एंकायलूजि़ग स्‍पांडेलाइटिस का निदान

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 26, 2013

ankylosing spondylitis ka nidaanएंकायलूजि़ग स्‍पांडेलाइटिस के निदान के लिए रोगी के लक्षणों व शारीरिक जांच की जाती है। इसके लिए अन्य इमेजिंग परीक्षण  स्कैन जैसे कंप्यूटीड टोमोग्राफी  (सीटी) या चुंबकीय अनुनाद (इमेजिंग एमआरआई) स्कैन आपके सर्कोलिक जोड़ों या किसी अन्य जोड़ों के दर्द या कठोरपन की समस्याओं को देखने के लिए आपका  चिकित्सक रक्त परीक्षण के लिए बोल सकता है। एचएलए-B27 जीन सामान्यतः एंकायलूजि़ग स्‍पांडेलाइटिस के लोगों में अन्य लोगों की तुलना में ज्यादा  पाया जाता है।

हालांकि, एचएलए जीन-B27 जीन के होने का मतलब यह नहीं कि आपमें एंकायलूजि़ग स्‍पांडेलाइटिस के लक्षण हैं या इसका विकास होगा। आपका चिकित्सक लक्षणों के एक संयोजन, शारीरिक जांच, रक्त परीक्षण और इमेजिंग परीक्षणों के आधार पर स्थिति का निदान करेंगे। कमर के निचले हिस्से में दर्द, झुकने में परेशान इसके मुख्य लक्षण माने जाते हैं। यह समस्या पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में ज्यादा देखी जाती है।

डॉक्टर के द्वारा किए गए परीक्षण के जरिए एंकायलूजि़ग स्‍पांडेलाइटिस के लक्षणों की जानकारी हो के बाद इसके इलाज की शुरुआत की जाती है। एंकायलूजि़ग स्‍पांडेलाइटिस की समस्या होने पर रोगी को किसी भी तरह की शारीरिक गतिविधि में समस्या आती है। जैसे गर्दन मोड़ना, झुकना, बिस्तर पर सीधा लेटने आदि में समस्या हो सकती है। डॉक्टरों के मुताबिक इस समस्या से ग्रस्त लोगों में आंखों में सूजन की भी शिकायत रहती है।

इस समस्या के कारणों में पारिवारिक इतिहास का अहम रोल है। अगर यह समस्या जेनेटिक है तो यह आने वाली पीढ़ी को भी प्रभावित कर सकती है। इसके अलावा गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संक्रमण व एचएलए-B27 जीन का बनना।

Loading...
Is it Helpful Article?YES64 Votes 18159 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK