बोन कैंसर की सर्जरी के बाद इन तरीकों से रखें मरीज का ख्याल, जल्दी होगी रिकवरी

Bone cancer surgery: बोन कैंसर की सर्जरी के बाद मरीज के शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं, जिसे अपनाना कई बार मुश्किल होता है। 

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasUpdated at: Sep 30, 2022 10:09 IST
बोन कैंसर की सर्जरी के बाद इन तरीकों से रखें मरीज का ख्याल, जल्दी होगी रिकवरी

Care after Bone cancer surgery: लाइफस्टाइल में हुए इतने बड़े बदलाव ने हमें कुछ दिया हो या नहीं। लेकिन बीमारियां जरूर दी हैं। लाइफस्टाइल में बदलाव, मानसिक परेशानियां और कई कारणों से भारत में कैंसर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। कैंसर का एक प्रकार है बोन कैंसर। ब्रेस्ट, लंग्स कैंसर के मुकाबले बोन कैंसर के मामले कम ही डायग्नोस किया जाता है, लेकिन वक्त के साथ बोन कैंसर के मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं।  सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (Center for Disease Control and Prevention) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार बोन कैंसर की समस्या होने पर ट्यूमर अत्यधिक गंभीर होता है, क्योंकि ट्यूमर बोन सेल्स यानी हड्डियों की कोशिकाओं से विकसित होता है। बोन कैंसर की सर्जरी के बाद मरीज को अतिरिक्त देखभाल की जरूरत होता है। इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं बोन कैंसर की सर्जरी होने के बाद मरीज (Care after Bone cancer surgery) का ध्यान कैसे रखना चाहिए।

इसे भी पढ़ेंः बालों पर भिंडी का जेल लगाने से दूर होंगी कई समस्याएं, जानें इस्तेमाल का तरीका

Why is outpatient care important after bone cancer surgery?

बोन कैंसर सर्जरी के बाद पेशेंट की देखभाल जरूरी क्यों हैं? - Why is outpatient care important after bone cancer surgery?

बोन कैंसर या किसी भी कैंसर की सर्जरी के बाद मरीज को अतिरिक्त देखभाल की जरूरत होती है। बोन कैंसर की सर्जरी के बाद मरीज के शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं, जिसे अपनाना कई बार मुश्किल होता है। इन बदलावों में शामिल हैः 

बाल झड़ना 

डायरिया

मुंह का अल्सर

भूख नहीं लगना

जी मचलना।

हल्की सी भी चोट लगने पर ब्लीडिंग होना।

बोन कैंसर सर्जरी के बाद मरीज की देखभाल कैसे करें? - How to take care of patient after bone cancer surgery?

बेड जमीन से जुड़ा होना चाहिए

बोन कैंसर सर्जरी के बाद मरीज का शरीर का काफी कमजोर पड़ चुका होता है। ऐसे में उसका बेड ऐसा होना चाहिए, जिससे वो आसानी से उतर और चढ़ सके। जहां तक संभव हो बैड ऐसा रखें जो जमीन को छू रहा हो। बाथरूम और पेशेंट का बेडरूम एक ही लेवल में होना चाहिए ताकि उसे ज्यादा परेशानी न हो।

संतुलित खानपान

बोन कैंसर की सर्जरी होने के बाद मरीज को तला, मसालेदार, हैवी फैट और तेज गंध वाले भोजन न खाने की सलाह दी जाती है। अगर सर्जरी के बाद मरीज को पेट में दर्द, मतली, उल्टी जैसी समस्या महसूस हो रही है तो उसे बासी खाना और कच्ची सब्जियों से परहेज करने की सलाह दी जाती है। इस स्थिति में मरीज को संतुलित खाने के लिए कहा जाता है। बोन कैंसर की सर्जरी के बाद मरीज को हल्का खाना खिलाएं, उसके खाने में सूप और लिक्विड वाली चीजों को शामिल करें।

इसे भी पढ़ेंः वजन घटाने के दौरान न करें ये 5 गलतियां, उल्टा बढ़ने लगेगा मोटापा

नोटपैड आसपास रखें

पेशेंट के पास नोट पैड और पेन जरूर रखें, जिससे पेशेंट कुछ लिखना चाहें तो लिख सकें। कैंसर की सर्जरी के बाद कई बार मानसिक तौर पर मरीज कमजोर पड़ जाता है और अपनी हर बात सबसे कह नहीं पाता है, ऐसे में मन में बेचैनी हो सकती है। नोटपैड पर मन की बातें लिखने से दिमाग शांत होता है।

वॉकर आसपास रखें

बोन कैंसर की सर्जरी के बाद मरीज को वॉकर की जरूरत पड़ती है। कई बार लोग सर्जरी के बाद मरीज को हाथ का सहारा देकर इधर-उधर ले जाने की कोशिश करते हैं। किसी की मदद से चलने के कारण मरीज का मानसिक संतुलन कमजोर होता है, इसलिए हमेशा उसके आसपास वॉकर रखें ताकि वो खुद से उठ, चल और घूम सके। खुद से अपने काम करने से मरीज को अच्छा लगता है। 

 

 

 

 

Disclaimer