बच्चों के लिए आयुर्वेदिक तरीके से घर पर बनाएं टूथपेस्ट, दांत रहेंगे स्वस्थ

Teeth and Gum Care: आजकल के बच्चों को जंक फूड, कोल्ड ड्रिंक्स और चॉकलेट खाने की वजह से कई तरह की डेंटल प्रॉब्लम का सामना करना पड़ रहा है।

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Jul 11, 2022Updated at: Jul 11, 2022
बच्चों के लिए आयुर्वेदिक तरीके से घर पर बनाएं टूथपेस्ट, दांत रहेंगे स्वस्थ

चमचमाते हुए दांत हर इंसान की खूबसूरती में चार चांद लगाते हैं। घर के बड़े-बुजुर्ग कहते हैं दांत हेल्दी रहे तो पेट भी दुरुस्त रहता है, क्योंकि दांत खाने को अच्छे से चबाने में मदद करते हैं। खाना अच्छे से चबाकर खाने की वजह से पेट को हेल्दी रखने और पाचन क्रिया को दुरुस्त बनाए रखने में मदद मिलती है। लेकिन इन दिनों ज्यादा बच्चों के दांत कमजोर होने लगे हैं। इसकी मुख्य वजह है जंक फूड का सेवन और दांतों की सही तरीके से देखभाल न होना।

यूं तो हेल्दी और मजबूत दांतों का दावा करने वाले कई टूथपेस्ट आज बाजार में मौजूद हैं, लेकिन इनमें से ज्यादातर में कैमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आपके बच्चे के दांत कमजोर और पीले पड़ गए हैं और आप बाजार में मिलने वाले टूथपेस्ट का प्रयोग करके थक गए हैं, तो आयुर्वेदिक पद्धति को अपनाकर इसे घर पर ही तैयार कर सकती हैं।

इसे भी पढ़ेंः घर पर बनाएं 100% नैचुरल हेयर सीरम, बाल रहेंगे हेल्दी

घर पर टूथपेस्ट बनाने के लिए सामग्री - Ingredients for making Toothpaste at Home

  • लौंग का तेल - 2 चम्मच
  • यूकेलिप्‍टस तेल - 2 चम्मच
  • हल्दी पाउडर - 4 चम्मच
  • सरसों का तेल - 1 चम्मच
  • सेंधा नमक - 3 चम्मच

How to make Toothpaste at home

घर पर कैसे बनाएं टूथपेस्ट-  How to make Toothpaste at home

  • लौंग का तेल, यूकेलिप्‍टस ऑयल, हल्दी पाउडर, सरसों का तेल और सेंधा नमक को एक बाउल में डालकर मिक्स  कर लें।
  • आपके पास एक स्मूथ पेस्ट तैयार हो जाएगा। अगर आपको लगता है कि पेस्ट ज्यादा गाढ़ा है तो आप इसमें 1 से 2 चम्मच सरसों का तेल और डाल सकते हैं।
  • इस पेस्ट को एक कांच के डिब्बे में स्टोर कर लें।
  • घर पर बनाएं इस पेस्ट का इस्तेमाल दिन में 2 बार करें।

क्यों फायदेमंद है घर पर बना टूथपेस्ट

घर पर बने टूथपेस्ट में सेंधा नमक का इस्तेमाल किया गया है। सेंधा नमक में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो दांतों को बैक्टीरियल इन्‍फेक्‍शन से बचाते हैं। जिन लोगों को दातों में पीलापन की शिकायत होती है उन्हें सेंधा नमक और सरसों का तेल मिक्स करके दांतों को ब्रश करने की सलाह दी जाती है।

होम मेड टूथपेस्ट में मौजूद सरसों के तेल में एंटी-ऑक्सीडेंट्स गुण पाए जाते हैं। यह दांतों को लंबे समय तक हेल्दी रखने में मदद करते हैं। अगर आपको सरसों के तेल से एलर्जी है तो इसकी जगह आप तिल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

दांत का दर्द होने पर घर के बड़े बुजुर्ग अक्सर लौंग का तेल इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। लौंग के तेल में मौजूद यूजेनॉल में प्राकृतिक एनेस्थेटिक पाया जाता है, जो मुंह के बैक्टीरिया और सूजन को कम करने का काम करता है।

यूकेलिप्‍टस ऑयल यानी की नीलगिरी के तेल में एंटी-माइक्रोबियल गुण पाए जाते हैं, जो दांतों की सड़न को कम करने का काम करते हैं। जिन लोगों को मुंह या दांतों में किसी तरह का इंफेक्शन होता है उन्हें भी यूकेलिप्‍टस ऑयल का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

Disclaimer

Tags