Black Freckles Causes: काली झाइयां क्यों होती है? जानें, कारण और बचाव के उपाय

Freckles on Skin Causes: अकसर लोगों को त्वचा पर मुहांसों, दाग-धब्बों से परेशान होना पड़ता है। वहीं, कई लोगों की त्वचा पर काली झाइयां भी हो जाती है।

Written by: Anju Rawat Updated at: 2023-01-12 14:45

Freckles on Skin Reasons in Hindi: हम सभी को अपने जीवन में कभी-न-कभी त्वचा से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसमें झाइयां भी शामिल है। कई लोगों को त्वचा पर मुहांसों, तो कुछ लोगों को दाग-धब्बों का सामना करना पड़ता है। इतना ही नहीं कुछ लोग त्वचा पर ब्लैकहेड्स और व्हाइटहेड्स से भी परेशान रहते हैं। त्वचा पर काली झाइयां भी आपकी खूबसूरती को कम कर सकते हैं। आपको बता दें कि झाइयां त्वचा पर छोटे भूरे या काले रंग के धब्बे होते हैं। वैसे तो झाइयां हानिरहित होते हैं, लेकिन झाइयां आपकी खूबसूरती को कम कर सकते हैं। साथ ही आपके कॉन्फिडेंस लेवल को भी गिरा सकते हैं। त्वचा पर झाइयां होने के कई कारण हो सकते हैं। तो चलिए, जानते हैं झाइयां क्यों होती है? या फिर त्वचा पर झाइयां होने के कारण क्या है? (Black Freckles on Face Causes in Hindi)

काली झाइयां क्यों होती है?- Black Freckles Causes in Hindi

1. सूरज की हानिकारक रोशनी

सूरज की हानिकारक रोशनी भी झाइयों का एक मुख्य कारण हो सकती है। जो व्यक्ति सूरज की रोशनी में अधिक समय बिताता है, उन्हें झाइयों से अधिक परेशान होना पड़ सकता है। जब सूरज की रोशनी की वजह से झाइयां पड़ती है, तो ये चेहरे, हाथों, गर्दन और छाती पर पड़ सकती है। इसलिए झाइयों से बचने के लिए आपको अपने अपनी स्किन को धूप से बचाने की कोशिश करनी चाहिए। धूप से बचाने के लिए आप अपनी स्किन को पूरा कवर करके रखें, साथ ही ओपन एरिया पर सनस्क्रीन जरूर लगाएं। अगर आप सर्दियों में धूप सेंकते हैं, तो आपकी झाइयां बढ़ सकती है। इसलिए आपको गर्मियों, सर्दियों दोनों मौसम में सूरज की रोशनी से अपना बचाव करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें- चेहरे से झाइयां और दाग धब्बे कैसे मिटाएं? जानें 5 उपाय   

2. जेनेटिक्स

झाइयां क्यों होती है? जेनेटिक भी त्वचा पर काली झाइयां होने का एक कारण हो सकता है। जिन लोगों के माता-पिता की त्वचा पर झाइयां रहती है, उन्हें भी झाइयों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए अगर आपके माता-पिता की त्वचा पर झाइयां हैं, तो आपको अपनी त्वचा की अधिक देखभाल करने की जरूरत होती है। झाइयां की स्थिति को कभी भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे आपकी स्किन को ज्यादा नुकसान पहुंच सकता है। समय के साथ-साथ झाइयां बढ़ सकती है और आपकी खूबसूरती पर भी इसका असर पड़ सकता है।  

3. मेलेनिन का बढ़ जाना

शरीर में मेलेनिन का स्तर बढ़ने से भी झाइयां पड़ सकती है। आपको बता दें कि मेलेनिन त्वचा को रंग देने का काम करता है। जब किसी व्यक्ति के शरीर में मेलेनिन का उत्पादन बढ़ने लगता है, तो त्वचा पर झाइयां और दाग-धब्बे बढ़ने लगते हैं। यानी बढ़ा हुआ मेलेनिन पिग्मेंटेशन और झाइयों का एक मुख्य कारण बन सकता है। स्किन को हेल्दी बनाए रखने के लिए शरीर में मेलेनिन का उत्पादन सही तरीके से होना बहुत जरूरी होता है।

इसे भी पढ़ें- हाथों की झाइयां ठीक करने के लिए अपनाएं ये 5 घरेलू उपाय

काली झाइयों से कैसे बचें?- How to Prevent Black Freckles in Hindi

  • झाइयों को रोकने के लिए आपको धूप में निकलने से बचना चाहिए।
  • धूप में निकलने पर आपको सनस्क्रीन का यूज जरूर करना चाहिए।
  • धूप से स्किन को बचाने के लिए स्टॉल से कवर किया जा सकता है। 
  • मेलेनिन को कम करने के लिए एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थों को अपनी डाइट में शामिल करें।  
  • झाइयों को कम करने या रोकने के लिए हेल्दी स्किन केयर रूटीन फॉलो करना भी बहुत जरूरी होता है।

अगर आपकी स्किन पर भी झाइयां हो गई हैं, तो यह सूरज की रोशनी की वजह से हो सकती है। इसके अलावा काली झाइयां मेलेनिन के बढ़ने के कारण भी हो सकती है। इसलिए आपको झाइयों से बचने के लिए अपनी डाइट और स्किन केयर का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

Related News