गाना गाइए और अस्थमा में पाइए राहत

गाना गाइए और अस्थमा में पाइए राहत : रिसर्च में यह साबित हुआ है‍ कि अपने पसंदीदा गाना गाने से सांस की परेशानी दूर होती है और इसके साथ ही आपका जीवनस्तर भी सुधरता है।

एजेंसी
लेटेस्टWritten by: एजेंसीPublished at: May 14, 2013
गाना गाइए और अस्थमा में पाइए राहत

gaana gaiye aur aasthma me paayiye rahat

फेफड़ों संबंधी बीमारियों के इलाज के लिए एक नया और संगीतमय तरीका सामने आया है। इसमें पता चला है कि गाना गाने से अस्थमा, ब्रोनचिटिज और एम्फीसिमा जैसी बीमारियों के इलाज में गाना बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है।


रिसर्च में यह साबित हुआ है‍ कि अपने पसंदीदा गाना गाने से सांस की परेशानी दूर होती है और इसके साथ ही आपका जीवनस्तर भी सुधरता है। ब्रिटेन के शीर्ष अस्पीतालों में यह तरीका आजमाया जाने लगा है।


रॉयल ब्रॉम्ट्आपकन हॉस्पिटल में कंसल्टेंट रेसपिरेटरी फिजीशियन डॉक्टीर निकोलस हॉपकिन्स का कहना है कि अन्य मरीजों को भी यह ग्रुप इतना ही फायदेमंद लगा।


उन्होंने कहा कि गाने में वही तकनीक आजमाई जाती है, जो साइकोथेरेपिस्ट लोगों को क्रॉनिक रेसपिरेटरी समस्याओं से निपटने के लिए सिखाते हैं। कई लोग पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन लेने के लिए सांस लेने का अपना ही तरीका ईजाद कर लेते हैं। हालांकि, सही दिशा-निर्देशों के बिना इससे समस्या और बढ़ सकती है। उदाहरण के लिए वे लोग छोटी और उथली सांसे लेने लगते हैं।


इससे बचने के लिए गाने की वर्कशॉप मददगार साबित हो सकती है। इसमें सिखाया जाता है कि अपनी पेट की मांसपेशियों को कैसे राहत पहुंचाई जाती। और कैसे सांस लेने के लिए उसी मांसपेशी का इस्तेमाल करते हुए हवा को शरीर के पूरे ऊपरी हिस्से में बहने दिया जाए।


इसमें लोगों को यह भी सिखाया जाता है कि कैसे बाहर निकलने वाली सांस की गति को धीमा किया जाए। इससे शरीर अधिक मात्रा में ऑक्सीजन अवशोषित करता है। इन कक्षाओं में सामान्य स्ट्रेचिंग व्यायाम भी सिखाए जाते हैं, जिससे शरीर से तनाव दूर किया जा सके।


महत्त्वपूर्ण बात यह है कि प्रतिभागियों को यह भी सिखाया जाता है कि गाने का अर्थ पहली ही सांस में सारी ताकत लगा देना नहीं है, बल्कि इसका लक्ष्य वायु को सभी स्वर तंत्रों में जाने देना है। इसके साथ ही सही पॉश्चेर के जरिए सही नोट लगाने में भी मदद करना है।


इस रिसर्च में मरीजों पर पड़ने वाले शारीरिक और मानसिक प्रभाव को भी देखा गया। इसके बाद उनकी तुलना अन्य पारंपरिक इलाज करवा रहे लोगों के साथ की गई। इसमें गाना गाने वाले मरीजों की सेहत में बड़ा सुधार देखा गया।

 

 

Read More Article on Health News in hindi.

Disclaimer