‍टेक्‍ट लैंस

विकृतियों से परेशान लोगों के लिए सिर्फ हार्ड कॉन्‍टेक्‍ट लैंस
9/11

सबसे पहले बने कॉन्‍टेक्‍ट लैंस, हार्ड कॉन्‍टेक्‍ट, वाकई काफी अच्‍छे हैं। ये अपनी तरह की एकमात्र लैंस हैं, जो आंख की सतह पर मौजूद किसी विकृति, जैसे स्‍कार या चोट आदि को ठीक करते हैं। हार्ड लैंस आंखों को सीधे संपर्क नहीं करते, तो इसे लगाने से आंसु लैंस और आंखों के बीच फंस जाते हैं। यह तरल पदार्थ आंखों की सतह पर मौजूद कमी से पैदा होने वाले दृष्टि दोष को दूर करने में मदद करता है। image courtesy : getty images

पहले कॉन्‍टेक्‍ट लैंस कांच का था

पहले कॉन्‍टेक्‍ट लैंस कांच का था
10/11

कॉन्‍टेक्‍ट लैंस पहले पहल उन लोगों के लिए बनाये गए, जिनकी नजर बुरी तरह क्षतिग्रस्‍त होती थी। खराब नजर वालों के लिए इन लैंसों का उपयोग तब नहीं किया जाता था। यह 19वीं सदी के अंतिम वर्षों की बात है। लैंस कांच के बनाये जाते थे और बाद में इन्‍हें एनिमल जैली की मदद से आंख के उस क्षतिग्रस्‍त हिस्‍से पर लगाया जाता था, ताकि लोग दोबारा देख सकें। बाद में डॉक्‍टरों को अहसास हुआ कि इस तकनीक की मदद से दृष्टिदोष का भी इलाज किया जा सकता है। image courtesy : getty images

Disclaimer