उम्रदराज लोगों की तुलना में नौकरी पाने के बाद युवा रहते हैं ज्‍यादा खुश

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 04, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • युवाओं का भविष्य में करियर को लेकर सकारात्‍मक दृष्टिकोण।
  • सर्वेक्षण शीर्ष कंपनियों में से एक कंपनी जीएफके के सहयोग से किया।
  • सुरक्षित करियर किसी उपलब्धि की तरह लगता है वरिष्‍ठ कर्मचारियों को।  
  • युवाओं द्वारा नौकरियों के बारे में सोचने पर रुपये का भी बहुत प्रभाव।

youth are happier after fetching a job अपनी पहली नियमित नौकरी पाने वाले युवा अपने सीनियर ऑफिसर की अपेक्षा कहीं अधिक खुश रहते हैं और भविष्य में अपने करियर को लेकर उनका दृष्टिकोण बहुत सकारात्मक रहता है। हाल ही में हुए एक शोध से यह बात स‍ाबित हुई है।

 

एक अमेरिकी आर्थिक समाचार पत्र के अनुसार, नए शोध से पता चलता है कि नए कर्मचारी तथा वरिष्ठ कर्मचारी अपनी-अपनी नौकरियों के बारे में क्या सोचते हैं। इस नए शोध के अनुसार, 18 से 30 की आयु के बीच वाले युवा कर्मचारियों में से 62 प्रतिशत कर्मचारियों का मानना है कि वे वर्तमान कार्य वातावरण में अपने करियर के प्रति सकारात्मक सोच रखते हैं, जबकि वरिष्ठ कर्मचारियों में सिर्फ 48 फीसदी कर्मचारी ही अपने करियर से निश्चिंत पाए गए।

 

शोध के अनुसार, 37 प्रतिशत वरिष्ठ कर्मचारियों को सुरक्षित करियर किसी उपलब्धि की तरह लगता है, जबकि सिर्फ 26 प्रतिशत युवा कर्मचारी ऐसी सोच रखते हैं। वरिष्ठ कर्मचारी यह भी मानते हैं कि नौकरी से उन्हें जीवनर्पयत आजीविका कमाने की सुविधा मिलती है, जबकि बहुत कम युवा कर्मचारियों को ऐसा लगता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि युवा कर्मचारियों की इस सोच का कारण वर्तमान आर्थिक मंदी में युवाओं पर पड़े सबसे अधिक प्रभाव के कारण भी ऐसा हो सकता है।

 

नौकरी पाने में सहायता करने वाली दुनिया की शीर्ष कंपनियों में से एक सर्वेक्षण कंपनी जीएफके के सहयोग से 1008 लोगों पर यह शोधकार्य किया। शोधकर्ताओं के अनुसार युवाओं द्वारा अपनी नौकरियों के बारे में सोचने पर रुपये का भी बहुत प्रभाव पड़ता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, 42 प्रतिशत कर्मचारियों ने कहा कि अगर रुपये कमाने की चिंता न हो तो वे दूसरों को सहायता प्रदान करने वाली नौकरी करना चाहेंगे। अन्य कर्मचारियों ने कहा कि वे अध्यापक, खोजकर्ता, अन्वेषक या खिलाड़ी बनना चाहेंगे। सिर्फ पांच प्रतिशत कर्मचारी यह बताने में असमर्थ रहे कि वे क्या करना चाहेंगे।



 

Read More Health News In Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES867 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर