स्तनपान कराते हुए निकलता है खून? जानें क्या हो सकते हैं इसके कारण

स्तनपान कराने के दौरान ब्रेस्ट से खून आना एक सामान्य समस्या बिल्कुल नहीं है। ऐसे में इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें। किन कारणाें से हाेती है यह समस्या

Written by: Anju Rawat Updated at: 2021-08-06 09:20

क्या स्तनपान के दौरान ब्रेस्ट से खून निकलना सामान्य है? इस पर वॉकहार्ट अस्पताल, मुंबई सेंट्रल की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर इंद्रायणी सालुंखे (Dr Indrayani Salunkhe, Gynaecologist, Wockhardt Hospital, Mumbai Central) बताती हैं कि ब्रेस्ट से खून निकलना बिल्कुल भी सामान्य नहीं है। मां का दूध एक बच्चे के स्वास्थ्य, उसके विकास के लिए काफी अहम हाेता है। इसलिए ब्रेस्ट मिल्क में किसी भी तरह की गड़बड़ी हाेने पर आपकाे तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करने की जरूरत हाेती है।

डॉक्टर इंद्रायणी सालुंखे बताती हैं कि स्तनपान के दौरान काेई दर्द नहीं हाेना चाहिए,  लेकिन अगर है ताे यह सामान्य नहीं है। शुरुआत में स्तनपान कराने के दौरान ब्रेस्ट संवेदनशील हाे सकते हैं, लेकिन अगर लंबे समय तक दर्द हाे ताे इसे नजरअंदाज बिल्कुल न करें। 

डॉक्टर इंद्रायणी सालुंखे बताती हैं कि ब्रेस्ट से खून निकलने का मुख्य कारण निप्पल का क्रेक हाेना हाेता है। ब्रेस्टफीडिंग या स्तनपान के दौरान निप्पल फटना सामान्य नहीं हाेता है। अगर निप्पल में दरार, क्रेक, स्तनपान कराने के दौरान रक्तस्त्राव और दर्द हाेता है, ताे इसका मतलब है कि आपका बच्चा स्तनाें काे सही तरीके से मुंह में ले पा रहा है। चलिए जानते हैं स्तनपान कराते हुए क्याें निकलता है खून-

1. क्रेक्ड निप्पल (Cracked Nipple)

डॉ इंद्रायणी सालुंखे बताती हैं कि अगर बच्चा ब्रेस्ट का एक बड़ा हिस्सा मुंह में नहीं ले पा रहा है, ताे निप्पल बच्चे के दांताें के बीच आ सकता है। इससे निप्पल में घाव हाेने लगते हैं। इसलिए निप्पल पर घाव या क्रेक्ड की वजह से स्तनपान के दौरान ब्रेस्ट खून निकलता है या रक्तस्त्राव हाेता है। इससे बचने के लिए आप बच्चे के मुंह में सही तरीके से निप्पल डालने में मदद कर सकती हैं। साथ ही आप डॉक्टर से भी सही ब्रेस्ट फीडिंग का तरीका सीख सकती हैं। 

इसे भी पढ़ें - स्तनपान कराने वाली महिलाओं (ब्रेस्टफीडिंग मॉम) के लिए धूम्रपान करना कितना हानिकारक है?

क्रेक्ड निप्पल के लिए बचाव टिप्स

  • निप्पल क्रेक हाेने पर उस पर देसी घी लगाएं।
  • स्तनपान कराने के बाद स्तनाें काे गुनगुने पानी से साफ करें। 
  • क्रैक्ड निप्पल की वजह से अगर बहुत ज्यादा परेशानी हाे रही है, ताे इस स्थिति में आप निप्पल शील्ड का यूज कर सकती हैं।

2. ब्लड सेल्स का डैमेज हाेना (Demage Blood Cells)

काेशिकाएं खराब हाेने की वजह से भी कई बार महिलाओं के स्तनपान कराते समय खून निकलने लगता है। दरअसल, कभी-कभी स्तनाें में उपस्थित छाेटे ब्लड सेल्स खराब हाे जाते हैं या फिर टूट जाते हैं। जब महिलाएं हाथ से दबाकर दूध निकालती हैं, ताे अकसर इस समस्या (ब्लड सेल्स का टूटना) का सामना करना पड़ता है। इससे ब्रेस्ट में दर्द हाे सकता है। इसे एक्सप्रेसिंग कहा जाता है। इसलिए आपकाे इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि दूध निकालते समय ब्लड सेल्स काे काेई क्षति न पहुंचे। 

3. फाब्राेसिस्टिक ब्रेस्ट (Fibrocystic Breast)

फाइब्राेसिस्टिक ब्रेस्ट एक ब्रेस्ट से जुड़ी बीमारी है, इसमें ब्रेस्ट में गांठ बन जाते हैं। लेकिन ये गांठ कैंसर का कारण नहीं बनते हैं। साथ ही इसमें दर्द भी हाे सकता है। वैसे ताे इससे खतरा नहीं हाेता है, लेकिन कुछ महिलाओं काे इससे ब्रेस्टफीडिंग के दौरान खून निकलने की समस्या पैदा हाे सकती है। फाइब्राेसिस्टिक ब्रेस्ट की समस्या सामान्यत 30 साल से अधिक उम्र की महिलाओं में देखने काे मिलती है। जब 30 साल के बाद महिला पहले बच्चे काे जन्म देती है, ताे ब्रेस्ट से खून निकल सकता है। ऐसे में आपकाे डॉक्टर से कंसल्ट करने की जरूरत हाेती है।

इसे भी पढ़ें - स्तनपान कराने वाली महिलाओं में इन 5 कारणों से बढ़ जाता है तनाव, जानें इससे बचाव के टिप्स

4. रस्टी पाइप सिंड्राेम (Rusty Pipe Syndrome)

रस्टी पाइप सिंड्राेम की स्थिति में भी स्तनपान के दौरान महिलाओं के ब्रेस्ट से खून निकल सकता है। इस स्थिति में दूध का रंग सफेद के बजाय लाल हाे जाता है। यह समस्या अधिकतर पहली बार मां बनने के बाद देखने काे मिलती है।

5. स्तन पर सूजन (Mastitis) 

स्तन पर सूजन यानी मैस्टाइटिस के कारण भी स्तनपान के दौरान महिलाओं की ब्रेस्ट से खून निकल सकता है। मैस्टाइटिस स्तनपान के दौरान हाेने वाला एक तरह का संक्रमण हाेता है। यह संक्रमण अकसर तब हाेता है, जब बच्चा सही तरह से स्तन काे अपने मुंह में नहीं ले पाता है। इस स्थिति में ब्रेस्ट से दूध के बजाय खून निकलने लगता है।

ब्रेस्ट से खून तभी निकलता है, जब आप इसे पम्प करती है या फिर बच्चा दूध निकालता है। अगर यह समस्या लंबे समय तक रहे ताे आपकाे डॉक्टर से जरूर संपर्क करना चाहिए।  

Read More Articles on Womens Health in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

Related News