अधिक नमक सेहत के लिए खतरनाक

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 20, 2013

हमारे शरीर के लिये नमक एक आवश्‍यक तत्‍व है जो रक्‍तशोधक की तरह काम करता है और हानिकारक जीवाणुओं को नष्‍ट करके हमारे शरीर को होने वाली बीमारियों से रक्षा करता है। लेकिन इसका सेवन नियंत्रित मात्रा में किया जाना चाहिए।

adhik namak sehat ke liye khatarnak

 

हमारे शरीर के लिये नमक की मात्रा निर्धारित है अगर इसकी मात्रा उससे कम या ज्‍यादा हुई तो संतुलन बिगड़ जाता है और शरीर को रोग होने लगते हैं।
नमक के अधिक प्रयोग से हम कई प्रकार की बीमारियों की चपेट में आ सकते है

 

[इसे भी पढ़े : ज्यादा नमक खाया तो अल्सर हो जाएगा]


अपने भोजन में अधिक नमक खाने वाले लोग थोड़ा सावधान हो जाएं क्योंकि उनकी यह आदत उन्हें गुर्दे की पथरी और ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डियों में कमजोरी) जैसी खतरनाक बीमारियों का शिकार बना सकती है। एक नए अध्ययन में यह बात कही गई है। अध्ययन का नेतृत्व करने वाले यूनिवर्सिटी ऑफ अल्बर्टा के अलेक्जेंडर टोड और उनकी टीम ने सोडियम और कैल्शियम के बीच एक महत्वपूर्ण सम्बंध का पता लगाया है।

 

[इसे भी पढ़े : हृदय रोग से बचने को नमक कम खाएं]

 

अध्ययन के दौरान ये दोनों तत्व शरीर में एक ही अणु के द्वारा नियंत्रित होते दिखाई दिए हैं। जब सोडियम की मात्रा बहुत अधिक हो जाती है, तो शरीर मूत्र के जरिए इसे बाहर निकाल देता है। लेकिन सोडियम के साथ-साथ कैल्शियम भी शरीर से बाहर निकल जाता है।

 

अमेरिकी विज्ञान पत्रिका साइकोलॉजी-रेंटल साइकोलॉजी की रपट के अनुसार मूत्र में कैल्शियम का उच्च स्तर गुर्दे की पथरी का विकास करता है, वहीं शरीर में कैल्शियम की अपर्याप्त मात्रा हड्डियों को पतला कर देती हैं और हमें ऑस्टियोपोरोसिस का शिकार बना देती है।

 

[इसे भी पढ़े : कम नमक रखे बीपी कंट्रोल]

 

मेडिसिन और दंत चिकित्सा संकाय में शोधकर्ता अलेक्जेंडर ने कहा, "यह बहुत आवश्यक है क्योंकि हम अपने आहार में ज्यादा से ज्यादा सोडियम खा रहे हैं, जिसका अर्थ है हमारा शरीर अधिक कैल्शियम बाहर निकाल रहा है। हमारे अध्ययन के परिणाम इस बात पर जोर देते हैं कि भोजन में सोडियम का कम होना क्यों महत्वपूर्ण है।"

 

 

Read More Article on Health News in hindi.

Loading...
Is it Helpful Article?YES3 Votes 14866 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK