इन पांच शब्‍दों का अपने शब्‍दकोश से करें सफाया

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 05, 2014
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सही शब्‍दों के चयन की कला सीखिये।
  • किसी के आत्‍म-सम्‍मान को चोट न पहुंचायें।
  • किसी के शारीरिक रूप को निशाना न बनायें।
  • अपने शब्‍दों से सकारात्‍मकता पैदा करने का प्रयास करें।

 

शब्‍दों में बहुत शक्ति होती है। कहते हैं कि वाणी ही इनसान को राजा बनाती है और यही किसी को रंक भी बना सकती है। शब्‍दों के इस्‍तेमाल से पहले काफी सावधानी बरतनी चाहिए। और साथ ही इनके पीछे की भावनाओं को भी जरूर समझना चाहिए। शब्‍दों के मायने और उनके कहे जाने के पीछे का मकसद मिलकर ही किसी बात को मुकम्‍मल करते हैं। किसी के साथ आपका व्‍यवहार कैसा है यह इस बात पर निर्भर करता है कि उसके साथ बातचीत करते समय आप किन शब्‍दों का प्रयोग करते हैं।

 

यदि मेरा इरादा अपने साथ और दूसरों के साथ दयालुता वाला है, तो मुझे कुछ शब्‍दों का इस्‍तेमाल बिलकुल नहीं करना चाहिए। ये शब्‍द न केवल आपकी छवि खराब करते हैं, बल्कि किसी के मन को गहरा दुख भी पहुंचाते हैं।

 

1. बेवकूफ (Stupid)

 

हम कई बार अपने आप को, दूसरों को और यहां तक कि वस्‍तुओं को भी स्‍टूपिड या मूर्ख कह देते हैं। हम अकसर इस शब्‍द का इस्‍तेमाल तब करते हैं, जब वे हमारे मन मुताबिक काम नहीं करतीं। इस शब्‍द को अपने शब्‍दकोश से हटा देना ही बेहतर है। इससे आप चीजों को उनके वास्‍तविक रूप में स्‍वीकार कर सकते हैं। आखिर हम दूसरों पर फैसला सुनाने वाले कौन होते हैं। हमें चीजों, इनसानों और परिस्थितियों को उनके वास्‍तविक रूप में स्‍वीकार करना चाहिए।

 

stupid

2. मोटा (Fat)

यदि आप अपने लिए या दूसरों के लिए इस शब्‍द का इस्‍तेमाल कर रहे हैं, तो ऐसा मत कीजिए। यह शब्‍द केवल नफरत फैलाता है। आप इस दुनिया में क्‍या फैलाना चाहते हैं, प्‍यार या नफरत। यदि आप अपने आसपास सकारात्‍मक माहौल रखना चाहते हैं, तो इस शब्‍द से दूर रहें। यह शब्‍द नकारात्‍मकता से परिपूर्ण है और अपने आसपास वैसा ही माहौल उत्‍पन्‍न करता है।

 

3. अवश्‍य (Should)


यदि चीजें किसी खास अंदाज से होने के लिए बनी हैं, तो वे वैसी ही होंगी। यदि आपके जीवन में किसी का साथ लिखा है, तो आपको वह जरूर मिलेगा। यदि आप अमीर बनने के लिए सच्‍ची लगन और मेहनत से काम कर रहे हैं, तो आपको कामयाबी जरूर मिलेगी। आप गीता के सार में विश्‍वास रखिये और अपना कर्म पर ध्‍यान दीजिये। चीजें वैसी ही होंगी, जैसा उन्‍होंने होना है। अपनी मेहनत में कमी मत लाइए और हमेशा अपनी इच्‍छा के अनुरूप परिणाम की अपेक्षा मत कीजिए।

4. नफरत (Hate)

यह बहुत बुरा शब्‍द है। यह अपने आसपास नकारात्‍मक फैलाता है। क्‍यों अपने जीवन में होने वाली गलत बातों और माहौल पर ध्‍यान लगाइए। क्‍यों ऐसी बातों पर अपनी ऊर्जा खर्च कीजिए जिन पर हमारा नियंत्रण नहीं है। हमें इन अनियंत्रित परिस्थितियों पर ध्‍यान लगाकर अपनी उनसे नफरत करने के स्‍थान पर सकारात्‍मक बातों पर ध्‍यान केंद्रित करना चाहिए।

hate

5. लूजर (Loser)

 

हर किसी के जीवन का अपना अंदाज होता है। हर कोई अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए अपना रास्‍ता चुनता है। कुछ लोगों को कामयाबी मिलती है और अधिकतर लोगों के हाथ खाली रहते हैं। लेकिन, देखा जाए तो हारा हुआ कोई भी नहीं होता, क्‍योंकि हर इनसान को कुछ न कुछ सीख जरूर मिलती है। यदि कोई व्‍यक्ति अपनी जिंदगी को अपने तरीके से जीना चाहता है, और वह तरीका आपके हिसाब से पूरी तरह गलत है, तो भी आपको कोई हक नहीं कि आप दूसरों को अपने हिसाब से जिंदगी जीने के लिए कहें या मजबूर करें। लोगों को अपनी जिंदगी का रास्‍ता चुनने की आजादी है, अब भले ही उसमें आपके हिसाब से 'कामयाबी' मिले या नहीं।

 

याद रखिये तीर कमान से और बात जुबान से निकलकर कभी वापस नहीं आती। इसलिए अपने शब्‍दों को चुनते हुए सावधानी बरतें। किसी के बारे में फैसला न लें। न ही किसी के बारे में कोई पूर्वाग्रह ही रखें। आपके जीवन में काफी समस्‍यायें दूर हो सकती हैं, यदि आपकी जुबान पर आपका काबू है, तो।

 

Image Courtesy- Getty Images

 

Read More Articles on Mental Health in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 1037 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर