स्वाइन फ्लू

स्वाइन फ्लू सूअरों और मनुष्यों दोनों को प्रभावित कर सकता है। यह एक श्वसन रोग है जो कि इन्फ्लूएंजा ए वायरस (Influenza Virus-A) से होता है। इन्फ्लूएंजा ए वेरिएंट सबटाइप एच 1 एन 1 आमतौर पर मनुष्यों में स्वाइन फ्लू का कारण है। यह इन्फ्लूएंजा वायरस के H1N1 उपप्रकार के समान आनुवंशिक विशेषताएं है जो सूअरों में इन्फ्लूएंजा का कारण बनता है।  सूअरों में इन्फ्लूएंजा उत्पन्न करने वाले अन्य मुख्य उपप्रकारों में एच 1 एन 2 और एच 3 एन 2 शामिल हैं। H1N1 वायरस,  एक सामान्य वायरस बन गया है जो प्रत्येक फ्लू के मौसम में फैलता है। वहीं स्वाइन फ्लू को लेकर वैज्ञानिकों को ये भी मानना है कि ये वायरस समय के साथ बदल सकता है और कई जटिलाताओं पैदा कर सकता है। 

स्वाइन फ्लू के कारण- Causes of Swine Flu

स्वाइन  फ्लू सूअरों की एक ऐसी बीमारी है जो कि इंसानों तक भी पहुंच सकती है। यह एक अत्यधिक संक्रामक श्वसन रोग है जो कई इन्फ्लुएंजा ए वायरस में से एक के कारण होती है। स्वाइन फ्लू के इतिहास की बात करें, तो 1998 में, चार अमेरिकी राज्यों में सूअरों में स्वाइन फ्लू पाया गया था। एक साल के भीतर, यह पूरे अमेरिका के सुअर की आबादी में फैल गया था। वैज्ञानिकों ने पाया कि इस विषाणु की उत्पत्ति सूअरों में पक्षियों और मनुष्यों से फ्लू के उपभेदों के एक पुनः संयोजक के रूप में हुई थी। हालांकि अतीत में बीमारी को पकड़ने वाले लोगों का सूअरों से सीधा संपर्क था, लेकिन H1N1 अब उन लोगों में भी फैल सकता है, जो सूअरों के पास नहीं हैं। सबसे अधिक, स्वाइन फ्लू H1N1 इन्फ्लूएंजा उपप्रकार का है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण- Swine Flu Symptoms

स्वाइन फ्लू के लक्षण नियमित फ्लू की तरह ही होते हैं।

  • -शरीर में दर्द
  • -ठंड लगना
  • -खांसी
  • -सरदर्द
  • -गले में खराश
  • -बुखार
  • -थकान
  • -उल्टी और दस्त
    • गंभीर मामलों में, लंग्स फेलियोर और मृत्यु हो सकती है, लेकिन यह दुर्लभ है। ज्यादातर लोगों में ये लक्षण अपेक्षाकृत हल्के होते हैं। हालांकि, छोटे बच्चों, बड़े लोगों, गर्भवती महिलाओं, जिनकी इम्यूनिटी कमजोर होती है उनमें ये फ्लू आसानी से हो सकता है। साथ ही नियमित फ्लू की तरह, स्वाइन फ्लू से निमोनिया, फेफड़े में संक्रमण और सा्स लेने की समस्या सहित कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। यह मधुमेह या अस्थमा जैसी बीमारी को भी बदतर बना सकता है। अगर आपको सांस से जुड़ी परेशानी है, तो ये गंभीर उल्टी, आपके पेट या पक्षों में दर्द, चक्कर आना या भ्रम जैसे लक्षण शामिल हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर को कॉल करें। वैज्ञानिकों ने 2009 के प्रकोप के बाद एच 1 एन 1 से मनुष्यों की रक्षा के लिए एक टीका विकसित किया। तब से, H1N1 के खिलाफ संरक्षण नियमित मौसमी फ्लू शॉट का हिस्सा बन गया है।

      स्वाइन फ्लू से ज्यादा खतरा किसे हैं-Risk factors

      डॉक्टर अब H1N1 को एक फ्लू स्ट्रेन मानते हैं जो लोगों में हो सकता है और मौसमी फ्लू वायरस के साथ फैल सकता है। किसी भी व्यक्ति को ये हो सकता है जो कि H1N1 से संक्रमित है। जो लोग सूअर के साथ काम करते हैं, उन्हें जानवरों से नए प्रकार के फ्लू या अन्य बीमारियों के अनुबंध का खतरा हो सकता है। इन्हें जूनोटिक रोगों के रूप में जाना जाता है। कुछ लोगों में फ्लू का खतरा अधिक होता है, जिनमें एच 1 एन 1 या गंभीर लक्षण या जटिलताएं शामिल हैं। इन व्यक्तियों में शामिल हैं:

      • -65 वर्ष से अधिक आयु के लोग
      • -5 साल से कम उम्र के बच्चे
      • -मधुमेह, एचआईवी या कैंसर जैसी स्थितियों वाले लोग
      • -प्रेग्नेंट औरत
      • -फेफड़े की पुरानी बीमारी, जैसे अस्थमा
      • - पुराने हृदय रोग वाले लोग
      • - कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों में
      • -न्यूरोलॉजिकल स्थितियों वाले बच्चों में 
      • -रेयेस सिंड्रोम बच्चों में एस्पिरिन के उपयोग से जुड़ी एक जानलेवा बीमारी है, उन्हें भी इस बीमारी का बहुत अधिक खतरा है। 
      • -प्रेग्नेंट महिलाओं को
      • -वयस्क और फेफड़ों से जुड़ी क्रोनिक की बीमारी से
      • - हृदय, यकृत, रक्त, तंत्रिका तंत्र, न्यूरोमस्कुलर, या चयापचय समस्याओं वाले लोगों को
      • -वयस्क और बच्चे जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो।
        • हर साल, विशेषज्ञों का अनुमान है कि फ्लू के मौसम में कौन से फ्लू वायरस के खिंचाव की संभावना होती है, जो आमतौर पर सर्दियों में होती है। वे उन प्रकारों के अनुसार टीके तैयार करते हैं जो सबसे अधिक होने की संभावना है। विशेषज्ञों का अनुमान है कि एच 1 एन 1 का कोई स्ट्रेन महामारी का कारण बन सकता है। स्वाइन फ्लू  एक मौसमी फ्लू है जिसकी पहचान करना इतना आसान नहीं है। ऐसे में एक लैब टेस्ट यह जानने का एकमात्र तरीका है। यहां तक आप एक रैपिड फ्लू टेस्ट भी करवा सकते हैं। स्वाइन फ्लू का परीक्षण करने के लिए आप डॉक्टर आप स्वाब ले सकता है, जो आपके गले के पिछले हिस्से के आसपास आपकी नाक के अंदर से लिया जाता है। लेकिन ये परीक्षण नियमित फ्लू के लिए आम या व्यापक नहीं है। फिर लोगों को इलाज किया जाता है।

          इसका इलाज कैसे किया जाता है-Treatment for Swine Flu

          मौसमी फ्लू के इलाज के लिए इस्तेमाल होने वाली कुछ ऐसी ही एंटीवायरल दवाएं भी H1N1 स्वाइन फ्लू के खिलाफ काम करती हैं। Oseltamivir (Tamiflu), Peramivir (Rapivab) और zanamivir (Relenza) सबसे अच्छा काम करते हैं, हालांकि कुछ प्रकार के स्वाइन फ्लू में ओसेल्टामिविर का भी इस्तेमाल होता है। ये दवाएं आपको तेजी से ठीक होने में मदद कर सकती हैं। वे आपको बेहतर महसूस भी करा सकते हैं। जब आप इन्हें फ्लू के लक्षणों के 48 घंटों के भीतर लेते हैं, तो वे सबसे अच्छा काम करते हैं, लेकिन अगर आप उन्हें बाद में लेते हैं, तो भी वे मदद कर सकते हैं। एंटीबायोटिक्स इसमें बिलकुल भी काम नहीं करेगा क्योंकि फ्लू एक वायरस के कारण होता है, बैक्टीरिया से नहीं। इसके अलावा डॉक्टरों द्वारा बताए गए दर्द उपचारक दवाइयां और सर्दी और फ्लू की दवाएं, दर्द और बुखार से राहत देने में मदद कर सकती हैं। 18 साल से कम उम्र के बच्चों को एस्पिरिन न दें क्योंकि ये उनके लिए नुकसानदेह हो सकता है। 

          इसके अलावा आप स्वाइन फ्लू के लक्षण से राहत पाने के लिए कुछ घरेलू उपायों की भी मदद ले सकते हैं। जैसे कि  इस दौरान खूब आराम करें। यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को संक्रमण से लड़ने पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करेगा। डिहाईड्रेशन को रोकने के लिए पानी और अन्य तरल पदार्थों का खूब सेवन करें। सूप और जूस आपके शरीर को खोए हुए पोषक तत्वों को फिर से भरने में मदद करेंगे। सिरदर्द और गले में खराश जैसे लक्षणों के लिए ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक लें। साथ ही कोशिश करें कि जितना हो सके उतना इन फ्लू के लक्षणों से बचें।  तो, इस तरह आप ऑनली माय हेल्थ के इस कैटेगरी में 'स्वाइन फ्लू (SWINE FLU IN HINDI)'  के बारे में विस्तार से जान सकते हैं। 

          Source: CDC

          https://www.nhs.uk

Related News