हृदयाघात

दिल का दौरा (Heart attack), जिसे मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन  (myocardial infarction) भी कहा जाता है, तब होता है जब हृदय की मांसपेशी के एक हिस्से में पर्याप्त मात्रा में खून नहीं पहुंच पाता है। जितना अधिक आपका ब्लड सर्कुलेशन खराब होगा उतना ही ये हृदय की मांसपेशियों को नुकसान पहुंचाता है। कोरोनरी धमनी रोग (Coronary artery disease)। दरअसल,  दिल के दौरे का मुख्य कारण  कोरोनरी धमनी का एक गंभीर ऐंठन, या अचानक संकुचन है, जो हृदय की मांसपेशियों में ब्लड सर्कुलेशन को रोक सकता है। तो एस नजर डालते हैं हार्ट अटैक के कारण, लक्षण और निवारण पर। 

हार्ट अटैक के कारण- Causes of Heart attack 

दिल का दौरा तब होता है जब हृदय की मांसपेशियों के एक हिस्से में ऑक्सीजन युक्त रक्त का प्रवाह अचानक अवरुद्ध हो जाता है और हृदय को ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है। ज्यादातर दिल के दौरे इस्केमिक हृदय 

(ischemic heart disease) रोग के परिणामस्वरूप होते हैं। इस्केमिक हृदय रोग एक ऐसी स्थिति है जिसमें कोरोनरी धमनियों के अंदर पट्टिका नामक एक मोमी पदार्थ बनता है। ये धमनियां आपके दिल को ऑक्सीजन युक्त रक्त की आपूर्ति करती हैं। जब पट्टिका धमनियों में बनती है, तो स्थिति को एथेरोस्क्लेरोसिस ( atherosclerosis) कहा जाता है। पट्टिका का निर्माण कई वर्षों में होता है। आखिरकार, प्लॉक का एक क्षेत्र धमनी के अंदर टूट (खुला हुआ) टूट सकता है। इससे प्लाक की सतह पर खून के थक्के जम जाता है। अगर थक्का काफी बड़ा हो जाता है, तो यह कोरोनरी धमनी के माध्यम से रक्त प्रवाह को ज्यादातर या पूरी तरह से अवरुद्ध कर सकता है।

अगर हार्ट ब्लॉकेज का जल्दी से इलाज नहीं किया जाए, तो हृदय की मांसपेशी का हिस्सा काम करना बंद कर देता है। हार्ट के टिशूज खराब होने लगते हैं। यह दिल की क्षति स्पष्ट नहीं हो सकती है, या इससे गंभीर या लंबे समय तक चलने वाली समस्याएं हो सकती हैं।

कोरोनरी धमनी ऐंठन (Coronary Artery Spasm)

दिल के दौरे का ए कारण कोरोनरी धमनी का एक गंभीर ऐंठन (कसाव) भी है। ऐंठन धमनी के माध्यम से रक्त के प्रवाह को रोक देता है। ऐंठन कोरोनरी धमनियों में हो सकती है जो एथेरोस्क्लेरोसिस से प्रभावित नहीं होती हैं। ऐंठन के लिए कोरोनरी धमनी का कारण हमेशा स्पष्ट नहीं होता है। एक ऐंठन से संबंधित हो सकता है:

  • -कुछ दवाओं, जैसे कोकीन लेना
  • -भावनात्मक तनाव या दर्द
  • -अत्यधिक ठंड के संपर्क में
  • -सिगरेट पीना

इसके अलावा हार्ट अटैक अन्य कारणों से भी हो सकता है। जैसे कि मोटापा, खराब लाइफस्टाइल, एक्सरसाइज की कमी, खराब डाइट और दिल से जुड़ी अन्य परेशानियां।

हार्ट अटैक के लक्षण-Symptoms of heart attack

दिल के दौरे घातक हो सकते हैं, इसके लिए जल्द से जल्द पहचानना और आपातकालीन सेवाओं से संपर्क करना महत्वपूर्ण है। इसलिए इसके इन लक्षणों को ध्यान में रखें। जैसे कि 

  • -छाती में दबाव
  • -सीने में जकड़न
  • -सीने में तेज दर्द
  • -दर्द जो बाहों, गर्दन, जबड़े या पीठ में होता हो।
  • -छाती में भारीपन की भावना
  • -अपच की समस्या
  • -मतली और कभी-कभी उल्टी
  • -पसीना आना
  • -सांस फूलना
  • -चक्कर आना
  • -खांसी या घरघराहट

महिलाओं में हार्ट अटैक के खास लक्षण-Symptoms of heart attack in womens

महिलाओं में हार्ट अटैक के खास लक्षणों को देखें, तो इसमें कई दिनों तक चलने वाली असामान्य थकान, छाती पर दबाव, उल्टी, ऊपरी पीठ में दर्द, गले में दर्द और जबड़े का दर्द का पुरुषों से अलग करता है।

पुरुषों में हार्ट अटैक के खास लक्षण- -Symptoms of heart attack in mens

पुरुषो में हार्ट अटैक के खास लक्षण को देखें, तो इसमें सबसे पहले बाएं कंधे, पीठ, गर्दन, जबड़े या पेट में दर्द आदि शामिल है। इसके बाद तेज या अनियमित दिल की धड़कन, पेट की परेशानी और लगातार ठंडे पसीने आना इसका एक साफ संकेत है। 

हार्ट अटैक का खतरा किसे ज्यादा होता है- Risk Factors for  heart attack

दिल का दौरा पड़ने के लिए कई कारक आपको जोखिम में डाल सकते हैं। कुछ कारक जिन्हें आप बदल नहीं सकते हैं, जैसे उम्र और परिवार का इतिहास। अन्य कारक, जिन्हें परिवर्तनीय जोखिम कारक कहा जाता है, उनमें शामिल है

