दांत पीसने की आदत भी है बीमारी

By Shilpy Arya
13 Oct 2021

ब्रुक्सिज्म एक दातों से जुड़ा रोग है। यह समस्या रात को अधिक होती है। इसमें दांत आपस में रगड़ खाते हैं। आइए डेंटिस्ट डॉक्टर स्मिता सिंह से जानते हैं, क्या है यह बीमारी और इससे कैसे बचें?

दांत पीसने के लक्षण

  • जबड़ों में दर्द।
  • मसूड़ों में सूजन।
  • मसूड़ों का ढीला होना।
  • ठंडा, गर्म और खट्टा खाने पर झनझनाहट।
  • खाने में दिक्कत।
  • दांतों का टूटना और छिलना।
  • जबड़ों पर अधिक दबाव के कारण दांतों में दर्द।

दांत पीसने के कारण

  • क्रोनिक ट्रामा, डाउंस सिंड्रोम, पार्किंसंस, सीजर्स के रोगियों को यह दिक्कत हो सकती है।
  • मनोवैज्ञानिक कारण।
  • शराब पीना व धूम्रपान।
  • थकान।
  • तम्बाकू खाने से।
  • कैफीन का सेवन।

दांत पीसने की आदत का निदान

मांसपेशियों या जबड़ों में ज्यादा दर्द होने पर लापरवाही ना करते हुए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। इंट्राओरल रेडियोग्राफ , एक्सरे और ओपीजी की जांच करवाएं। इससे आपको दांतों और हड्डियों की स्थिति का पता लगेगा।

दांत पीसने की आदत का इलाज

  • ब्रुक्सिज्म से बचाव के लिए नाइट गॉड दिया जाता है।
  • स्प्लेंडर डिवाइस का इस्तेमाल भी किया जाता है।
  • ऑर्थोडॉन्टिक ट्रीटमेंट।
  • एंटी एंग्जायटी।
  • रिलैक्सेशन थेरेपी।

टीवी से दूरी

दांत पीसने की आदत से छुटकारा पाने के लिए सोने के पहले टीवी और मोबाइल का इस्तेमाल करने से बचें।

तनाव ना लें

तनाव के कारण सेहतमंद व्यक्ति को भी रोग घेर लेते हैं। दांत पीसने की आदत से निजात पाना चाहते हैं तो तनाव से दूर रहें।

पूरी नींद लें

सात से नौ घंटे की पर्याप्त नींद लें। इससे आपकी दांत पीसने की आदत में कमी आती है।

दांत पीसने की आदत से बचाव

  • धूम्रपान, शराब का सेवन न करें।
  • स्लीप एप्निया, डिप्रेशन में काउंसलिंग कराएं।
  • डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें।
  • ठंडी या गर्म चीजों को खाने से बचें।

जोखिम

  • दांतों में संवेदनशीलता
  • जबड़ों में तेज दर्द
  • खाने पीने में दिक्कत
  • जोड़ों में परेशानी

दांत पीसने की आदत से बचाव के लिए इन तरीकों को अपनाएं. ज्यादा दिक्कत होने पर डॉक्टर से संपर्क करें। सेहत से जुड़ी और बातें जानने के लिए पढ़ते रहें onlymyhealth.com