क्या प्रेग्नेंसी में एलोवेरा खाने से नुकसान भी हो सकता है, जानें एक्सपर्ट की राय

एलोवेरा के कई फायदे होते हैं। लेकिन प्रेगनेंसी में इसके अधिक सेवन से आपको कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जानें इसके सेवन से जुड़ी सावधानियां

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Nov 19, 2022 13:30 IST
क्या प्रेग्नेंसी में एलोवेरा खाने से नुकसान भी हो सकता है, जानें एक्सपर्ट की राय

आयुर्वेद में एलोवेरा का एक चमत्कारी औषधि की रूप में उपयोग किया जाता है। इससे सेहत की कई समस्या को दूर किया जा सकता है। यही कारण है कि एलोवेरा को स्किन केयर और अन्य कई दवाइयों में उपयोग किया जाता है। वैसे तो इसके फायदे अनगिनत हैं, लेकिन प्रेगनेंसी में इसका अधिक सेवन आपके शरीर में कई नकारात्‍मक प्रभाव भी डाल सकता है। आगे हम आपको इसके फायदे के साथ ही इससे होने वाले कुछ नुकसानों के बारे में भी बताएंगे। चलिए जानते हैं इसके फायदे और नुकसान। 

Aloe vera in Pregnancy

प्रेगनेंसी में एलोवेरा खाने के फायदे

  • प्रेगनेंसी में आप एलोवेरा को जेल और रस के रूप में उपयोग कर सकती हैं, लेकिन इसका सेवन सावधानी से करना बेहद जरूरी है। 
  • एलोवेरा विटामिन और खनिजों से भरपूर होता है, जो मां और बच्‍चे दोनों के लिए आवश्‍यक होता है। 
  • ये पेट को आराम देता है और शुरुआती प्रेगनेंसी के दौरान मॉर्निंग सिकनेस को कम करता है। 
  • प्रेगनेंसी में एलोवेरा का जूस पीने से मां और बच्‍चे दोनों का ब्‍लड सर्कुलेशन ठीक रहता है। 
  • पेट से संबंधित समस्‍याओं में भी एलोवेरा फायदा करता है। 

क्‍या एलोवेरा का जूस प्रेगनेंसी में सुरक्षित है?

एलोवेरा जूस के कई फायदे होते हैं। इसको सेहत संबंधी समस्‍याओं में उपयोग किया जाता है, लेकिन ये जूस हमेशा ही प्रेग्‍नेंट महिलाओं के लिए सुरक्षित ही नहीं माना जा सकता। एलोवेरा में लेटेक्‍स अधिक मात्रा में होता है, जो प्रेगनेंसी के दौरान आंतों में सिकुड़न और इलेक्‍ट्रोलाइट असंतुलन का कारण बन सकता है। यदि इसका सेवन सावधानीपूर्वक न किया जाए, तो मां और बच्‍चे दोनों के लिए खतरनाक हो सकता है। इसलिए प्रेगनेंसी के दौरान इसकी सही खुराक और सेवन के तरीके के बारे में डॉक्‍टर की सलाह अवश्य लें।

प्रेगनेंसी में एलोवेरा के सेवन से क्‍या नुकसान हो सकते हैं?

  • इसका लेटेक्‍स गर्भाशय के संकुचन के जोखिम को बढ़ाने में सहायक हो सकता है, जिससे गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है। 
  • एलोवेरा जूस के अधिक सेवन से कब्‍ज का खतरा भी बढ़ जाता है क्‍योंकि लंबे समय तक इसका सेवन करने से आंत की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं। 
  • ये इलेक्‍ट्रोलाइट्स के स्‍तर को कम करता है और मुख्‍य रूप से इसके पोटैशियम से प्रेगनेंसी में नुकसान हो सकता है। 
  • ये मांसपेशियों में कमजोरी और दिल धड़कने की प्रक्रिया को बिगाड़ सकता है।
  • एलोवेरा के सेवन से एलर्जी की समस्‍या हो सकती है।

इसलिए डाइट में किसी भी प्रकार के बदलाव से पहले गर्भवती महिला एक बार एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। ताकि एलोवेरा के नकारात्मक प्रभाव से बचा जा सके।

इसे भी पढ़ें: एलोवेरा जेल के भी हो सकते हैं कई नुकसान, जानें ज्यादा इस्तेमाल से सेहत और स्किन पर कैसे पड़ता है असर

Disclaimer