नियमित एरोबिक्स के लाभ

एरोबिक्स एक तरफ जहां शारीरिक रुप से आपको फिट रखता है वहीं दूसरी तरफ वह मानसिक समस्याओं से भी छुटकारा दिलाने में फायदेमंद माना जाता है।

Anubha Tripathi
Written by: Anubha TripathiUpdated at: Apr 22, 2014 12:00 IST
नियमित एरोबिक्स के लाभ

एरोबिक्स शरीर के लिए काफी फायदेमंद व्यायाम है इसकी मदद से शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखा जा सकता है। एरोबिक्स से आशय ऐसे व्यायाम से है, जिसे करने से शरीर में ऑक्सीजन की जरूरत बढ़ जाती है। चलना, दौड़  लगाना, जॉगिंग, नृत्य, साइकिल चलाना, तैराकी करना आदि को इसमें  शामिल किया जाता है।
benefits of aerobics

मस्तिष्क के लिए फायदेमंद है ऐरोबिक्स

नियमित एरोबिक्स न सिर्फ मस्तिष्क की क्रियाशीलता को बढ़ाता है बल्कि बल्कि बढ़ती उम्र के असर को भी घटाता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक हल्की कसरत से डिमेंशिया या अल्जाइमर्स (याददाश्त कम होना) के मरीजों के सोचने-समझने की क्षमता बढ़ जाती है। शोध के मुताबिक नियमित कसरत से मस्तिष्क के ऊतकों (टिश्यू) में वृद्धि होती है जिससे दिमाग अधिक एक्टिव होता है। मस्तिष्क में मौजूद उम्र से संबंधित पदार्थ में क्षय होने से कई प्रक्रियाओं जैसे योजना बनाना, याददाश्त और बहुलक्ष्यीय कार्यो (मल्टी-टास्‍किंग) को करने में कठिनाई आने लगती है। एरोबिक्स या हल्की कसरत से इस यौगिक की क्षय होने की प्रक्रिया को घटाया जा सकता है।


बीमारियों से बचाए ऐरोबिक्स  

एरोबिक्स व्यायाम से दिल और फेफड़ों को मजबूती मिलती है। शरीर में वसा और कोलेस्ट्रॉल की मात्र नियंत्रित करने में मदद मिलती है। मांसपेशियों में लचीलापन आता है और रक्तचाप नियमित होता है। हाल में छपे शोध के अनुसार सप्ताह में 150 मिनट एरोबिक्स व्यायाम के साथ वजन उठाने का अभ्यास करना टाइप 2 मधुमेह को कम करने में मदद करता है।


प्रसन्नचित्त बनाता है

व्यायाम करते समय शरीर में ‘एंडोर्फिन’ नामक हार्मोन का स्राव होता है, जो हमे खुश होने का एहसास दिलाता है । हमे आनंदित करता है और हमे तनाव कम होने की अनूभुति करता है । देखा जाये तो एरोबिक्स एक अत्यंत चुनौतीपूर्ण प्रक्रिया है जिस में हर चरण को पूर्ण करने पर हमें उपलब्धि और गर्व का एक एहसास होने लगता है । एरोबिक्स में की जाने वाली क्रियाओं से मांसपेशियां मजबूत होती हैं । हाथ, पैर, पेट, कमर, कंधे, हिप्स, शरीर के सभी अंग पुष्ट होने लगते हैं । जो लोग नियमित तौर पर एरोबिक्स का अभ्यास करते हैं उनकी नींद, मनोदशा और यहां तक की जीवनशक्ति सुधर जाती है ।

be happy

कैसे करें

एरोबिक्स आप किसी भी समय कर सकते हैं, पर यदि सुबह के समय नियमित शेड्यूल बनाते हैं तो कई स्तर पर फायदे देखने को मिल सकते हैं। एक सप्ताह में कम से कम तीन बार एरोबिक्स एक्सरसाइज करें। दो सत्रों के बीच में दो दिन से ज्यादा का अंतर न रखें, खासतौर पर यदि वजन कम करना हो।

  • एरोबिक्स व्यायाम की तीव्रता का स्तर न बहुत अधिक हो और न कम। इन दिनों कई नए तरीके के एरोबिक्स प्रोग्राम भी सिखाए जा रहे हैं, जिन्हें  अपनी सुविधा व व्यायाम लक्ष्यों को ध्यान में रख कर कर सकते हैं।
  • एक एक्सरसाइज सेशन कम से कम बीस मिनट का रखें। क्षमता के अनुसार धीरे-धीरे इसे बढ़ा कर साठ मिनट तक ले जा सकते हैं।
  • शुरुआत में ऐसी क्रियाएं चुनें, जिन्हें करने में आपको मजा आता है, मसलन तैराकी या साइकिल चलाना। इन दिनों पानी में किए जाने वाले कई तरह के व्यायाम सिखाए जाते हैं। बोरियत दूर करने के लिए समय-समय पर एरोबिक्स व्यायाम के तरीके बदल सकते हैं।  
  • व्यायाम शुरू करने से पहले पांच से दस मिनट शरीर को स्ट्रेच कर लें।
  • किसी अन्य तरह का वायरल या श्वास संबंधी संक्रमण है तो व्यायाम न करें। व्यायाम के दौरान सीने में दर्द हो तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।
  • एरोबिक्स के दौरान ऐसे कपड़े पहनें, जिससे त्वचा को हवा मिलती रहे और मूवमेंट में  किसी तरह की परेशानी न हो।

 

Read More Articles On Sports And Fitness In Hindi

Disclaimer