वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे : तेजी से फैल रहा ब्रेन ट्यूमर, जानें लक्षण और उपचार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 07, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर दिवस।
  • तेजी से फैल रहा ब्रेन ट्यूमर।
  • ब्रेन ट्यूमर के लक्षण और उपचार।

ब्रेन इंसान का सबसे महत्वपूर्ण अंग होता है। दिमाग की संचालकता को देखकर ही मनाव शरीर का अंदाजा हो जाता है। लेकिन बिगड़ते लाइफस्टाइल को देखते हुए ब्रेन ट्यूमर का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। यह एक बहुत ही घातक रोग है। 8 जून को वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे मनाया जाता है। इस मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं कि इस बीमारी के तेजी से बढ़ने और फैलने के क्या कारण हैं?

इसे भी पढ़ें: आयुर्वेदिक तरीके से करें माइग्रेन का इलाज

ब्रेन ट्यूमर में बिनाइन और मेलगनेंट जैसे अन्य दो ट्यूमर होते हैं। यह ट्यूमर व्यक्ति के दिमाग पर गहरा असर डालते हैं। एक ओर जहां बिनाइन ट्यूमर व्यक्ति के दिमाग पर दबाव डालता है। वहीं दूसरी ओर मेलगनेंट ट्यूमर (कैंसर) लोगों के लिए बेहद खतरनाक है। लेकिन डॉक्टर्स का यह भी कहतना है कि अगर समय रहते मरीज का सही इलाज किया जाए तो ट्यूमर से बचा जा सकता है। आइए ब्रेन ट्यूमर के मुख्य लक्षणों के बारे में जानते हैं।

ब्रेन ट्यूमर के लक्षण

 

  • सुबह उठने के तुरंत साथ ही सिर में दर्द होना
  • अचानक उल्टी जैसा महसूस होना
  • व्यक्ति के व्यवहार में परिवर्तन आना
  • छोटी छोटी बातों में चिड़चिड़ाहट होना
  • आंखों की रोशनी कम होना
  • बोलते बोलते मुंह से आवाज ना निकलना
  • व्यक्ति की मानसिक क्षमताओं में बदलाव
  • शरीर के एक हिस्से में कमजोरी होना
  • रोजाना के कामों में गड़बड़ी करना
  • दौरे पड़ना और कम सुनाई देना

इसे भी पढ़ें: योग से करें नकारात्‍मक विचारों को काबू

हालांकि अभी तक ब्रेन ट्यूमर के कारणों का सही-सही पता नहीं चल पाया है। लेकिन अगर कभी-कभी मिरगी के दौरे के सामान दौरा पड़ता हो या बेहोशी आती हो, सिर में असहनीय दर्द होता हो, हाथ-पैरों में ऐंठन हो, ज्यादा कमजोरी का एहसास हो, सुबह के समय सिर में अक्सर दर्द होता हो, दृष्टि का अचानक कम होना या कलर ब्लांइडनेस आदि जैसे लक्षण देखें जा रहे हैं तो किसी अच्छे डॉक्कर से सलाह अवश्य लें।

ब्रेन ट्यूमर के उपचार


ब्रेन ट्यूमर का उपचार ट्यूमर के प्रकार, आकार और स्थान पर निर्भर करता है। बिनाइन ट्यूमर कैंसर रहित होता है। ट्यूमर को ऑपरेशन करके निकाला जा सकता है। जबकि मेलगनेंट ट्यूमर को थोड़ा-थोड़ा करके निकाला जाता है। चिकित्सकों के अनुसार बच्चों में इसका उपचार संभव है। जबकि बड़ों में कीमोथेरेपी और रेडियोथेरेपी देकर इसे निकाला जा सकता है। ऐसे में मरीज का किसी स्पेशलिस्ट को दिखाकर ही इलाज कराना उचित है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Mental Health In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES886 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर