हर्ब्‍स के फायदे

कुछ जड़ी-बूटियों शरीर को जहां संक्रमण से लड़ने में भी मदद करती हैं तो कुछ खाना हजम करने, स्नायु को शांत करने, कब्ज दूर करने और ग्रंथियों को ठीक से काम करने में सहायता करती है। जड़ी-बूटियों में पोषक तत्त्व और औषधीय गुण, दोनों होते हैं। विभिन्‍न प्रकार की जड़ी-बूटियां जैसे चमेली, आंवला, हल्‍दी, अदरक आदि के साथ विभिन्‍न प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं और रोजमर्रा में आने वाली समस्‍याओं जैसे सर्दी, खांसी आदि को दूर करने में मददगार हर्ब्‍स से जुड़ी जानकारी के बारे में यहां विस्‍तार से जा सकते हैं। पर आइए सबसे पहले जानते हैं शरीर के लिए विभिन्न प्रकार के हर्ब्‍स। 

हर्ब्‍स क्या हैं-What is Herbs?

जड़ी बूटी सुगंधित गुणों वाले पौधे हैं। जड़ी-बूटियों का उपयोग भोजन को सुगंधित करने, सुगंधों में शामिल करने और यहां तक कि प्राकृतिक दवाओं के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। तुलसी, अजमोद, अजवायन के फूल, और डिल सभी जड़ी बूटियां हैं। ध्यान दें कि इनमें से प्रत्येक के लिए, जड़ी बूटी किसी प्रकार के पौधे का हरा या पत्तीदार हिस्सा है। तुलसी के मामले में, पत्तियां काफी बड़ी हो सकती हैं, जबकि कुछ सदाबहार पौधे की तरह होते हैं। 

जड़ी बूटियों और मसालों के बीच अंतर

जड़ी बूटियों और मसालों के बीच बहुत अंतर है। ये ऐसे कि ये पौधे से उत्पन्न होने वाली एक पत्ती होती है। जबकि पौधे के किसी भी अन्य तत्व को एक मसाला माना जा सकता है जिसमें सूखे छाल, जड़ें, बेरी, बीज, टहनियाँ, या अन्य पौधे पदार्थ शामिल हैं जो मौसम या एक डिश का स्वाद लेने के लिए उपयोग किया जाता है।

 

हर्ब्‍स के फायदे - Health benefits of herbs

जड़ी-बूटियों का सेवन हृदय रोग, कैंसर और मधुमेह को रोकने और प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। यह खून के थक्कों को कम करने और  एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी ट्यूमर गुण प्रदान करने में भी मदद करते हैं।  जैसे कि लहसुन, अलसी, मेथी और लेमनग्रास कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं। तो मेथी ब्लड शुगर और इंसुलिन गतिविधि को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है। इसी तरह कई जड़ी बूटी एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं और शरीर में इम्यूनिटी बूस्ट करने का काम करते हैं। 

1. एलोवेरा (Aloevera benefits)

एलोवेरा कई प्रकार के घरेलू नुस्खों में इस्तेमाल होता है। ये तकनीकी रूप से स्किन के लिए इस्तेमाल किया जाता है। एलोवेरा पौधे की पत्तियों से रस और जेल का उपयोग करके हर्बल उपचार के रूप में सूर्य की हानिकारक किरणों से शरीर को होने वाले नुकसान और त्वचा की अन्य परेशानियों को शांत करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही एलोवेरा इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए भी इस्तेमाल (Aloevera) किया जाता रहा है।  इसका उपयोग कुछ लोगों द्वारा हल्के पेट की जलन को दूर करने के लिए, मुंहासों के उपचार के लिए, एक्जिमा के लक्षणों को दूर करने के लिए और यहां तक कि बालों के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।

2. अजमोद (Parsley)

अजमोद हल्का कड़वा जड़ी बूटी है जो आपके खाद्य पदार्थों के स्वाद को बढ़ा सकता है। कई लोग अजमोद को केवल भोजन को गार्निश करने के लिए इस्तेमाल करते हैं। लेकिन ये शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। ये पाचनतंत्र को  बढ़ावा देता है। अजमोद विटामिन ए और सी का अच्छा स्रोत है, जो शरीर को अंदर से दुरुस्त करता है। 

3. दालचीनी (Cinnamon)

दालचीनी ब्लड शुगर को संतुलित करने के लिए फायदेमंद है। ये ब्लड शुगर के स्तर को कम करती है और इसमें एक शक्तिशाली एंटी-डायबिटिक प्रभाव होता है, जो कि डायबिटीज के मरीज के लिए इसे बहुत प्रभावी बनाता है।  दालचीनी में शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट गतिविधि है, सूजन से लड़ने में मदद करती है और ब्लड में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने में भी मददगार है। दालचीनी पाचन तंत्र में कार्ब्स के टूटने को धीमा करने और इंसुलिन संवेदनशीलता को कम करता है। 

4. जिंको (Gingko)

जिंको मानसिक स्वास्थ्य के लिए (Gingko For Mental Health) फायदेमंद हैं, जो कि शरीर को अंदर से स्वस्थ रखने में मदद करते हैं।  ये पागलपन, अल्जाइमर रोग, नेत्र स्वास्थ्य, सूजन, मधुमेह, हड्डियों के स्वास्थ्य, चिंता और डिप्रेशन के उपचार में मदद करता है। 

5. पुदीना (Mint) 

पुदीने की कई किस्में होती हैं। आप इसका कई तरह से सेवन कर सकते हैं। पुदीना सांस को ताजा करता है और आपके पेट को शांत करने में मदद करता है।  पुदीना आपके शरीर के लिए कई तरह से फायदेमंद है, जैसे ये स्किन के लिए फायदेमंद है। साथ ही ये गैस, बदहजनी और पाचन तंत्र से जुड़ी परेशानियों से निजात दिलाता है। 

6. तेज पत्ता या सेज (Sage leaves)

तेज पत्ता या सेज कई औधषीय गुणों की खान है। ये ब्रेन फंक्शन और मेमोरी में सुधार कर सकता है। साथ ही ये अल्जाइमर रोग वाले लोगों के लिए भी फायदेमंद है। अल्जाइमर एसिटाइलकोलाइन के स्तर में गिरावट के कारण होता है, जो मस्तिष्क में एक रासायनिक संदेशवाहक है। इसके अवाला सेज की खुशबू मूड को बेहतर बनाने में मदद करती है। 

7. हल्दी (Turmeric) 

हल्दी (Health benefits turmeric) में करक्यूमिन होता है। ये  शक्तिशाली एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरा हुआ है। इसमें औषधीय गुणों वाले कई यौगिक शामिल हैं, जिनमें सबसे महत्वपूर्ण है करक्यूमिन।  करक्यूमिन शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है, जो कि ऑक्सीडेटिव क्षति से लड़ने और शरीर के अपने एंटीऑक्सीडेंट एंजाइम को बढ़ाने में मदद करता है। यह महत्वपूर्ण है, क्योंकि ऑक्सीडेटिव क्षति को उम्र बढ़ने और कई  बीमारियों के पीछे प्रमुख तंत्रों में से एक माना जाता है। करक्यूमिन में कई एंटीइंफ्लेमेटरी गुण है। ये शरीर में सूजन को कम करती है और इम्यूनिटी बूस्टर का काम करती है। अध्ययनों से पता चलता है कि यह मस्तिष्क के कार्यों में सुधार कर सकता है, अल्जाइमर से लड़ सकता है, हृदय रोग और कैंसर के जोखिम को कम कर सकता है और गठिया से राहत दिला सकता है। 

8. तुलसी (Basil) 

तुलसी (tulsi benefits in hindi) में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो कि इम्यूनिटी बूस्टर की तरह काम करता है। इसे आप काढ़ा के रूप में पी सकते हैं।  इसे आप लेप की तरह चेहरे पर लगा सकते हैं। तुलसी अन्य कामों के लिए भी फायदेमंद है, जैसे कि इससे आप एंटीबायोटिक दवा के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। 

9. रोजमेरी (Rosemary) 

रोजमेरी का तेल मूड स्विंग्स को कंट्रोल करने के लिए काम करता है। ये सिर दर्द और डिप्रेशन को भी कम करता है।  इसे आप मॉर्निंग सिकनेस और मलती आदि में इस्तेमाल कर सकते हैं।

10. सौंफ (Fennel)

सौंफ बहुत ही स्वादिष्ट और खुशबूदार है और ये पाचन तंत्र को ठीक रखने का काम करता है। सौंफ का पानी जहां मोटापा घटाने में मदद करता है, वहीं मूड स्विंग्स कंट्रोल करने में भी मददगार है। खाने के बाद नियमित रूप से सौंफ का सेवन आपको कब्ज से बचा सकता है। 

इस तरह आप हर्ब्‍स के फायदे- Benefits of Herbs in Hindi (हर्ब्‍स के फायदे) Herbs Ke Fayade (जड़ी-बूटी के फायदे): हर्ब्स के फायदे, विभिन्‍न बीमारियों के इलाज में मददगार हर्ब्‍स, विभिन्‍न प्रकार के हर्ब्‍स की जानकारी, रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मददगार हर्ब्‍स और हर्ब्‍स से जुड़ी सभी जानकारी के लिए इस कैटेगरी को पढ़ें।

Source: https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov
Related News