Expert

Aphasia (वाचाघात): बोलने से जुड़ी इस बीमारी के कारण हॉलीवुड एक्टर Bruce Willis को छोड़नी पड़ी एक्टिंग

Aphasia (वाचाघात) एक ऐसी बीमारी है, जिससे पीड़ित व्यक्ति को बोलने और लिखने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है। आइए जानते हैं इस बारे में-

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Mar 31, 2022Updated at: Mar 31, 2022
 Aphasia (वाचाघात):  बोलने से जुड़ी इस बीमारी के कारण हॉलीवुड एक्टर Bruce Willis को छोड़नी पड़ी एक्टिंग

हॉलीवुड के मशहूर एक्शन हीरो ब्रूस विलिस  (Hollywood Action Star Bruce Willis) एक गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं। इस बीमारी की वजह से उन्होंने अपने करियर को अलविदा कह दिया है। ब्रूस की बेटी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए कहा है कि ब्रूस कुछ हेल्थ इश्यूज का सामना कर रहे हैं। जिसके चलते उन्होंने अपने एक्टिव करियर को छोड़ने का फैसला लिया है। बता दें कि हाल ही में जानकारी मिली है कि ब्रूस वाचाघात (Aphasia in Hindi) नामक बीमारी से जूझ रहे हैं। यह मस्तिष्क से जुड़ी एक बीमारी है।, जिससे पीड़ित व्यक्ति को बोलने, लिखने और समझने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है। इस बीमारी से जुड़ी जानकारी के लिए हमने ग्वालियर स्थिति विजयाराजे सिंधिया कॉलेज की मनोवैज्ञानिक प्रोफेसर डॉ. नीरा श्रीवास्तव से बातचीत की। आइए विस्तार से जानते हैं इस बीमारी के बारे में- 

वाताघात क्या है? ( What is Aphasia in Hindi )

डॉ. नीरा श्रीवास्तव बताती हैं कि वाचाघात (What is Aphasia) एक ऐसी स्थिति है, जिससे पीड़ित व्यक्ति को कम्युनिकेट करने में काफी समस्या होती है। इसमें बोलने, लिखने  की क्षमता को प्रभावित कर सकता है। आमतौर पर यह बीमारी सिर पर अचानक से चोट लगने या फिर स्ट्रोक की वजह से होती है। हालांकि, कुछ स्थितियों में यह ब्रेन ट्यूमर, संक्रमण या फिर मस्तिष्क से जुड़ी कोई अन्य बीमारी के बढ़ने की वजह से भी हो सकता है। वाचाघात की गंभीरता कई स्थितियों (कारण और मस्तिष्क की क्षति) पर निर्भर करती है। वहीं, इस समस्या का इलाज इसके कारणों के आधार पर किया जाता है। मुख्य रूप से वाचाघात का इलाज स्पीच और लैंग्वेज थेरेकी के द्वारा किया जाता है। 

वाचाघात के लक्षण ( Aphasia Symptoms in Hindi)

वाताघात एक मानसिक विकार है। इसके पीड़ित व्यक्ति में निम्न लक्षण दिख सकते हैं-

  • छोटे या अधूरे वाक्य बोलना
  • किसी मतलब के शब्दों का प्रयोग न करना। 
  • ऐसे शब्द बोलना जिसका कोई अर्थ न हो। 
  • बिना मतलब के शब्दों का प्रयोग करना
  • लोगों की बातों को समझने की कोशिश न करना।
  • फोटो या फिर चिन्ह की मदद से बातों को समझना
  • पीड़ित व्यक्ति के लिखे शब्दों का कोई अर्थ न होना।

वाचाघात के कारण (Aphasia Causes in Hindi)

डॉक्टर नीरा श्रीवास्तव का कहना है कि वाचाघात (Aphasia Causes in Hindi) का सबसे आम कारण स्ट्रोक की वजह से मस्तिष्क में किसी तरह की क्षति होना, जिसमें ब्रेन की नसों का डैमेज होना या फिर ब्लड के संचार में रुकावट होना शामिल है। मस्तिष्क में खून की कमी होने से मस्तिष्क की कोशिकाएं नष्ट होने लगती हैं। इसके अलावा मस्तिष्क में लैंग्वेज को नियंत्रित करने वाले क्षेत्रों में किसी तरह की समस्या उत्पन्न होने की वजह से वाचाघात की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Rumer Willis (@rumerwillis)

इसके अलावा वाचाघात के कुछ अन्य कारण भी हो सकते हैं, जिसमें सिर में रूप से गंभीर चोट, ब्रेन ट्यूमर होना, ब्रेन में संक्रमण फैलना इत्यादि हो सकते हैं। इन स्थितियों में वाचाघात के साथ-साथ पीड़ित व्यक्ति को अन्य तरह की समस्याएं हो सकती हैं, जिसमें मेमोरी लॉस और कंफ्यूजन शामिल है।

एक्सपर्ट बताती हैं कि वाचाघात कभी-कभी अस्थायी रूप से भी प्रभावित करता है, जो माइग्रेन, सिजुरे (सिजुरे डिसऑर्डर से ग्रसित व्यक्ति को दौरे पड़ते ) या  ट्रांसिएंट इस्केमिक अटैक (transient ischemic attack) के कारण हो सकते हैं।  

ट्रांसिएंट इस्केमिक अटैक किसी व्यक्ति को तब होता है, जब मस्तिष्क में किसी कारण से ब्लड सर्कुलेशन में अवरुद्ध उत्पन्न होती है। टीआईए से ग्रसित व्यक्ति को भविष्य में स्ट्रोक होने का खतरा रहता है। 

वाचाघात का निदान (Aphasia Diagnosis in Hindi)

इस समस्या का निदान करने के लिए  डॉक्टर सबसे पहले आपकी शारीरिक और नर्व्स से संबंधित टेस्ट ले सकता है। इसके बाद आपकी क्षमता की जांच सकता है। इसके बाद कुछ अन्य टेस्ट करने कर सकते हैं। जैसे- 

  • रोगी से बातचीत 
  • शब्दों को समझाने की कोशिश
  • लिखना और पढ़ने का टेस्ट
  • वाक्यों को समझाने और समझने का टेस्ट इत्यादि।

वाचाघात का इलाज (Aphasia Diagnosis Treatment in Hindi)

डॉक्टर बताती हैं कि अगर किसी बीमारी जैसे- ट्यूमर या संक्रमण की वजह से वाचाघात की समस्या हुई है, तो यह परेशानी दूर होने पर वाचाघात की समस्या भी ठीक हो जाती है। हालांकि, कुछ स्थितियों में मरीजों को बोलने और समझने के लिए स्पीच और लैग्वैज थेरेपी दी जाती है, जिससे व्यक्ति को बोलने और लिखने में आसानी हो सके। 

स्पीच थेरेपी - इस थेरेपी की मदद से व्यक्ति के बोलने की क्षमता को सुधारने की कोशिश की जाती है। हालांकि, यह काफी धीमी प्रक्रिया होती है। लेकिन धीरे-धीरे कोशिश करने पर व्यक्ति सही शब्दों का प्रयोग करने में सफल हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - मस्तिष्क (ब्रेन) में सूजन के लक्षण, कारण और इलाज

लैंग्वेज थेरेपी - इस थेरेपी में भाषा को समझने और लिखने-पढ़ने की क्षमता में सुधार करने की कोशिश की जाती है। साथ ही कुछ अन्य एक्टिविटी करने के लिए दिया जाता है, जिसमें कंप्यूटर का प्रयोग, मोबाइल का प्रयोग, ग्रुप में बातचीत इत्यादि  शामिल हैं।  

वाचाघात एक ऐसी स्थिति है, जिसमें व्यक्ति को संचार करने में परेशानी आती है। अगर आपके आसपास इस तरह का कोई व्यक्ति है, तो उनका किसी अच्छे मनोवैज्ञानिक से इलाज कराएं। ताकि इस समस्या से पीड़ित व्यक्ति में सुधार आ सके।

Disclaimer