  • -जिन लोगों की आयु 65 से अधिक है, उन्हें हार्ट अटैक का खतरा ज्यादा है।
  • -पुरुषों में महिलाओं की तुलना में अधिक जोखिम होता है।
  • -परिवार के इतिहास।
  • -अगर आपको हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मोटापा या मधुमेह का पारिवारिक इतिहास है, तो आप जोखिम में अधिक हैं।
  • -धूम्रपान करने वालों में
  • -हाई कोलेस्ट्रॉल वाले लोगों में
  • -मोटापा
  • -व्यायाम की कमी
  • -खराब डाइट के कारण
  • - शराब का सेवन
  • -तनाव के कारण

परीक्षण और उपचार- Tests and treatments

डॉक्टर दिल के दौरे का इलाज करने से पहले विभिन्न परीक्षणों और उपचारों का उपयोग करते हैं, जो इसके कारणों पर निर्भर करते हैं। आपका डॉक्टर कार्डिएक कैथीटेराइजेशन का आदेश दे सकता है। यह एक जांच है जो एक नरम लचीली ट्यूब के माध्यम से आपके रक्त वाहिकाओं में डाली जाती है जिसे कैथेटर कहा जाता है। यह आपके चिकित्सक को उन क्षेत्रों को देखने की अनुमति देता है जहां प्लॉक का निर्माण हुआ हो। आपका डॉक्टर कैथेटर के माध्यम से आपकी धमनियों में डाई इंजेक्ट कर सकता है और यह देखने के लिए एक्स-रे ले सकता है कि आपका ब्लड सर्कुलेशन कैसा है और कहीं कोई रूकावट तो नहीं। अगर आपको दिल का दौरा पड़ा है, तो आपका डॉक्टर एक सर्जरी या नॉनसर्जिकल उपायों की सिफारिश कर सकता है। प्रक्रियाएं दर्द से राहत दिला सकती हैं और दिल के दौरे को होने से रोकने में मदद कर सकती हैं।

1. एंजियोप्लास्टी (Angioplasty)

 एक एंजियोप्लास्टी एक गुब्बारे का उपयोग करके या पट्टिका बिल्डअप को हटाकर अवरुद्ध धमनी को खोलता है।

2. स्टेंट (Stent)

स्टेंट एक वायर मेश ट्यूब है जिसे एंजियोप्लास्टी के बाद खुला रखने के लिए धमनी में डाला जाता है।

3. हार्ट बाईपास सर्जरी (Heart bypass surgery)

बाईपास सर्जरी में, आपका डॉक्टर रुकावट के आसपास रक्त को पुन: प्रवाहित करता है।

4. हार्ट वाल्व की सर्जरी (Heart valve surgery)

वाल्व रिप्लेसमेंट सर्जरी में, आपके लीची वाल्व को हार्ट पंप की मदद करने के लिए बदल दिया जाता है।

5. पेसमेकर (Pacemaker)

पेसमेकर एक उपकरण है जिसे त्वचा के नीचे प्रत्यारोपित किया जाता है। यह आपके दिल को सामान्य लय बनाए रखने में मदद करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

6. हृदय प्रत्यारोपण (Heart transplant)

 एक प्रत्यारोपण गंभीर मामलों में किया जाता है जहां दिल का दौरा पड़ने से दिल के अधिकांश हिस्से में स्थायी रूप से टिशूज मर जाते हैं। आपका डॉक्टर आपके दिल के दौरे का इलाज करने के लिए दवाएं भी लिख सकता है, जिसमें शामिल हैं:

  • -एस्पिरिन
  • -खून के थक्कों को तोड़ने वाली दवा
  • -एंटीप्लेटलेट और एंटीकोआगुलंट्स, जिन्हें ब्लड थिनर के रूप में भी जाना जाता है
  • -पेनकिलर
  • -नाइट्रोग्लिसरीन
  • -रक्तचाप की दवा

हार्ट अटैक से बचाव के उपाय- Prevention Tips 

इस्केमिक हृदय रोग के लिए अपने जोखिम कारकों को कम करने से आपको दिल के दौरे को रोकने में मदद मिल सकती है। यहां तक कि अगर आपको पहले से ही हृदय रोग है, तो आप अभी भी दिल का दौरा पड़ने के जोखिम को कम करने के लिए कदम उठा सकते हैं। इन कदमों में हृदय-स्वस्थ जीवन शैली में बदलाव करना और संबंधित स्थितियों के लिए चल रही चिकित्सा देखभाल प्राप्त करना शामिल है जो दिल के दौरे को अधिक संभावना बनाते हैं। अपने डॉक्टर से बात करें कि क्या आप एस्पिरिन प्राथमिक रोकथाम से लाभ उठा सकते हैं या दिल के दौरे को रोकने में मदद करने के लिए एस्पिरिन का उपयोग कर सकते हैं। साथ ही आपको हार्ट अटैक से बचाव के लिए हार्ट-हेल्दी लाइफस्टाइल में बदलाव करना चाहिए। हेल्दी डाइट लें जिसमें शुगर और नमक की मात्रा कम हो, शारीरिक रूप से सक्रिय रहें, धूम्रपान छोड़ें,  ज्यादा तनाव न लें और अपने वजन का प्रबंधन करते रहें। 

इस तरह आप हमारी इस कैटेगरी 'हृदयाघात- Heart Attack In Hindi'में हार्ट अटैक से जुड़े विषयों पर जानकारी व लेख पढ़ें। साथ ही  इसके लक्षण, कारण, चिकित्सा, बचाव के बारे में एक्सपर्ट से संपूर्ण जानकारी पाएं। 

Source: https://www.heart.org

Related News