इस बीमारी में आपका ही दुश्मन बन जाता है शरीर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 27, 2017
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • आपका ही दुश्‍मन बन जाता है इम्‍यून‍ सिस्‍टम।
  • स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस से रीढ़ में विकार आना।
  • इसके उपचार का लक्ष्य दर्द को कम करना है।

किसी भी बीमारी से बचने के लिए हमारा इम्‍यून सिस्‍टम हमारी बहुत मदद करता है। लेकिन एक ऐसी बीमारी है जिसमें हमारा इम्यून सिस्टम हमें बचाने के बजाय हमारे शरीर पर ही आक्रमण करने लग जाता है। क्‍या आप इस बीमारी के बारे में जानते हैं? शायद नहीं! तो आइए आज हम इस बीमारी के बारे में आपको विस्‍तार से बताते हैं।  

spinal rheumatoid arthritis in hindi

इसे भी पढ़ें : हाथों में अर्थराइटिस के दर्द से कैसे पायें निजात

स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस

जी हां स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस एक ऐसी बीमारी है, जिसमें हमारी इम्‍यूनिटी हमारी रक्षा करने की बजाय हमारी दुश्‍मन बन जाती है। इस रोग में शरीर की इम्‍यूनिटी यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता हमारे शरीर के खिलाफ उसमें बनने वाले प्रोटीन, हड्डियों में स्थित कणों, जोड़ों और रीढ़ की मसल्‍स को खत्म करने लग जाता है। इनके चलते हमारे जोड़ खराब होने लग जाते हैं, जिससे रीढ़ में विकार आ जाता है।

रुमेटॉइड अर्थराइटिस एक बीमारी है जिससे जोड़ों पर बुरा असर पड़ता है। यह शरीर में किसी भी जोड़ा को प्रभावित कर सकता है और हाथों और पैरों में छोटे जोड़ों में सबसे सामान्‍य होता है। लेकिन जब रुमेटॉइड अर्थराइटिस रीढ़ की हड्डी के जोड़ों को प्रभावित करता है, तो पीठ की निचले हिस्‍से की तुलना में गर्दन को ज्‍यादा प्रभावित करता है।

स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस के लक्षण

  • जोड़ों में सूजन
  • अकड़न या लालिमा
  • थकावट महसूस होना
  • तेज बुखार

 

स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस दुष्प्रभाव

स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस कम उम्र यानी किशोरावस्‍था में शुरू हो सकता है। स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस के कारण होने वाले बदलावों को  पलटा नहीं जा सकता। जिससे रीढ़ की हड्डी कार्य करना कम कर देती है और उसमें अकड़न होने लगती है। माना जाता है यह बीमारी लाइलाज है और इसके साथ ताउम्र रहना पड़ता है। हालांकि यह बीमारी पुरुष और महिला दोनों को प्रभावित करती है, लेकिन स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस बीमारी ज्यादातर पुरुषों में पायी जाती है, खासतौर पर किशोर इसकी पकड़ में ज्यादा आते हैं।

इसे भी पढ़ें : गठिया रोग के प्रकार और लक्षण

स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस का इलाज

आमतौर पर इस बीमारी का इलाज न केवल महंगा है, बल्कि इलाज कुछ समय के लिए अस्थाई तौर पर रोग के लक्षणों में आराम पहुंचाता है। स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस में शुरुआती तौर पर तेज एंटी-इंफ्लेमेंटरी दवाएं दी जाती हैं। ये उपचार स्थायी रूप से बीमारी को ठीक नहीं करते, बस रोगी के लक्षणों में अल्पकालिक राहत प्रदान करते हैं।


स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस का उपचार

  • स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस के उपचार का लक्ष्य
  • दर्द को कम या समाप्त करना।
  • रोजमर्रा की जिंदगी में काम करने की क्षमता बनाए रखना।
  • रोग की प्रगति को कम या धीमा करना है।

अधिकांश लोगों के लिए, उपचार नॉनसर्जिकल है और इसमें एक या बहुत सारे शारीरिक उपचार और व्यायाम, दवाएं, आहार और पोषण, और संभवतः वैकल्पिक या पूरक रूप से देखभाल शामिल होती। स्पाइनल रुमेटॉइड अर्थराइटिस के लिए सर्जरी दुर्लभ है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source : shutterstock.com

Read More Articels on Arthritis in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 1636 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर