Hair Care Tips: ज्‍यादा शैंपू, कलरिंग और स्‍ट्रेटनिंग से बाल हो जाते हैं खराब, इन नेचुरल तरीकों से करें देखभाल

अगर बाल ज़्यादा झड़ रहे हैं या टूट रहे हैं, या डैंड्रफ हो रही है तो आपके लिए यह लेख कारगर साबित होगा। इसमें दिए गए टिप्स आपके बालों को देंगे एक नई रौनक।

Atul Modi
Written by: Atul ModiUpdated at: May 21, 2019 12:22 IST
Hair Care Tips: ज्‍यादा शैंपू, कलरिंग और स्‍ट्रेटनिंग से बाल हो जाते हैं खराब, इन नेचुरल तरीकों से करें देखभाल

एक अध्ययन के अनुसार, हर दिन लगभग सौ बाल टूटना सामान्य बात है लेकिन अगर बाल कंघी में ज़्यादा आ रहे हैं तो वह चिंता की बात है। यदि बालों की सही और प्राकृतिक तरीकों से देखभाल की जाए तो काफी हद तक बालों के झड़ने, असमय सफेद होने, डैंड्रफ और रूखे बालों से बचा जा सकता है। सही देखभाल न होने की वजह से आज ज्‍यादातर महिला और पुरुष बालों की तमाम तरह की समस्‍या से परेशान हैं। अगर आप भी बालों की अलग-अलग समस्‍या का समाधान चाहते हैं, तो नीचे दिए गए कुछ टिप्स को आज़माकर आप काफी हद तक बालों को झडऩे और अन्‍य परेशानियों से रोक सकते हैं।

 

ज्‍यादा शैंपू करने से बचें 

अगर आप नियमित रूप से एंटी-डैंड्रफ शैंपू का इस्तेमाल कर रही हैं तो अब इसे रोक दें। एंटी-डैंड्रफ का लंबे दिनों तक इस्तेमाल बालों की जड़ों को कमज़ोर और स्कैल्प को चिकना बना देता है। जिस स्थान पर बाल दोबारा नहीं उगते इसलिए इसका इस्तेमाल महीने में सिर्फ एक बार ही करें।

कलरिंग है खतरनाक 

बालों को अगर कलर करती हैं तो महीने में 1-2 बार कलरिंग न करें। एक बार कलर किए गए बालों में कम से कम 2 से 3 महीने का अंतराल ज़रूर रखें क्योंकि बालों में केमिकल आप जितना कम लगाएंगी, बाल उतना स्वाभाविक रूप से सांस ले सकेंगे।

स्‍ट्रेटनिंग बालों को करता है डैमेज 

अकसर देखा गया है कि सलॉन में ज़्यादातर स्त्रियां एक ही समय पर कलरिंग और स्ट्रेटनिंग ट्रीटमेंट लेती हैं। ऐसा न करें। कम से कम एक ट्रीटमेंट से दूसरे ट्रीटमेंट के बीच में चार सप्ताह का अंतराल दें और इस बीच अपनी डाइट में विटमिन एच (अंडे का सफेद भाग, केले, स्प्राउट्स और हरी सब्जि़यां) को ज़रूर शामिल करें। ये सभी चीज़ें बालों की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती हैं।

बाल सूखने के बाद करें कंघी 

अकसर ऑफिस की जल्दबाज़ी में बालों को वॉश करते ही कंघी करने लग जाते हैं। बालों को पूरी तरह से सूख जाने पर ही कंघी करें। कॉम्बिंग बालों की टिप से शुरू करते हुए इसे ऊपर की ओर ले जाते हुए कंघी करें।

बार-बार घरेलू पैक के प्रयोग से बचें 

नियमित रूप से तरह-तरह के घरेलू पैक आज़माने की गलती न करें। महीने में एक बार ही हर्बल ट्रीटमेंट आज़माएं। सिरके के साथ मेहंदी न मिलाएं। महीने में एक बार डीप ऑयलिंग करें। एक्सपर्ट के मुताबिक, अगर आप बालों के झडऩे से परेशान हैं तो भी ऑयलिंग से बचें। ज़्यादा तेल लगाने से भी बाल अधिक टूटते हैं।

माइल्‍ड शैंपू का प्रयोग 

कभी भी हेयर स्टाइलिंग जेल या स्ट्रेटनिंग क्रीम का ज़्यादा इस्तेमाल न करें। अगर इसको अप्लाई कर भी लिया तो अगले 10 दिन तक अपनी डाइट में अधिक प्रोटीन शामिल करें। बालों को हमेशा माइल्ड शैंपू से ही धोएं।

Buy Online: Himalaya Herbals Protein Shampoo, Gentle Daily Care, 400ml, MRP: 216/- and Offer Price: 162/-

सीरम का ज्‍यादा प्रयोग न करें 

हेयर सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना ज़रूरी नहीं है, लेकिन सप्ताह में 2-3 बार सूखे व बेजान बालों पर हेयर सीरम लगाया जा सकता है। इसे पुरुष और स्त्री दोनों ही लगाएं। ध्यान रखें कि बालों की जड़ों में सीरम न लगाएं। सिर्फ बालों के सिरों पर ही इसे अप्लाई करें।

सोरायसिस में तेल न लगाएं 

अगर स्कैल्प में सोरायसिस और डैंड्रफ भी है तो इनमें तेल न लगाएं। ऑयलिंग करने से रूसी ज़्यादा पनपती है इसलिए इसे न लगाएं। साथ ही बालों के लिए चौड़ी दांत वाली कॉम्ब का इस्तेमाल करें। महीन दांत वाली कंघी बालों को ज़्यादा तोड़ती है।

लंबे बालों की चोटी बनाएं 

यदि आपके बाल अधिक लंबे हैं तो इनकी चोटी बनाकर रखें। अगर पोनीटेल बांध रही हैं तो ज़्यादा टाइट न बांधें लेकिन रात में सोते समय बालों को खोल लें या इन्हें हलका बांधें। हेयरपिंस के ज़्यादा इस्तेमाल से बचें।

नियमित हेयरकट जरूरी  

पुरुष हर महीने हेयर कट लेते रहें, वहीं स्त्रियां भी 2-3 महीने में एक बार हेयर कट कराएं या बालों की ट्रिमिंग कराएं। ज़्यादातर पुरुष बालों को गीला कर जेल या क्रीम लगाते हैं। इन केमिकलयुक्त क्रीम व जेल का प्रयोग महीने में एक बार पानी के साथ मिलाकर करें।

हेयर स्‍पा कराएं 

हेयर स्पा एक अच्छा ऑप्शन है। इससे बाल अधिक स्वस्थ व मज़बूत बनते हैं। बालों में अगर स्ट्रेटनिंग थेरेपी या केराटिन करवाया है तो पावरडोज़ स्पा का आनंद लें। अगर ट्रीटमेंट आदि नहीं करवाया तो नॉर्मल हेयर स्पा लिया जा सकता है।

सावधानी से करें हेयर डाई 

ज़्यादातर पुरुष व स्त्रियां सलॉन न जाकर घर में ही हेयर डाई का इस्तेमाल करना पसंद करते हैं। अगर हेयर डाई घर में लगा रहे हैं तो सबसे पहले इसके लेबल पर चेक करें कि यह अमोनिया फ्री हो, साथ ही यह ब्रैंडेड हो। पैक पर दिए गए दिशानिर्देश के अनुसार इसे बालों में अप्लाई करना न भूलें।

पैराबीन फ्री शैंपू लें 

आजकल ज़्यादातर ब्यूटी प्रोडक्ट्स में पैराबीन फ्री लिखा होता है। शैंपू भी पैराबीन फ्री ही खरीदें। इससे बालों को किसी भी तरह का कोई नुकसान नहीं पहुंचता। गर्भावस्था के बाद बालों का झडऩा एक आम समस्या है, इसलिए इस बारे में तनाव न लें। एक अच्छे हेयर एक्सपर्ट की सलाह ली जा सकती है।

हेड रोलर्स का प्रयोग ज्‍यादा न करें 

बालों को घुंघराला बनाने के लिए हेड रोलर्स को रात भर अपने बालों पर लगाकर न छोड़ें। आपके बालों में उनका अधिकतम समय 3-4 घंटे तक ही होता है, इससे ज़्यादा होने पर बाल उसमें फंसकर टूटेंगे व कमज़ोर हो जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: युवाओं में तेजी से बढ़ रही है बाल झड़ने की समस्या, एक्सपर्ट से जानें देखभाल का तरीका

नियमित व्‍यायाम 

नियमित व्यायाम से शरीर में रक्त संचार बढ़ता है और सिर तक ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में पहुंचती है, जिससे बालों का झडऩा कम होता है। स्वस्थ रहना है तो रोज़ाना 15-30 मिनट व्यायाम करें। कहा जाता है कि दिन भर में आठ-दस ग्लास पानी ज़रूर पीना चाहिए। इससे न सिर्फ पाचन क्रिया बेहतर होती है, बल्कि हमारे चेहरे पर भी ताज़गी रहती है। इससे बाल भी स्वस्थ रहते हैं।

इसे भी पढ़ें: झड़ते और टूटते बालों से हैं परेशान तो अपनाएं नारियल का तेल, होंगे ये 5 फायदे

बाल क्‍यों झड़ते हैं? 

स्त्रियों में एंड्रोजेनेटिक एलोपेसिया को फीमेल पैटर्न बाल्डनेस और वहीं पुरुषों में मेल पैटर्न बाल्डनेस कहा जाता है। फीमेल पैटर्न बाल्डनेस बालों के गिरने की आनुवंशिक समस्या है, जिसमें पूरे सिर की त्वचा पर बाल क्रमिक रूप से खत्म होते हैं। जबकि पुरुषों में गंजेपन का कारण अकसर आनुवांशिक होता है। ज़्यादातर लोगों में यह देखा गया है कि भारी तनाव के कारण उनके बाल झड़ते हैं।

इसके अलावा बालों को सुखाने के लिए हेयर ड्रायर की मदद ली जाती है, जो बालों के टूटने के लिए सबसे ज़्यादा जि़म्मेदार है। बालों को सीधा या घुंघराला बनाने के लिए किए जाने वाले ट्रीटमेंट, जंक फूड का सेवन और खाने में पोषण की कमी भी बालों की समस्या के लिए जि़म्मेदार बनती है।

Read More Articles On Hair Care In Hindi

Disclaimer