अकेलेपन में बहुत दर्द है

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 07, 2013

akelepan me bahut dard hai

लंदन। अकेलेपन का असर दर्द सहने की इंसानी क्षमता पर भी पड़ता है। अब वैज्ञानिक अध्‍ययन भी इस बात की पुष्टि कर चुके हैं। जिंदगी में कई बार ऐसे हालात आते हैं, जब हम तन्‍हा हो जाते हैं। हमें लगता है कि दुनिया में कोई हमें नहीं समझता। इस वजह से हम खुद को अकेला महसूस करने लगते हैं। लेकिन, यह अकेलापन हमें दर्द के प्रति अधिक संवेदनशील बना देता है।

[इसे भी पढ़ें: धूम्रपान से नहीं मिलती है दिमाग को शांति]

'जर्नल ऑफ सोशल साइकोलॉजी एंड पर्सनैलिटी साइंस' के हालिया अंक में प्रकाशित एक नए अध्‍ययन में शोधकर्ताओं ने इस तरह का दावा किया है। वैज्ञानिकों ने कहा है कि ऐसी स्‍िथति से गुजर रहे लोग दर्द के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि प्रसन्‍न व्‍यक्ति को दर्द का अहसास कम होता है। वहीं खुद को अकेला महसूस करने वालों को दुख अधिक सताता है। इस नतीजे पर पहुंचने के लिए यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जीनिया के शोधकर्ताओं ने अलग-अलग प्रतिभ‍ागियों पर परीक्षण किए।

[इसे भी पढ़ें: तनाव पहुंचाता है दिल की सेहत को नुकसान]

शोधकर्ताओं ने एक-दूसरे से पूरी तरह अनजान कुछ प्रतिभागियों को चुना। इसके बाद विशेषज्ञों ने उन लोगों को एक-दूसरे से बात करने को कहा। बात खत्‍म होने के बाद प्रतिभागियों को एक दूसरे का आकलन कर उनके बारे में अपनी राय जाहिर करनी थी। इसके बाद शोधकर्ताओं ने सभी प्रतिभागियों को बर्फ की एक सिल्‍ली पर कुछ देर के लिए अपना हाथ रखने को कहा। उन्‍होंने पाया कि जिन प्रतिभागियों को अच्‍छी प्रतिक्रिया मिली थी, वह ज्‍यादा समय तक बर्फ पर हाथ रख पाए। वहीं, अन्‍य प्रतिभागी अधिक समय तक उस दर्द का सामना नहीं कर पाए।

 

Read More Article on Health News in hindi.

Loading...
Is it Helpful Article?YES4 Votes 2163 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK