करतें हैं नवरात्रि का व्रत, तो सावधान रहें इस कुट्टू के आटे से

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 22, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • नवरात्रि में खाई जाती हैं कुट्टू के आटे की रोटियां और पूड़ियां।
  • 2011 में इस आटे का कारण 200 लोग पड़े थे बीमार।
  • ऐसे में इस नवरात्रि आप बचकर रहें इस जहरीले आटे से।
  • इसलिए आटा लेते समय सील बंद पैकेट आटा ही लें।

नवरात्रि में कुट्टु के आटे की रोटी और टमाटर की चटनी सबका मनपसंद और जरूरी भोजन होता है। नवरात्रि में व्रत के दौरान अनाज खाने की मनाही होती है इसलिए लोग उस समय कुट्टू के आटे की रोटियां और पूड़ियां खाते हैं। इस कारण नवरात्रि में कुट्टु के आटे की मांग बढ़ जाती है। इस बढ़ी हुई मांग पर पूरे काले बाजार की नजर रहती है जिससे बाजार में जहरीला कुट्टू का आटा आने लगता है। 2011 में इस जहरीले कुट्टू के आटे को खाकर अकेले दिल्ली में 200 लोगों के बीमार होने की खबर आई थी। तो इस नवरात्र आप इस जहरीले आटे का सेवन ना कर लें इसलिए इसकी पूरी जानकारी इस लेख में पढ़ें।

इसे भी पढ़ें- नवरात्रि पर बनाएं माता का प्रिय भोग

क्या होता है "कुट्टू का आटा"

कुट्टू का आटा बक्वीट के पौधों के बीजों से बनता है। दरअसल मिलावटखोरों की वजह से पिछले कुछ सालों से नवरात्रि में व्रतियों के लिए कुट्टू के आटे से बना खाना जहर साबित हुआ है। जबकि कुट्टू का आटा अपने अंदर बहुत से गुण छिपाए हुआ है। लेकिन ये जहर तब बन जाता है जब ये पुराना होता है। विशेषज्ञों की मानें तो कुट्टू का आटा बनने के एक माह तक ही खाने लायक रहता है और उसके बाद ये खराब हो जाता है। पुराना होने पर ये जहरीला हो जाता है और खाने के अनुकूल नहीं रहता।



कुट्टू सिंघाड़ा से भी बनता है और बक्वीट के पौधों के बीज से भी। कुट्टू कहे जाने वाले आटे को अंग्रेजी में 'बक्वीट' तो पंजाब में 'ओखला' के नाम से जाना जाता है। इसे वैज्ञानिक भाषा में  'फैगोपाइरम एसक्युल्युटम' कहते है। ये बक्वीट का पौधा होता है।

क्या है बकवीट का पौधा

  • बक्वीट का पौधा काफी तेजी से बढ़ता है और 6 हफ्तो में ही इसकी लंबाई 50 इंच तक बढ़ जाती है।
  • बक्वीट के पौधे में सफेद फूल लगते हैं जिसमें से बीज निकाले जाते हैं।
  • इन बीजों को ही महीन पीसकर कुट्टू का आटा तैयार किया जाता है।


लेकिन दुकानदार इस आटे में सिंघाड़ा गिरी को पीसकर बनाया गया आटा भी मिला देते हैं। हिंदू व्रतधारी व्रत के दौरान इस आटे की पूड़ी व पकौड़े बनाकर व्रत खोलते हैं।

इसे भी पढ़ें- नवरात्र व्रत के दौरान तले-भुने खाने से रखें परहेज

 

बक्वीट है फायदेमंद

बक्वीट एक फायदेमंद पौधा है जिससे दवाइयां भी बनती हैं। इसमें मौजूद 75 प्रतिशत कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट होते हैं और 25 प्रतिशत हाई क्वॉलिटी प्रोटीन होते हैं जो वजन कम करने में सहायक होते हैं। ये दिल की बीमारियों के मरीजों के लिए भी काफी फायदेमंद है। इसमें मैगनीशियम, फाइबर, विटामिन-बी, आयरन, फास्फोरस की मात्रा अधिक होने के कारण इसका इस्तेमाल कई दवाइयों में भी किया जाता है।

इसे भी पढ़ें- नवरात्र व्रत के लाभ

 

तो फिर कैसे होता है ये जहरीला

अब कई लोगों के दिमाग में ये बात आएगी कि कुट्टू का आटा जब इतना फायदेमंद होता है तो वो जहरीला कैसे हुआ। दरअसल जब कुट्टू का आटा एक महीना पुराना हो जाता है तो इसमें फंगस लगना शुरू हो जाता है जिस कारण ये जहरीला हो जाता है। अब ऐसे में कैसे पता लगायें कि कुट्टू का आटा खाने के लायक है या नहीं। तो ये रहें कुछ टिप्स-

  • कुट्टू का आटा लेते समय ध्यान रखें कि उसमें काले दाने जैसा तो कुछ नहीं।
  • आटा खुरदरा ना हो।
  • आटा सील बंद पैकेट में ही लें।
  • कीड़े ना लगे हों आटे में।  
  • हमेशा बाजार से लाया गया आटा छानकर इस्तेमाल करें।
  • वर्तमान में बाजार में इस आटे की कीमत 80 से 120 रुपये किलो है। अगर कोई इससे कम दाम में आटा बेच रहा है तो वो नकली दे रहा है।

 

 

Read more articles on Festival special in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES6 Votes 1815 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर