क्रेनियोसैकरल चिकित्सा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 24, 2009

क्रेनियोसैकरल थेरेपी1898-1900 मेंविलियम सदरलैंड के द्वारा शुरू की गई थी।क्रेनियोसैकरल थेरेपीसीएसटीक्रेनियल ओस्टोपैथी और क्रेनियोसैकरल बॉडी वर्क या थेरेपीके रूप में भी प्रस्तुत की जाती हैं।वैकल्पिक चिकित्सा की यह अवस्था,ओस्टियोपैथ,मालिश चिकित्सक,नैच्यूरोपैथ,काइरोप्रेक्टर,भौतिक चिकित्सक,औरव्यावसायिक चिकित्सक द्वारा इस्तेमाल की जाती हैं।इस थेरेपी में,ये चिकित्सक मानते है कि यह तंत्रिका मार्ग के प्रतिबंध को आसान बनाता हैं,और स्पाइनल कॉर्ड के माध्यम सेमस्तिष्कमेरु द्रव की गति को अनुकूलन बनाता हैं और उनके उचित स्थान की हड्डियोंको बहाल करता हैं।क्रेनियोसैकरल थेरेपीमानसिक तनाव, गर्दन और पीठ दर्द, माइग्रेन,टीएमजे सिंड्रोम,जैसे पुराने दर्द की स्थिति के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है,इस थेरेपी का प्रभावीअध्ययन सीमित होता हैं।

 

 

Loading...
Is it Helpful Article?YES10639 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK