डोले बनाने के लिए जिम जाने की जरूरत नहीं

जानिए, बिना जिम में शरीर का पसीना बहाए आप कैसे बनायेंगे अपने डोले।

 ओन्लीमाईहैल्थ लेखक
लेटेस्टWritten by: ओन्लीमाईहैल्थ लेखकPublished at: Sep 03, 2012
डोले बनाने के लिए जिम जाने की जरूरत नहीं

dole banane ke liye jim jane ki jarurat nahi

वे सभी लोग जो डोले तो बनाना चाहते हैं, लेकिन जिम जाने से कतराते हैं, उनके लिए सुखद खबर है। ऑस्‍ट्रेलियाई वैज्ञानिकों की मानें तो लोगों को जल्‍द ही इससे राहत मिल सकती है। जिम जाए बिना ही मिलेगी दमदार बॉडी। कसरत में पसीना बहाने की नहीं होगी जरूरत। वैज्ञानिकों ने ऐसा प्रोटीन खोज निकाला है जो जिम जाने से तो राहत दिलाएगा, लेकिन उसके सारे फायदे आपको यूं ही मिलते रहेंगे। 'जीआरबी-10' नाम का यह प्रोटीन जिम में पसीना बहाए बिना ही शरीर की मांसपेशियों को गठीला बनाता है।  
इसे भी पढ़े: जिम में सावधानी
 
 ब्रिटिश अखबार 'डेली-मेल' के अनुसार सिडनी स्थित गार्वनर इस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल रिसर्च के वैज्ञानिकों ने गर्भवती चूहियों पर प्रयोग के दारैरान इस प्रोटीन की खोज की। सबसे पहले इन चूहियों को दो समूह में बांटा गया। पहले समूह की चूहियों के शरीर में 'जीआरबी-10' को प्राकृतिक रूप से काम करने दिया, जबकि दूसरे समूह में इस प्रोटीन की क्रिया बाधित कर दी। इसके बाद दोनों सूम में जन्‍में चूहों का तुलनात्‍मक अध्‍ययन किया गया। इस अध्‍ययन में पाया गया कि दूसरे समूह की चूहियों से पैदा हुए चूहों की मांसपेशियां ज्‍यादा विकसित थीं। 
 

 प्रमुख शोधकर्ता लोवेन्‍ना हॉल्‍ट ने बताया कि 'जीआरबी-10' मांसपेशियों के विकास में महत्त्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसकी क्रिया बाधित करने पर डोले बनाने के लिए व्‍यक्ति को न ही अपने आहार को नियंत्रित करना पड़ता है और न ही जिम में पसीना बहाना पड़ता है। हॉल्‍ट को उम्‍मीद है कि नए प्रोटीन की खोज मांसपेशियों का घनत्‍व बढ़ाने में मददगार साबित होगी। इससे चोट या सर्जरी के जख्‍म भी जल्‍दी भरे जा सकेंगे। 
इसे भी पढ़े कैसे रहें फिट
 
हालांकि एफएएसईबी जर्नल के संपदाक डॉक्‍टर गेराल्‍ड वेसमैन ने इन प्रयोगों के शुरुआती चरण में होने की बात कही। उनका कहना है कि इन प्रयोगों को अभी इंसानों पर जांचा जाना बाकी है। ऐसे में लोगों को फिट रहने के लिए संतुलित आहार योजना और कसरत आदि छोड़ना नहीं चाहिए। 
 
 
Disclaimer