जानें क्या है चिकनपॉक्स के प्रमुख लक्षण और इलाज के आसान तरीके

खान-पान में आई अनियमितता चिकन पाक्स के फैलने का प्रमुख कारण होती है। शरीर में तेजी से खुजली होना, लाल दाने निकल आना इस बीमारी के प्रमुख लक्षण हैं। 

सम्‍पादकीय विभाग
घरेलू नुस्‍खWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Feb 24, 2012
जानें क्या है चिकनपॉक्स के प्रमुख लक्षण और इलाज के आसान तरीके

बदलते मौसम के कारण कई बीमारियों और वायरल का खतरा बढ़ जाता है। उन्हीं में से एक है चिकन पॉक्स जो वेरीसेला जोस्टर नामक वायरस के कारण फैलता है। वैसे तो चिकन पॉक्स अब जानलेवा बीमारी नहीं है लेकिन यह काफी पीड़ित को काफी परेशानी करती है। ये एक ऐसी बीमारी है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को होने की संभावना होती है। इस स्थिति में मरीज को आइसोलेशन में रखना बहुत ही जरूरी होता है। 

चिकन पॉक्स को आम भाषा में लोग चेचेक भी कहते हैं। इसमें जो भी शख्स इसका शिकार होता है उसके पूरे शरीर पर फूंसियां हो जाती है। चेचेक का खतरा ज्यादातर छोटे बच्चों में होता है। चिकनपॉक्स के लिए टीका है, इसका टीकाकरण बच्चों में होता है लेकिन कभी-कभी उसके बाद भी यह रोग होने की आशंका रहती है, क्योंकि साफ-सफाई के अभाव में इस बीमारी फैलने की आशंका रहती है। बहुत से लोग इसलिए भी चेचेक की बीमारी से डरते हैं क्योंकि उन्हें इनके उपाय या फिर उन्हें इसके सही लक्षण के बारे में जानकारी नहीं होती। 

चिकनपॉक्स के लक्षण क्या है? 

कई लोग चिकनपॉक्स को पहचानने में देरी कर देते हैं या फिर इसे हल्की फुंसी मानकर ही नजरअंदाज कर देते हैं जिसकी वजह से कुछ दिनों बाद ही चेचेक अपने पूरे रूप में शरीर में फैल जाता है। चिकनपॉक्स का इलाज बहुत ही आसान और मरीज जल्दी ठीक हो जाता है। लेकिन उसके लिए जरूरी है कि मरीज को इसके लक्षणों की सही पहचान हो। चिकनपॉक्स के मुख्य लक्षण: 

  • बुखार। 
  • उल्टी। 
  • कमजोरी महसूस होना। 
  • शरीर में फुंसियां या फफोले निकलना।  
  • लगातार शरीर में तेज दर्द। 
  • लाल दाने पैदा होने लगते हैं। 
  • दानों में पानी भरने लगता है। 
  • भूख कम लगना। 
  • सिरदर्द रहना। 

इसे भी पढ़ें: आयुर्वेद से करें चिकनपॉक्स का इलाज

घरेलू इलाज

एलोवेरा

एलोवेरा चिकनपॉक्स के दौरान होने वाले फफोलों में काफी फायदेमंद साबित होता है। ये उन फुंसियों में ठंडक पहुंचाने का काम करता है। एलोवेरा में मौजूद एंटीइंफ्लामेटरी गुण होते हैं जो खुजली को कम करने के साथ ही बैक्टीरिया को भी मारने का काम करता है। इसका इस्तेमाल करने के लिए आप एलोवेरा की एक पत्ती लें और उसमें मौजूद जेल को निकाल लें। इस जेल को आप आराम से चकत्तों पर लगाएं। आप इसे रोजाना इस्तेमाल कर सकते हैं और इससे कुछ ही दिनों में आपको फुंसियां कम होती नजर आएंगी। 

नीम

नीम फुंसियों को जल्द खत्म करने का काम करती है। नीम में मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण चिकनपॉक्स से प्रभावित हिस्से को ठीक करने का काम करता है। ये उन फुंसियों में होने वाली खुजली को भी कम करता है। इसका इस्तेमाल करने के लिए नीम का पेस्ट बनाकर आप उन फुंसियों पर लगाएं। इसके अलावा आप चिकनपॉक्स में पानी में नीम की पत्तियों को उबालकर उससे नहा सकते हैं। 

विनेगर 

विनेगर भी आपको चिकनपॉक्स के दौरान राहत देने का काम करता है। आप विनेगर बाथ लेकर त्वचा से खुजली को दूर कर सकते हैं। विनेगर से फुंसियों से होने वाले दाग को भी खत्म किया जा सकता है। विनेगर में मौजूद माइक्रोबियल गुण प्रभावित त्वचा से इंफेक्शन को मारने का काम करता है। 

इसे भी पढ़ें: जानें चिकनपॉक्‍स के लिए कैसे करें नीम का इस्तेमाल

शहद 

अगर आप चिकनपॉक्स की चपेट में आ गए हैं या अगर नहीं भी आएं है और आपके शरीर में फुंसियां हैं तो आप ऐसे में शहद का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। ये आपके शरीर से फुंसियों को कम करेगा साथ ही आपको खुजली भी नहीं होगी। शहद का इस्तेमाल करने से आपके शरीर से दाग भी दूर हो सकते है। 

  Read More Article On Home Remedies In Hindi 
 
 
 
 
Disclaimer