डिप्रेशन और इसके प्रकार

By Pallavi Kumari
27 November 2020

अवसाद या डिप्रेशन को मूड डिसऑर्डर के तौर पर देखा जाता है। पर ये एक ऐसी बीमारी है कि, जो आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को एक साथ प्रभावित करता है।

डिप्रेशन व्यक्ति को अकेलापन और उदास महसूस करता है। इसलिए इसे मुख्य रूप से मनोदशा विकार (mood disorder) से जोड़कर देखा जाता है, जिसका असर व्यक्ति की सोच, यादाशत और व्यवहार इत्यादि पर पड़ता है।

डिप्रेशन के कारण

अवसाद की समस्या किसी भी उम्र के शख्स को हो सकती है, जिसके अलग-अलग कारण हो सकते हैं। इसके सबसे मुख्य कारणों को देखें, तो

  • भावनात्मक असंतुलन
  • मानसिक असंतुलन
  • पारिवारिक इतिहास
  • शरीर में डर की भावना
  • अनिद्रा या इंसोम्निया

डिप्रेशन के लक्षण

  • मूड संबंधी जैसे कि गुस्सा, आक्रामकता और चिड़चिड़ापन
  • उदास भावना
  • थकान और सिर दर्द
  • नींद की कमी
  • अकेलापन और बेचैनी
  • काम करने में मुश्किल
  • आत्महत्या का मन
  • मूड स्विंग्स

बाइपोलर डिसऑर्डर

बाइपोलर डिसऑर्डर एक मानसिक बीमारी है, जिसमें व्यक्ति अचानक खुश और एकदम से दुखी हो जाता है। इस स्थिति में, व्यक्ति को सिर चकराता है, ऊर्जा में उतार-चढ़ाव और सक्रियता का स्तर घटता बढ़ता रहता है।

मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर

मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर डिप्रेशन का सबसे गंभीर प्रकार है। इस दौरान भावनाएं व्यक्ति के मन में घर कर जाती हैं। ये भावनाएं कभी भी अपने आप से दूर नहीं होती हैं। इसमें मरीज की कई बार काउंसिलिंग करनी पड़ सकती है। साथ ही इसमें लगातार दवाइयां चलती हैं।

पर्सिसटेंट डिप्रेसिव डिसऑर्डर या पीडीडी (PDD) को अक्सर डिस्थीमिया (Dysthymia) भी कहा जाता है। ये हल्का, लेकिन गंभीर किस्म का डिप्रेशन है। इसमें व्यक्ति रोजमर्रा के कामों में रुचि नहीं लेता, नाउम्मीद हो जाता है और दुख में डूब जाता है।

एटिपिकल डिप्रेशन

इस प्रकार के डिप्रेशन से जुड़े कोई सामान्य लक्षण नहीं हैं। एटिपिकल डिप्रेशन विशेष रूप से अत्यधिक वजन बढ़ने, थकान, मूड और अस्थिरता से जुड़ा हुआ है। साथ ही इसके लक्षण अलग-अलग लोगों में अलग तरीके के होते हैं।

डिप्रेशन से बचाव के लिए सबसे पहले अपनी लाइफस्टाइल सही करें। हर दिन 30 मिनट तक एक्सरसाइज करें। इससे एंडोरफिन्स (Endorphins) का उत्पादन बढ़ जाता है, जो आपके मूड को ठीक रखने में मदद करता है। तो, खुश रहें और सेहत से जुड़ी अन्य जानकारियों के लिए पढ़ते रहें onlymyhealth .com