आपके बेडरूम में लौटेगा कामसूत्र का आनंद

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 24, 2013

कामसूत्र विश्व को भारत की देन है। पश्चिमी देशों में इसे लेकर खासा उत्‍साह है। वहां न सिर्फ इस पर खुलकर चर्चा होती है, बल्कि लोगों ने इसे अपने जीवन का अहम हिस्‍सा बना लिया है। लेकिन, भारत जहां इस महान रचना का जन्‍म हुआ, वहां लोग न जाने किन कारणों से इस पर बात करने से भी बचते हैं। लोग इस किताब को अपने घर में रखने से भी बचते हैं। कामसूत्र, सेक्‍स के दौरान हमारे साथ ही होता है।

aapke bedroom me lautega kamasutra ka anandयह बात और है कि हमें उसकी जानकारी नहीं होती। महर्षि वात्‍यायन के लिखी इस पुस्‍तक में सेक्‍स की कुल 64 पोजीशंस की बात की गयी है। और इनमें से कई ऐसी हैं जिनके बारे में तो आप कल्‍पना भी नहीं कर सकते। इस किताब में सेक्‍स को जीवन का एक अहम हिस्‍सा माना गया है। लेकिन साथ ही इस बात भी तवज्‍जो दी गई है कि स्‍वस्‍थ जीवनशैली कैसे सेक्‍स को प्रभावित करती है और सेक्‍स का जीवनशैली पर क्‍या असर होता है।

 

[इसे भी पढ़ें : युवाओं के लिए कामसूत्र की प्रासंगिकता]

 

अगर आप कामसूत्र को अपनी सेक्‍स लाइफ का हिस्‍सा बनाना चाहते हैं, तो सबसे पहले अपने पार्टनर से इस बारे में बात करें। हो सकता है कि आपके लिए यह आसान न हो, लेकिन अगर आप इस पुरातन आनंद को अपने जीवन में उतारना चाहते हैं, तो कहीं न कहीं से तो शुरुआत करनी ही होगी। तो सबसे पहले पुराने भारतीय दर्शन और ज्ञान से अपनी बात की शुरुआत की जा सकती है। पौराणिक कथाओं से होते हुए आपका सफर वेदों तक आ सकता है। और इसके बार चुपके से कामसूत्र आ सकता है। कामसूत्र को लेकर किसी भी प्रकार की भ्रांति न पालें। यह पोर्न नहीं है अपितु सेक्‍स और जीवन का ज्ञान है। आपको यह बात समझने की जरूरत है कि कामसूत्र केवल सेक्‍स से ही नहीं भरी हुई। इसके सात अध्‍यायों में जीवन के विभिन्‍न पहलुओं के बारे में विस्‍तार से चर्चा की गयी है। बस अब आप कामसूत्र की बातों को आगे बढ़ाते हुए अपने साथी से इस पर चर्चा कर सकते हैं।

अपने साथी से यह जानने की कोशिश करें कि क्‍या वह कामसूत्र के आसनों (पोजीशंस) को आजमाने के लिए तैयार है। उसे यह बात समझाइए कि इससे सेक्‍स का दिव्‍य अनुभव हो सकता है।



पोजीशंस

कामसूत्र में कई पोजीशंस हैं। इनमें से कई पोजीशंस को आजमाना आपके लिए चुनौतीपूर्ण भी हो सकता है। और हो सकता है कि आप या आपके पार्टनर के लिए वे इतनी मुश्किल हो जाएं कि आप उन्‍हें सही प्रकार कर ही न पाएं। इसका परिणाम यह होगा कि आखिरकार आपका मन ही कामसूत्र से ऊब सकता है। आइए जानते हैं कुछ आसान कामसूत्र पोजीशंस के बारे में, जिन्‍हें अपनाकर आप कामसूत्र को एक बार फिर अपने बेडरूम का हिस्‍सा बना पाएंगे।

 

[इसे भी पढ़ें : कामसूत्र है प्रेम का आधार]

 

कैंची पोजीशंस
यह पोजीशन निद्रा देवी पोजीशन से मिलती जुलती पोजीशन है. इस पोजीशन में दोनों पार्टनरों के पांव एक दूसरे को क्रास करके कैंची की तरह आकृति बनाते है. लेकिन यह पोजीशन निद्रा देवी पोजीशन से इसलिये बेहतर है क्योंकि इसमें शारीरिक छुअन निद्रा देवी से ज्यादा होती है साथ ही इसमें प्रवेश का बेहतर और शानदार कोण(एंगल ) मिलता है. इस पोजीशन में कम मेहनत में काफी कुछ मिल जाता है. लेकिन कुछ लोग इस पोजीशन को इसलिये नहीं पसंद करते क्योंकि महिला की टांगे काफी खुल जाती हैं तथा जांघों को काफी वजन सहना पड़ता है लेकिन परिवर्तन पसंद युवाओं की यह पोजीशन काफी पसंदीदा है।

टॉनकिन डिलाइट पोजीशन-
इसमें स्‍त्री अपने पलंग पर लेटकर अपने घुटने मोड़ लेती है। पुरुष सामने से आकर उसे नितंबों से उठा लेता हैं। इसके बाद दोनों इसी पोजीशंस में संभोग करते हैं। इस पोजीशन में पुरुष स्‍त्री के पेट पर चुंबन कर सकता है। इससे दोनों को सेक्‍स में भरपूर आनंद मिलता है।


स्‍कैनडिनाविएन पोजीशन
इस पोजीशन में पुरुष पलंग पर लेटता है और स्‍त्री अपने घुटने मोड़कर पुरुष पर सवार होती है। इसमें स्‍त्री की पीठ पुरुष की ओर होती है। इसमें पुरुष स्‍त्री की कमर को पकड़ता है। इसमें पुरुष अपने हाथों के जरिए काम-क्रीड़ा को अधिक रोमांचक और उत्तेजित बनाने का काम करता है।

 

 

Read More Articles on Kamasutra in Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES156 Votes 21825 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
I have read the Privacy Policy and the Terms and Conditions. I provide my consent for my data to be processed for the purposes as described and receive communications for service related information.
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK