चोट पर बर्फ न रखें ठीक होने में लग सकता है वक्त

By  ,  दैनिक जागरण
Dec 28, 2010

शरीर के किसी अंग पर चोट लगने, सूजन आने, कटने या फटने पर अक्सर बर्फ की सिकाई की सलाह दी जाती है। वैज्ञानिकों ने इसे गलत करार दिया है। उनके मुताबिक बर्फ की सिकाई से घावों के भरने की प्रक्रिया धीमी पड़ जाती है। यह पहला मौका है जब वैज्ञानिकों ने बर्फ की सिकाई और उसके कारण घाव भरने की प्रक्रिया में विलंब के संबंध बताए हैं।


ओहियो के न्यूरो इन्फ्लेमेशन रिसर्च सेंटर के शोधकर्ताओं के मुताबिक बर्फ के कारण घाव जल्दी नहीं भर पाता क्योंकि बर्फ की सिकाई घावों को भरने वाले हार्मोस के स्राव को रोक देती है।


चोट के कारण आने वाली सूजन पर भी शोध में अध्ययन किया गया। प्रमुख शोधकर्ता लॉन झोउ ने बताया चोट के बाद घावों को भरने के लिए सूजन का आना जरूरी है। सूजन के कारण कोशिकाएं एक विशेष हार्मोन का उत्पादन करती हैं, जिससे मांसपेशियों के पुनर्जन्म की दर काफी बढ़ जाती है। सूजन वाले ऊतकों में होने वाले हार्मोन के स्राव को 'इंसुलिन लाइक ग्रोथ फैक्टर-1' कहते हैं।


वैज्ञानिकों ने यह शोध चूहों पर किया है। यह शोध फेडरेशन ऑफ अमेरिकन सोसाइटीज फॉर एक्सपेरीमेंटल बॉयोलॉजी में प्रकाशित हुआ है। 

 

Loading...
Is it Helpful Article?YES3 Votes 11931 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK