सिर्फ महिलाओं को ही होती है ये 5 बीमारियां, जानें कौन सी बीमारी सबसे घातक

महिलाओं का शरीर अलग होता है. पुरुषों की तुलना में कई ऐसी बीमारियां है जो सिर्फ महिलाओं के शरीर को प्रभावित करती हैं।

सम्‍पादकीय विभाग
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Mar 10, 2020
सिर्फ महिलाओं को ही होती है ये 5 बीमारियां, जानें कौन सी बीमारी सबसे घातक

महिलाओं का शरीर अलग होता है. पुरुषों की तुलना में कई ऐसी बीमारियां है जो सिर्फ महिलाओं के शरीर को प्रभावित करती हैं. हम आपको PCOS के अलावा कुछ ऐसी बीमारियों के बारे में बताने जा रहे हैं जो सिर्फ महिलाओं को होती है। महिलाओं का शरीर पुरुषों से अलग होता है. पुरुषों की तुलना में कई ऐसी बीमारियां है जो सिर्फ महिलाओं के शरीर को प्रभावित करती हैं. बहुत बार जागरुकता के अभाव में महिलाओं को इस बारे में पता ही नहीं चल पाता और ऐसे में वे इन बीमारियों का शिकार हो जाती है. इस आर्टिकल में हम आपको कुछ ऐसी बीमारियों के बारे में बताने जा रहे हैं जो सिर्फ महिलाओं को होती है. तो आइए जानते हैं इनके बारे में।

Periods

1.  पोलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम

PCOS एक बीमारी है जो कि महिलाओं के हार्मोन लेवल पर असर डालती है. इन महिलाओं में पुरुष हार्मोन महिला हार्मोन की तुलना में अधिक होता है। इसके कारण महिलाओं को पीरियड्स अनियमित होते हैं और साथ ही इसके कारण उन्हें प्रेग्नेंसी में भी समस्या का सामना करना पड़ता है. इससे त्वचा पर बालों की ग्रोथ भी बढ़ जाती है साथ ही डायबिटीज और दिल की बीमारी का भी इससे खतरा हो जाता है।

इसे भी पढ़ेंः  पीरियड्स के दौरान शराब का सेवन सही है या गलत? जानें शरीर पर पड़ता है क्‍या असर

2. ब्रेस्ट कैंसर 

ब्रेस्ट कैंसर महिलाओं के शरीर में होने वाली गंभीर बीमारियों में से एक होती है. ब्रेस्ट के आकार में बदलवा आना, ब्रेस्ट की त्वचा का छिलना और इस पर लाल या संतरे रंग के चकते बन जाना ब्रेस्ट कैंसर की पहचान है.अगर आपको अपने ब्रेस्ट में किसी तरह की गांठ महसूस होती है तो आपको डॉक्टर को दिखना चाहिए। ये महिलाओं में होने वाली आम लेकिन खतरनाक बीमारी होती है। महिलाओं को अपने शरीर का ख्याल रखना चाहिए, सही खान-पान करना चाहिए, रेगुलर एक्सरसाइज करना चाहिए और डॉक्टर से परामर्श लेते रहना चाहिए ताकि इस बीमारी से बचा जा सके।

cancer

3. स्पॉन्टेनियस कोरोनरी अर्टरी डिसेक्शन

यह महिलाओं में होने वाली एक गंभीर बीमारी है. इस स्थिति में ब्लड वैसल्स के टूट जाने पर खून दिल तक आसानी से नहीं पहुंच पाता. अक्सर ये बीमारी 40 से 50 साल की उम्र की महिलाओं को अधिक होता है. अगर इसका पता नहीं चलता तो अचानक से ही पीड़ित मौत का शिकार हो सकती हैं. सीने में दर्द, हाथ, कंधों और जबड़ो में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, पसीने आना, जी मिचलना इसके आम लक्षण होते हैं।

इसे भी पढ़ेंः पीसीओएस के कारण गर्भधारण में होने वाली जटिलताओं और बचाव के बारे में बता रही हैं डॉ. दीपिका अग्रवाल

4. ओवेरियन या सर्वाइकल कैंसर

HPV के कारण सर्वाइकल कैंसर की समस्या पैदा हो सकती है. पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग होती है लेकिन अगर ब्लीडिंग पीरियड्स के अलावा भी होती है तो आपको सर्वाइकल कैंसर भी हो सकता है. सर्वाइकल कैंसर लोअर यूट्रस में होता है वहीं ओवेरियन कैंसर फेलोपियन ट्यूब में होता है.इन दोनों ही बीमारियों का असर गर्भाश्य पर बहुत बुरा पड़ता है।

5.ऑटोइम्यून डिजीज-

जब शरीर में वायरस आदि शरीर की स्वस्थ कोशिकाओं पर आक्रमण करते हैं तो इम्यून सिस्टम इनको खत्म करने के लिए आक्रमण करती हैं. इस स्थिति में ऑटोइम्यून डिजीज पैदा हो जाती है. ये बीमारियां पुरुषों से ज्यादा महिलाओं को होती है लेकिन ऐसा क्यों होता है इस पर रिसर्च अभी भी जारी है। दर्द, हल्का बुखार, त्वचा पर जलन, वर्टिगो, दम घुटना आदि इन बीमारियों के सामान्य लक्षण होते हैं. स्वस्थ रहने के लिए और इन बीमारियों से बचने के लिए आपको शुगर और फैट का सेवन कम करना चाहिए साथ ही तनाव कम लेना चाहिए।

Read More Articles On Women's Health In Hindi

Disclaimer