विटामिन के लें, डाइबिटीज़ से बचें

अगर आप अपने खाने में विटामिन 'के' ले रहे हैं तो आपको डायबिटीज होने का खतरा कम हो सकता है।

Anubha Tripathi
डायबिटीज़Written by: Anubha TripathiPublished at: May 10, 2012
विटामिन के लें, डाइबिटीज़ से बचें

vitamin K le diabetes se bacheअगर आप अपने खाने में विटामिन 'के' ले रहे हैं तो आपको डायबिटीज होने का खतरा कम हो सकता है। विटामिन 'के' के स्रोत में डायबिटीज से लड़ने की क्षमता होती है। विटामिन के वसा में घुलनशील होता है। यह शरीर में रक्त का जमाव होने से रोकता है। आज भारत में 4.5 करोड़ व्यक्ति डायबिटीज का शिकार हैं। इसका सबसे बड़ा कारण है खानपान में दोष, मानसिक तनाव, मोटापा, व्यायाम की कमी। इसी कारण यह रोग हमारे देश में बड़ी तेजी से बढ़ रहा है। डायबिटीज में कार्बोहाइड्रेट और ग्लूकोज का ऑक्सीकरण ठीक से नहीं होता है और इसका मुख्य कारण है इंसुलिन की कमी। इंसुलिन नामक हार्मोन पेनक्रियाज से निकलता है, जो ग्लूकोज का आक्सी्करण करता है। रक्त में ग्लूकोज की मात्रा सामान्य से ज्यादा तथा सामान्य से कम होने पर डायबिटीज की समस्या पैदा होती है।

 

विटामिन 'के' क्या है

 

विटामिन `के´ शरीर के लिए बहुत जरूरी विटामिन है । यह शरीर में थोड़ी सी भी चोट लगने से होने वाले रक्तस्राव को रोकने में मदद करता है। इसके अलावा विटामिन के की कमी से शरीर में अनेक रोग पैदा हो सकते हैं। विटामिन के के मुख्य रुप से दो प्रकार होते हैं विटामिन के1 व विटामिन के2 । विटामिन के 1 हरी पत्तेदार सब्जियों के साथ-साथ कुछ फलों में जैसे किवी फ्रूट व एवोकेडो में मिलता है। इसके अलावा विटामिन के2 मीट, अंडा व डेयरी उत्पादों में पाया जाता है। । विटामिन के शरीर में इन्सुलिन के निर्माण में मदद करता है साथ ही रक्त में शुगर का स्तर ठीक रखता है।

 

कितनी मात्रा में ले विटामिन 'के'

 

विटामिन के लेने से शरीर में इंन्सुलिन की प्रक्रिया में मदद मिलती है जो रक्त में ग्लूकोज के स्तर को ठीक रखता है। डायबिटीज रोग में शरीर में इंसुलिन का स्तर बढ़ने से इंसुलिन अणु व उनके कार्य प्रभावी होते हैं। इसलिए आपके आहार में विटामिन के की मात्रा संतुलित होना भी जरूरी है, इसलिए विशेषकर हरी पत्तेदार सब्जियां ले जैसे पालक व ब्रोकली। पुरुषों को 12 माइक्रोग्राम व महिलाओं को 90 माइक्रोग्राम विटामिन के लेना चाहिए।

 

 

विटामिन 'के' कमी से होने वाले रोग

  • विटामिन के की कमी से रक्त स्राव की समस्या हो सकती है। अगर आपके शरीर में कहीं  से रक्त स्राव हो रहा है तो आपको विटामिन के लेना  चाहिए। रक्त स्राव कई तरह का हो सकता है जैसे मासिक धर्म, मसूढों से व नाक से रक्त आना यह संकेत है कि आपके अंदर विटामिन के की कमी है।
  • आंखों की समस्या होना।    
  • हृदय वाल्व व रक्त धमनियों का कड़ा हो जाना।
  • हड्डियों का टूटना व हड्डियों का दुर्बल हो जाना।



विटामिन 'के' के  स्रोत

 

पालक,मूली,गाजर,बन्दगोभी,फूलगोभी,सोयाबीन का तेल,दूध,अण्डे की जर्दी,हरे पत्ते का शाक आदि।

Disclaimer