गर्भावस्‍था के दौरान अधिक नहीं पौष्टिक भोजन करें

गर्भावस्‍था के दौरान आपका आहार कैसा हो। नए अध्‍ययन में कहा गया है कि अधिक भोजन की अपेक्षा पौष्टिक भोजन अधिक उपयोगी होता है।

 अन्‍य
लेटेस्टWritten by: अन्‍य Published at: Feb 11, 2013
गर्भावस्‍था के दौरान अधिक नहीं पौष्टिक भोजन करें

गर्भावस्‍था के दौरान महिला को अक्‍सर होने वाले शिशु का हवाला देकर अधिक खिलाया जाता है, लेकिन ताजा अध्‍ययन यह बताता है कि भोजन अधिक नहीं पौष्टिक होना चाहिए।

grabhavastha ke dauran adhik nahi paushtik bhojan karenगर्भावस्था के दौरान ज्यादा भोजन करने के बजाए पौष्टिक भोजन करना जच्चा-बच्चा, दोनों के लिए फायदेमंद होता है। एक नए अध्‍ययन में यह बात सामने आई है। इस अध्‍ययन में कहा गया है कि अगर गर्भावस्‍था के दौरान महिला पौष्टिक भोजन करे तो मां और शिशु दोनों को वजन संबंधी समस्‍याएं होने की संभावनाएं कम होती हैं। इसके साथ ही इससे दोनों का वजन संतुलन में मदद मिलती है।

[इसे भी पढ़ें- गर्भावस्‍था में अधिक खाना है खतरनाक]


न्यूजीलैंड में युनिवर्सिटी ऑफ ऑकलैंड की प्रसूति एवं स्त्री रोग की प्रोफेसर, लेजली मैकॉन का कहना है कि बड़े शिशु बड़े बच्चे बनते हैं और बाद में बड़े वयस्क। यदि हम इस पर रोक लगा सकें तो इसका स्वास्थ्य पर इसका एक बड़ा असर हो सकता है।

मैकॉन की अध्यक्षता में ही यह अध्‍ययन किया गया है। इस अध्‍ययन में इस बात का पता चला है कि पहली बार गर्भधारण करने वाली महिलाओं में से 74 प्रतिशत अतिरिक्त वजन का शिकार होती हैं।

[इसे भी पढ़ें- गर्भावस्‍था के शुरुआती हफ्तों का आहार]

ऑकलैंड युनिवर्सिटी के एक बयान के अनुसार मैकॉन अधिक वजन वाले शिशुओं के जन्म में कई तरह की परेशानियां पेश आने की ओर भी इशारा करती हैं। इसमें इस बात का भी अंदेशा जताया गया है कि इन बातों का मां के स्वास्थ्य और जान पर खतरा बढ़ जाता है।"

मैकॉन ने कहा कि यदि गर्भावस्था के दौरान खान-पान में सावधानी बरती जाए तो भविष्य में मोटापे का खतरा कम हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान अतिरिक्त वजन बढ़ाने वाली महिलाएं बाद में वजन कम करने में असफल होती हैं और इससे महिलाओं में मोटापा बढ़ता है।

[इसे भी पढ़ें- गर्भावस्‍था के बाद कैसे करें वजन कम]

 

शोध के परिणाम से पता चलता है कि सामान्य वजन का ध्यान रखना मां और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।

 

Read More Articles in Health News in Hindi

Disclaimer