आपके हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में क्‍या बताती है त्‍वचा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 27, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • त्‍वचा की बीमारियों से दिल के रोगों का पता चलता है।
  • एक्जिमा में अधिक होती है उच्‍च रक्‍तचाप की समस्‍या।
  • एंटीऑक्‍सीडेंट युक्‍त खाद्य पदार्थों का रोज सेवन कीजिए।
  • हृदय को स्‍वस्‍थ रखने के लिए नियमित करायें जांच।

क्‍या आपकी त्‍वचा को देखकर भविष्‍य में होने वाले दिल के रोगों की जानकारी मिल सकती है? हालांकि इस बात का जबाव और दोनों के बीच के संबंधों को जानना इतना आसान नहीं है। लेकिन हाल ही में हुए एक अध्‍ययन के अनुसार यह बात सामने आई हैं कि त्‍वचा की बीमारियों से दिल के रोगों का पता आसानी से लगाया जा सकता है। तो क्‍या आप भी नहीं जानना चाहेंगे कि आखिर आपकी त्‍वचा और दिल के बीच में क्‍या संबंध है?

skin problem in hindi

शोध के अनुसार

क्लीनिकल इम्यूनोलॉजी के जर्नल में 61,000 वयस्क लोगों पर हुए एक नए शोध के परिणाम के अनुसार, त्‍वचा में सूजन और जलन जैसी समस्‍या यानी एक्जिमा से पीड़ि‍त लगभग 48 प्रतिशत लोगों में उच्‍च रक्‍तचाप, 35 प्रतिशत वयस्‍कों में डायबिटीज और लगभग 29 प्रतिशत लोगों में उच्‍च कोलेस्‍ट्रॉल की आंशका एक्‍सरसाइज और शराब पीने की आदतों जैसे कारकों को नियंत्रित करने के बावजूद, अन्‍य वयस्‍कों की तुलना में अधिक होती है। ये सभी दिल की बीमारी के जोखिम कारक होते हैं। एक्जिमा से ग्रस्‍त लोगों को तेज और क्रोनिक जलन का सामना करना पड़ता है, जिसका प्रभाव त्‍वचा के साथ पूरे शरीर में देखने को मिलता है।

त्‍वचा और दिल में संबंध

हालांकि शरीर की तीव्र जलन की समस्‍या प्राकृतिक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया है, लेकिन प्राकृतिक किलर कोशिकाओं और टी कोशिकाओं के लगातार फैलाव के कारण, वास्‍तव में इससे पाचन और संचालन जैसे महत्‍वपूर्ण कार्यों में बाधा उत्‍पन्‍न होने लगती है। मेडिसिन के नॉर्थ वेस्टर्न यूनिवर्सिटी के डर्मेटोलॉजी एमडी, पीएचडी जोनाथन सिल्वरबर्ग के अनुसार, एक्जिमा में होने वाली तेज सूजन और जलन से हृदय का जोखिम और अधिक बढ़ जाता है।

heart in hindi


सिल्वरबर्ग बताते हैं कि जरूरी नहीं कि एक्जिमा की समस्‍या से ग्रस्‍त हर व्‍यक्ति को दिल के रोगों को खतरा हो। लेकिन ऐसा भी जरूरी नहीं कि अगर आपको त्‍वचा विकार है तो यह सिर्फ एक कॉस्‍मेटिक समस्‍या हो। पिछले अध्‍ययनों में पाया गया कि गंभीर एक्जिमा के लक्षण अधिक सूजन का संकेत होते है और यह अन्‍य सूजन से जुड़ी त्‍वचा समस्‍याओं को भी बढ़ा सकते है।

त्‍वचा रोगों से बचाव    

इसलिए सूजन को कम करने और इस समस्‍या को जड़ से खत्‍म करने के लिए एक्जिमा के लक्षणों को पहली स्‍टेज पर नियंत्रित करना बहुत जरूरी होता है। लक्षणों को कम करने के लिए नियमित रूप से अधिक मात्रा में एंटी-इंफ्लेमेटरी आहार जैसे एंटीऑक्‍सीडेंट युक्‍त आहार का सेवन करें, तनाव के स्‍तर को नियं‍त्रण में रखें और भरपूर नींद लें। इसके अलावा नियमित रूप से हृदय स्‍वास्‍थ्‍य की जांच के लिए अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें- यह दिल के स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में जानने का सबसे अच्‍छा तरीका है।


 
Image Courtesy : Getty Images

Read More Articles on Heart Health in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES12 Votes 1828 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर