सेक्स के बाद पुरूष क्यों सोते हैं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 02, 2012

अकसर आपने महिलाओं को शिकायत करते सुना होगा,कि उनके पति सेक्स के बाद तुरंत सो जाते हैं। कई बार महिलाओं को ऐसे में लगने लगता है कि उनके पति को कोई रोग है। लेकिन इसमें घबराने की जरूरत नहीं क्योंकि हर पुरूष के साथ ऐसा ही होता है। पुरूष अंतरंग पलों के बाद तुरंत ही सो जाते हैं। क्या कभी आपने सोचा है ऐसा क्यों होता है। दरअसल, ये संभोग के बाद पुरूषों में होने वाले ऑक्सिटोसीन होर्मोंन के स्राव और प्रोलेक्टिन के स्राव के कारण होता है। इसके अलावा और भी कई कारण हैं जिससे सेक्स के बाद पुरूष सो जाते हैं। आइए जानें इन कारणों को।

  • पुरूषों का अंतरंग पलों के बाद सो जाना स्वाभाविक है क्योंकि इसके पीछे पुरूषों में होने वाले रासायनिक बदलाव जिम्मेदार है। हालांकि पुरूष चाहे तो अपनी इस आदत पर नियंत्रण कर सकते हैं।
  • वास्तव में सेक्स के दौरान पुरूषों के शरीर में ऑक्सिटोसीन होर्मोन का स्राव बढ़ जाता है जो आराम का अनुभव कराता है और फिर प्रोलेक्टिन का स्राव उन्हें नींद दिला देता है।
  • दरअसल, सेक्स  और नींद का गहरा संबंध है। सेक्स अच्छी नींद के लिए भी बहुत उपयोगी माना जाता है। हालांकि महिलाओं को पुरूषों की ये आदत अच्छी नहीं लगती लेकिन पुरूष चाहे तो सेक्स के तुरंत बाद नींद पर नियंत्रण पा सकते हैं।
  • कई बार तनाव को दूर करने के लिए पति-पत्नी संभोग करते हैं जिससे पति को काफी राहत मिलती है और मानसिक संतुष्टि के तुरंत बाद पतियों को नींद आने लगती है। कहा भी जाता है कि सेक्स तनाव को दूर करने का महत्वपूर्ण कारक है।
  • कई बार थकान और दबाव में सेक्स करने के बाद भी पुरूषों को नींद आ जाती है।
  • दिमाग में चलने वाले कई विचार,आने वाले दिन के शेड्यूल इत्यादि के चलते भी पुरूषों को संभोग के बाद नींद आना स्वाभाविक है।

कहते हैं कि इंसान की इच्छाशक्ति उससे कुछ भी असंभव काम को संभव करा सकती है। इसीलिए पुरूष चाहे तो इसे कोई बीमारी न मानकर अपनी नींद पर नियंत्रण कर अपने साथी को खुश कर सकते हैं और संभोग के बाद साथी को क्वालिटी टाइम देकर अपने संबंधों में प्रगाढ़ता बढ़ा सकते हैं। साथ ही अपने संबंधों में अंतरंगता के महत्‍व को समझ सकते हैं।

Loading...
Is it Helpful Article?YES883 Votes 111958 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK