रंगों का है काम से संबंध

By  ,  दैनिक जागरण
Feb 18, 2013

पश्चिमी देशों में दफ्तर में काम करने वाले आमतौर पर सफेद कमीज और गहरे रंग की पतलून पहना करते थे।

 

rango ka hai kama say sambandhaअब भी पहनते हैं लेकिन अब इतनी औपचारिकता नहीं बरती जाती। नीले रंग का संबंध शारीरिक श्रम वाले काम से है। औद्योगिक संस्थानों में यानी फैक्टरियों में हल्के या गहरे नीले रंग के कपड़े पहने जाते हैं।

[इसे भी पढ़े- कलर थैरेपी-रंगों से करें इलाज]

गुलाबी रंग की नौकरियां भी होती हैं जिन्हें आमतौर पर महिलाएं करती हैं। जैसे नर्स, चिकित्सा कर्मी, सेक्रेटरी, रिसेप्शनिस्ट, वेट्रेस, बच्चों की देखभाल करने वाली, आमतौर पर महिलाएं होती हैं। गुलाबी रंग महिलाओं के साथ जोड़ा जाता है। इसलिए ऐसी नौकरियों को पिंक कलर नौकरी कहते हैं।

[इसे भी पढ़े- रंगों में छिपा सेहत का राज]

इसके अलावा गोल्ड कलर नौकरियां भी होती हैं, जैसे किसी डिपार्टमेंटल स्टोर में, किसी रेस्तरां या बार में, होटल में काम करने वाला। आमतौर पर 18 से 25 साल के युवा ये नौकरियां करते हैं। ये लोग पैसा खूब खर्च करते हैं। शायद इसीलिए इन्हें गोल्ड कलर कहा जाता है।

 

Read More Articles On- Mental health in hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES12439 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK