कान को स्‍वस्‍थ रखने के लिए रोजाना करें ये 3 योग, बहरेपन से मिलेगा छुटकारा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 30, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • योग से कान की बीमारियों को दूर करने का तरीका
  • इस योगासन से कान की कई तरह की बीमारियां सही होती हैं।
  • यहां तक कि योग से बहरापन भी काफी हद तक दूर हो सकता है।

योग और प्राणायाम सिर्फ मांस‍पेशियों को लचीला बनाने के लिए ही किया जाता है। योग यह सांस लेने की तकनीकों का मेल है जो शरीर को कई तरह की बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। इससे हमारा शरीर फिट रहता है। आज हम आपको योग से कान की बीमारियों को दूर करने का तरीका बताएंगे। इस योगासन से कान की कई तरह की बीमारियां सही होती हैं। यहां तक कि योग से बहरापन भी काफी हद तक दूर हो सकता है। आइए जानते है कान के लिए कौन सा योग फायदेमंद हो सकता है।

ताड़ासन

ताड़ासन आपके कान के लिए बहुत ही उपयोगी आसन है। इसे नियमित रूप से करने से आपके पोस्चर में सुधार देखने को मिलता है। यह जांघों, घुटनों और टखनों को मजबूत करता है तथा इससे पैर और कूल्हों में ताकत, शक्ति और गतिशीलता बढ़ जाती है।

कैसे करें

तड़ासन करने के लिए आप 4 से 6 इंच का गैप रखकर खड़े हो जाइए। इसके बाद दोनों भुजाओं को ऊपर की ओर उठाइए। इस दौरान अपनी आंखों को सामने पड़ने वाली किसी भी चीज पर अपनी दृष्टि जमा लीजिए। इसमें आपके शरीर का सारा भार आपकी पैरों की अंगुलियों पर होगा। कुछ समय तक इस अवस्था में रहने के बाद वापिस इस सामान्य में आ जाइए। इस आसन को आप कम से कम दस बार कीजिए। इस आसन के दौरान ऊपर उठते समय श्वास अंदर व नीचे की ओर आते समय बाहर लीजिए।

इसे भी पढ़ें: इस तरह ईयरफोन लगाकर सुनते हैं गानें, तो बहरेपन के लिए रहें तैयार!

ब्रीथिंग एक्सरसाइज

कान से कम सुनना या फिर आपको कान की दूसरी समस्या है तो आपको ब्रीथिंग एक्सरसाइज या सांस लेने वाले व्यायाम करना चाहिए। सांस लेने वाले योग को प्राणायाम कहा जाता है। यह अभ्यास तनाव को दूर करने और कान दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा सांस के व्यायाम से ऑक्सीजन लेने में फैफड़ों की मदद करेंगी और आपका शरीर सही प्रकार से काम करेगा।

कैसे करें

ब्रीथिंग एक्सरसाइज के लिए आप जमीन पर सिद्धासन, सुखासन, या पद्मासन बैठ जाइए और सामान्य रूप से सांस लें। इसमें आप अनुलोम विलोम का भी अभ्यास कर सकते हैं। अनुलोम-विलोम प्राणायाम में नाक के दाएं छिद्र से सांस को अंदर लेते हैं, तो बायीं नाक के छिद्र से सांस बाहर निकालते है। इसी तरह यदि नाक के बाएं छिद्र से सांस अंदर लेते हैं, तो नाक के दाहिने छिद्र से सांस को बाहर निकालते है।

इसे भी पढ़ें: कान से आती है बदबू तो हो सकती हैं ये 4 बीमारियां

रेस्टोरेटिव योग

रेस्टोरेटिव योग, एक योग का रुप है जिसमें हम कुछ साधारण घर के सामान का सहारा लेकर शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक संतुष्टि और आराम प्राप्त कर सकते हैं। इन सामाग्रीयों का इस्तेमाल आपके शरीर में योग की मुद्रा करते समय संतुलित बनाने के लिए किया जाता है। इस योगाभ्यास से शरीर की शक्ति और लचीलेपन को हम बढ़ा सकते हैं। साथ यह योग आपके कान के लिए बहुत ही उपयोगी है।

कैसे करें

रेस्टोरेटिव योग आपके शरीर और मन को तनाव तथा कान की बीमारियों को दूर करने में सहायता कर सकता है। इसे तकिये की सहायता से किया जाता है जिसमें आपको दीवार के सहारे पैर ऊपर करके संतुलन बनाना होता है इस मुद्रा में पैर, कमर और पीठ के पीछे तकिये का प्रयोग किया जाता है।

गर्दन घुमाना

धीरे-धीरे गर्दन को घुमाना भी कान के लिए एक अच्छा व्यायाम है। इससे गर्दन को उर्जा मिलती है और गर्दन की मांसपेशियों को आराम मिलता है। गर्दन घुमाने की क्रिया को 5 बार करें और फिर विपरीत दिशा में दोहरायें।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Ear Problem In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES866 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर