जिम जाने से भी हो सकते हैं बीमार, जानें कौन से कारक हैं जिम्मेदार

जिम जाना स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। लेकिन कई बार जिम जाने की वजह से भी हम बीमार पड़ सकते हैं, जानें ऐसा क्यों होता है!

सम्‍पादकीय विभाग
एक्सरसाइज और फिटनेसWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jan 22, 2020
जिम जाने से भी हो सकते हैं बीमार, जानें कौन से कारक हैं जिम्मेदार

हम बेहतर स्वस्थ्य के लिए जिम में जाकर एक्सरसाइज करते हैं। लेकिन कई बार यह हमारे स्वास्थ्य लिए नुकसानदायक होता है। क्योंकि जिम में हमें कई रोगाणुओं के संपर्क में आते हैं जिससे हमें अनेक रोग होने का खतरा भी रहता है। लेकिन स्वस्थ जिम शिष्टाचार का पालन करके आप जिम से मिलने वाले रोगाणुओं से बच सकते हैं और खुद को बीमारियों से सुरक्षित रख सकते हैं। जिम जाने के दौरान आप खुद को रोगाणुओं के खतरे से बचा सकते हैं और एक बेहतर जिम का लाभ उठा सकते हैं। कई बार लोग जिम से मिलने वाले जोखिमों को बढ़ा-चाढ़ाकर बताते हैं जिससे हम जिम जाने से काफी डरने लगते हैं। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है। जिम जाना हमारी सेहत लिए नुकसानदायक है। रोजाना अनेक लोग हृदय संबंधी बीमारियों के कारण से मर जाते हैं और वहीं जिम जाकर रोजाना एक्सरसाइज करने से हृदय संबंधी रोगों से बचाव करने काफी मदद मिलती है। जानें जिम में आप किन रोगाणुओं को प्राप्त कर सकते हैं और इनसे कैसे बचा जा सकता है-

gym

जिम जाने के दौरान कोशिश करें कि अपने शरीर को स्वच्छ रखें। अपने हाथों को अच्छी तरह से धोकर साफ रखें, कट्स और स्किन ब्रेक को कवर करें। जिम में जूते पहनें, जिम करते समय जिम उपकरणों को इस्तेमाल करते हैं उन्हें इस्तेमाल करने से पहले और बाद अच्छे से धोकर साफ करें। ऐसा करने से आपको अपनी तौलिया और मैट्स को रोगाणुओं से दूर रखने में मदद मिल सकती है। 1,000 से अधिक जिम जाने वालों के किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार साफ-सफाई के प्रति सजग न होना रोगाणुओं को प्राप्त करने की एक बड़ी वजह है।

  • जिम जाने वाले 50 प्रतिशत से भी अधिक लोग जिम में बाथरूम इस्तेमाल करने के बाद अपने हाथ नहीं धोते हैं और जिम के उपकरणों का लगातार इस्तमाल करते रहते हैं।
  • 35 प्रतिशत उपकरणों को इस्तेमाल करने के बाद उन्हें पोंछकर साफ करते हैं। जबकि 25 प्रतिशत से अधिक महिलाओं ने हृदय संबंधी उपकरणों को कभी भी पोंछकर साफ नहीं करती हैं।
  • 38.4 जिम जाने वाले लोग दोपहर के बाद में उपकरण पोंछने में विफल रहते हैं, जबकि 21.2 प्रतिशत देर शाम को ऐसा करने में विफल रहते हैं।

gym

जिम जाना और अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाना बहुत जरूरी है। जिम जाते समय लोगों को बीमार होने के बारे में चिंतित नहीं होना चाहिए। यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर न्यू ऑरलियन्स के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. निर्वाण पटेल ने 'हैल्थ लाइन' को एक इंटर्व्यु के दौरान बताया कि जिम जाने के लाभ जोखिमों से अधिक हैं और ज्यादातर लोगों को जिम जाने के दौरान संक्रमण का खतरा अधिक नहीं होता है। लेकिन फिर भी कुछ रोगाणुओं के जानना बहुत जरूरी है जिससे आप उन रोगाणुओं से खुद को सुरक्षित रख सकें।

इसे भी पढ़ें: दौड़ने के बाद अचानक लगती है भूख? जाने इसके पीछे के कारण और भूख कम करने का तरीका

स्टैफ बैक्टीरिया (Staph bacteria)

स्टैफिलोकोकस संक्रमण (Staphylococcus infection) और एमआरएसए (MRSA) जिम उपकरणों, जैसे मशीन, फ्री व्हेट (Free Weight), मैट के अलावा तौलिए, बेंच, और लॉकर रूम में मौजूद हो सकते हैं। अगर आप खुद को इससे सुरक्षित रखना चाहते हैं तो जिम में एंटी बैक्टीरियल वाइप या स्प्रे का उपयोग करके उन उपकरणों को पोंछ लें या अपने तौलिया को अपने और अपने उपकरण के बीच में उपयोग करें।

फंगल इंफेक्शन (Fungal infections)

एथलीट के पैरों में खुजली अक्सर फंगस के समूह के कारण होती है जिसे डर्मेटोफाइट्स कहा जाता है। इस फंगस के करण दाद जैसी समस्याएं भी होती हैं। इसे आप लॉकर रूम से प्राप्त कर सकते हैं। ऐसे में अपने जूतों को बार-बार बदलते रहें ताकि उनसे हवा बाहर निकल सके। नमी को सोखने वाली सामग्री पहनने से पसीना सूखने में काफी मदद मिलती है जिससे गीला वातावरण नहीं बन रहता। इसके अलावा जिम के फर्श पर नंगे पैर टहलने की बजाए जूते पहनना फंगस को रोकने में काफी मददगार साबित हो सकता है।

gym

वायरस (Virus)

पैर के तले में गांठें होने का कारण ह्यूमन पैपिलोमावायरस (HPV) होता है। यह आमतौर पर एड़ी या पैरों के तलों पर विकसित होता है। जिम में नंगे पांव न रहें और नंगे पांव ज्यादा न टहलें। अपने पैरों को साफ पानी से धोएं और साफ तोलिए से पोंछें।

इसे भी पढ़ें: एक्सरसाइज की नहीं कर पा रहे शुरुआत? इन तरीकों से अपने आपको करें वर्कआउट के लिए तैयार

हर्पीज ह्यहर्पीरम (Herpes gladiatorum) जिसे मैट हर्पीस (Mat Herpes)भी कहते हैं यह सिम्प्ले्क्स वायरस टाइप-1 के कारण होता है। वर्तमान समय में यह यह समस्या होने का खतरा पहलवानों को होता है। क्योंकि वे खेल के समय एक दूसरे के निकट संपर्क में रहते हैं। अपने द्वारा इस्तेमाल किए गए उपकरणों और तौलियों से बचना शेयर करने से बचना चाहिए। इस स्थिति में अपने स्वयं के स्वच्छ सामान का उपयोग करना बहुत जरूरी है। एथलीट्स जो एक दूसरे के निकट संपर्क वाले खेलते हैं उन्हें मैट हर्पीस (Mat Herpes) होने का जोखिम होता है।

सोर्स- Healthline

Read more articles on Exercise Fitness in Hindi

Disclaimer