ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन: कब और क्‍यों पड़ती है इस सर्जरी की जरूरत, जानें जोखिम और प्रक्रिया

Breastfeeding Week: ब्रेस्ट इंप्लांट सर्जरी के माध्यम से ब्रेस्ट के आकारों को बढ़ाया जाता है या उन्हें सुडोल बनाया जाता है। जानें यह कितना कारगर है। 

सम्‍पादकीय विभाग
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Dec 26, 2019Updated at: Jul 28, 2020
ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन: कब और क्‍यों पड़ती है इस सर्जरी की जरूरत, जानें जोखिम और प्रक्रिया

ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन (Breast Augmentation) एक प्रकार की ब्रेस्ट सर्जरी होती है। इसके जरिए ब्रेस्ट की शेप और साइज को ठीक किया जाता है साथ ही उन्हें बेहतर और आकर्षक बनाया जाता है। महिलाएं अपने ब्रेस्ट की कमियों को दूर करने के लिए कोई भी एक सर्जरी चुन सकती हैं। सिलिकॉन ब्रेस्ट इंप्लांटेशन (Silicone breast implantation) की तुलना में सेलाइन (Saline) आधारित ब्रेस्ट इंप्लांटेशन को ज्यादा सुरक्षित माना जाता है। सेलाइन आधारित ब्रेस्ट इंप्लांट में खतरा जरूर कम हो जाता है पर इसमें दूसरे तरह के जोखिम बरकरार रहते हैं। हालांकि ब्रेस्ट इंप्लांट महिलाओं को ब्रेस्ट से जुड़ी समस्याओं से निजात दिलाने में मदद करता है लेकिन इसके कई नुकसान भी देखने को मिलते हैं। जानें ब्रेस्ट इंप्लांट के साइड इफैक्ट के बारे में जिनसे महिलाओं को परेशानी हो सकती है।

ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन क्यों किया जाता है? 

  • स्वाभाविक रूप से छोटे स्तनों के आकार में वृद्धि के लिए।
  • गर्भावस्था, वजन घटाने या स्तनपान के बाद स्तन के आकार को पुनर्स्थापित करने के लिए।
  • ब्रेस्ट के सुडोलपन को बनाए रखने के लिए।
  • सर्जरी के बाद ब्रेस्ट को पुनर्स्थापित करने के लिए।

प्लास्टिक सर्जरी में रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी और कॉस्मेटिक सर्जरी शामिल हैं। रिकंस्ट्रक्टिव ब्रेस्ट सर्जरी का इस्तेमाल स्तन कैंसर के इलाज के रूप मे किया जा सकता है। कॉस्मेटिक ब्रेस्‍टसर्जरी एस्थेटिक प्रयोजनों के लिए किया जाता है। ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन मूल रूप से कॉस्मेटिक सर्जरी ही होती है।

2007 में फ्लोरिडा विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि कॉस्मेटिक सर्जरी द्वारा ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन महिलाओं के आत्मसम्मान और उनकी कामुकता की भावनाओं को बढ़ाती है। इसके परिणाम प्लास्टिक सर्जरी नर्सिंग में भी बताए गए थे।

breast

क्या है ब्रेस्ट इंप्लांट्स

ब्रेस्ट इम्प्लांट एक मेडिकल प्रोस्थेसिस है जिसे ब्रेस्ट के अंदर, स्तन के भौतिक रूप में वृद्धि व पुनर्निर्माण के लिए रखा जाता है।

ब्रेस्ट इंप्लांट्स के तीन मुख्य प्रकार

1- सेलाइन इंप्लांट्स

यह स्टिराइल सेलाइन से भरा सल्युशन है जैसे कि नमक का पानी। इस सल्युशन का इस्तेमाल इलास्टोमेर सिलिकॉन शेल के भीतर किया जाता है। इन इम्प्लांट्स को सेलाइन सल्युशन की विभिन्न मात्रा से भरा जा सकता है। यह स्तन की भावना, दृढ़ता और आकार को प्रभावित करता है। यदि सेलाइन इम्प्लांट्स लीक हो जाता है। तो सल्युशन को शरीर प्राकृतिक रूप से अवशोषित और निष्कासित कर सकता है।

2- सिलिकोन जेल-फिल्ड इंप्लांट्स

यह सिलिकोन जेल से भरे बाहरी आवरण से बनता है यदि सिलिकोन से भरा इंप्लांट लीक हो जाता है तो जेल या तो शेल में रहेगा या ब्रेस्ट इंप्लांट पॉकेट में बच जाएगा। ऐसे में सिलिकॉन से भरा इम्प्लांट लीक तो हो सकता है लेकिन गिर नहीं सकता। इस प्रकार के इम्प्लांट को चुनने वाले मरीजों को अपने डॉक्टर के साथ सलाइन सॉल्यूशन इम्प्लांट की तुलना में अधिक नियमित जांच करवानी चाहिए। एमआरआई या अल्ट्रासाउंड स्कैन की मदद से इम्प्लांट की स्थिति की जांच की जा सकती है।

3- अल्टरनेटिव कम्पोसाइट इंप्लांट्स

इन इंप्लांट्स को पॉलीप्रोपाइलीन स्ट्रिंग, सोया तेल या कुछ अन्य सामग्री से भरा जा सकता है।

क्या उम्मीद की जाती है?

ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन एक प्रकार की सर्जरी ही होती है। ऐसे में मरीजों को इस प्रक्रिया को चुनने से पहले इसके बारे में सावधानी से सोचने की जरूरत है। सर्जरी से पहले सर्जन जरूरत के अनुसार इंप्लांट का आकार चुनने में मरीज की मदद करनी चाहिए। आमतौर पर सामान्य अनास्थेटिक का उपयोग किया जाता है इससे मरीज सर्जरी के दौरान सो जाता है। कभी-कभी स्थानीय अनास्थेटिक का उपयोग किया जाता है इससे मरीज सर्जरी के दौरान जाग रहा होता है।

इसे भी पढ़ें : सर्दियों के मौसम में महिलाओं में बढ़ जाता है यूटीआई का खतरा, बचाव के लिए जानें जरूरी टिप्स

चीरे का विकल्प

  • सर्जन और मरीज को चीरा लगाने के विकल्पों पर भी चर्चा करनी चाहिए।
  • स्तन के नीचे क्रीज में किया गया इन्फ़रमैमैरी चीरा
  • बगल या कांक में चीरा
  • निपल के चारों ओर पेरिअरेअर चीरा
  • चीरा लगाने का विकल्प कई कारकों पर निर्भर करता है, जिसमें स्तन में वृद्धि कितनी हुई है, रोगी की शारीरिक रचना कैसी है, इंप्लांट्स का प्रकार और सर्जन-रोगी वरीयता शामिल है।

चीरों को बंद करना

सर्जन स्तन के ऊतकों में स्तरित टांके, या टांके के साथ चीरों को बंद कर देता है। टांके, त्वचा चिपकने वाले सर्जिकल टेप त्वचा को बंद करने मदद करते हैं। हालांकि इससे चीरे की लाइनें व निशान शरीर पर रह जाते हैं लेकिन समय के साथ यह निशान फीके पड़ जाते हैं।

क्या परिणाम होते है? 

सर्जरी के बाद थोड़ी सूजन रह जाती है लेकिन इसका समाधान 2 सप्ताह के भीतर निकालकर ठीक कर लेना चाहिए। चीरा लगाने के बाद चीरे के निशान भी पड़ जाएंगे। इसके बाद, रोगी यह तय करने में सक्षम होगा कि क्या यह प्रक्रिया उसकी अपेक्षाओं को पूरा करती है।

रिकवरी के लिए क्या करें?

अनेस्थेटिक बंद होने के बाद रोगी को दर्द से राहत से राहत पाने के लिए पैनकिलर दी जाती है। एक सामान्य अनेस्थेटिक के बाद, रोगी ड्राइव करने में सक्षम नहीं होगा। उन्हें घर ले जाने के लिए दोस्त की व्यवस्था करनी चाहिए। अवशोषक या अपूरणीय टांके आमतौर पर 6 सप्ताह के भीतर ठीक हो जाते हैं। यदि मरीज के टांके पूरी तरह ठीक नहीं होते हैं या ड्रेनेज ट्यूब को स्तनों के पास रखा जाता है। तो ऐसे में उन्हें हटाने के लिए सर्जन से परामर्श लेना अनिवार्य है।

ऐसी स्थिति महसूस होने पर तुरंत मेडिकल हेल्प लें

  • इंफेक्शन का कोई भी संकेत जैसे कि बुखार, या स्तन क्षेत्र में गर्मी और लालिमा दिखाई देने पर।
  • सीने में दर्द की समस्या होना, दिल की धड़कन असामान्य होना या सांस लेने में तकलीफ होने पर।

मरीज को 6 हफ्ते तक किसी भी प्रकार की शरीरिक गतिविधि नहीं करनी चाहिए। हालांकि डॉक्टर कुछ पोस्ट-ऑपरेटिव एक्सरसाइज करने की सलाह दे सकते हैं जैसे फ्लेक्सिंग और बाहों को हिलाना, जिससे की दर्द और असुविधा को दूर किया जा सके। साथ ही किस प्रकार की ब्रा पहननी चाहिए इसकी सलाह भी डॉक्टर द्वारा दी जाती है।

breAST

जोखिम और कॉम्प्लिकेशन

किसी भी सर्जिकल प्रक्रिया को करने में जोखिम जरूर होता है। जो रोगी ब्रेस्ट रिकंस्ट्रक्शन से गुजरते हैं, उनमें सिलिकॉन जेल इंप्लांट्स वाली 46 प्रतिशत महिलाएं और 21 प्रतिशत लोग सेलाइन इंप्लांट्स के साथ कम से कम 3 साल के भीतर एक अतिरिक्त ऑपरेशन करते हैं। सलाइन इंप्लांट्स वाली आठ प्रतिशत महिलाओं और लिकॉन इंप्लांट्स वाले 25 प्रतिशत लोगों ने उपकरणों को हटाने के लिए सर्जरी की थी। 50 प्रतिशत लोगों के आसपास लोगों ने कॉस्मेटिक ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन के बाद कुछ कॉम्प्लिकेशन महसूस किए जैसे उदाहरण के लिए, दर्द, सख्त होना, इंफेक्शन या अतिरिक्त सर्जरी की जरूरत पड़ना। 

इसे भी पढ़ें : दिल से लेकर दिमाग को स्‍वस्‍थ रखने और मांसपेशियों के लिए फायदेमंद है जंपिंग रोप्‍स, जाने कैसे करें

ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन से जुड़े जोखिम

  • स्तन में दर्द होना
  • इंफेक्शन
  • स्तन, निपल्स या दोनों में सनसनी अस्थायी रूप से बदल सकती है।
  • इंप्लांट का टूटना या लीक होना।
  • ब्लीडिंग
  • द्रव संचय

कैप्सुलर सिकुड़न का अर्थ इम्प्लांट के आस-पास के क्षेत्र को सख्त करना है। यह इम्प्लांट के आकार को विकृत कर सकता है इससे दर्द हो सकता है। निशान लाल, मोटे और दर्दनाक हो सकते हैं। कभी-कभी उन्हें आगे की सर्जरी की आवश्यकता होती है।

इंप्लांट्स और ब्रेस्ट कैंसर

अमेरिकी खाद्य और औषधि प्रशासन (एफडीए) उन रिपोर्टों की जांच कर रहा है जिनमें सेलाइन और सिलिकॉन गैस से भरे ब्रेस्ट इंप्लांट वाली महिलाओं में एनाप्लास्टिक बड़े सेल लिंफोमा विकसित होने का अधिक जोखिम होता है। ऑस्ट्रेलिया में एफ. डी. ए. के अनुसार इस दुर्लभ प्रकार के कैंसर के 46 निश्चित मामले तथा तीन घातक घटनाएं हुई हैं। आंकड़ों से पता चलता है कि इस तरह के कैंसर के विकास का जोखिम ब्रेस्ट इंप्लांट वाली 1,000 में से 1 या 10,000 महिलाओं में से 1 को होता है। ऑस्ट्रेलियाई सरकार के अनुसार, 2011 और 2016 के बीच 23 मामले सामने आए।

इंप्लांट्स के साथ स्तनपान

ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन एक महिला की स्तनपान करने की क्षमता को प्रभावित कर सकती है। इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन (IOM) का कहना है कि जिन महिलाओं के ब्रेस्ट इंप्लांट हुए हैं जिनके पास नर्सिंग के लिए अपर्याप्त दूध की आपूर्ति है वे अन्य महिलाओं की तुलना में तीन गुना अधिक हैं। स्तन के दूध की सुरक्षा के बारे में, रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) ने 2009 में प्रकाशित जानकारी को यह कहते हुए अपडेट नहीं किया है कि "स्तनपान के लिए एक कोंट्रेंडिकेशन के रूप में सिलिकॉन इंप्लांट को वर्गीकृत करने के लिए अपर्याप्त सबूत हैं।" हालांकि जिन शिशुओं का जन्म हुआ और जिनके द्वारा इंप्लांट किया गया उनके कुछ शिशुओं के इंप्लांट से पहले पैदा हुए भाई-बहनों की तुलना में उनके खून में जहरीले पदार्थों का स्तर उच्च पाया गया है।

अन्य जोखिम

ऐसा माना जाता है कि जहरीले पदार्थों से महिलाओं में न्यूरोलॉजिकल लक्षण देखने को मिल सकते हैं ऐसे में सोच और यादों के साथ समस्याएं हो सकती हैं। इम्प्लांट के ऊपर के स्तन की त्वचा फट सकती है या या उसमें झुर्रियां आ सकती है खासतौर पर उन महिलाओं में जो बहुत पतली हैं या जो अचानक बहुत भारी काम कर लेती हैं। यदि एक महिला इंप्लांट को हटाने का विकल्प चुनती है तो उसके स्तन सर्जरी से पहले कम आकर्षक लग सकते हैं। यदि इंप्लांट फट जाता है तो सर्जरी को हटाने का मतलब स्तन ऊतक का नुकसान हो सकता है। ब्रेट ऑग्मेंटेशन सर्जरी महंगी हो सकती है।

Read More Articles on Women health in Hindi

Disclaimer