महिलाओं में प्रीडायबिटीज के जोखिम कारक

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 13, 2014
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • महिलाओं में पुरुषों की तुलना डायबिटीज की आशंका अधिक।
  • प्रीडायबिटीज एक 'वेकअप कॉल' की तरह होती है।
  • टाइप-2 डायबिटीज के विकसित होने का खतरा बढ़ता है।
  • आमतौर पर प्रीडायबिटीज के कोई लक्षण नहीं होते है।

डायबिटीज होने और न होने के बीच एक स्थिति होती है, जिसे प्रीडायबिटीज कहा जाता है। यहां आपको डायबिटीज तो नहीं हुई होती, लेकिन आप इसके मुहाने पर जरूर होती हैं। महिलाओं में प्रीडा‍यबिटीज की इस स्थिति का पता लगाने के कुछ खास संकेत होते हैं। ब्‍लड प्रेशर का उच्‍च स्‍तर आपके लिए प्रीडायबिटीज का संकेत हो सकता है। इसलिए अगर आपका ब्‍लड शुगर का स्तर सामान्‍य से अधिक है, बहुत ज्‍यादा नहीं भी है तो भी आप डायबिटीज से पीड़ि‍त हो सकती हैं।

 

women-and-pre-diabetes-in-hindi

 


एनल्स ऑफ इंटरनल मेडिसिन के शोध के अनुसार, 1988 के बाद से अमेरिका में प्रीडायबिटीज की संख्‍या लगभग दोगुनी हो गई है। और बुरी खबर यह है कि इससे हृदय रोग, स्‍ट्रोक और टाइप-2 डायबिटीज का जोखिम भी बढ़ गया है। महिलाओं में भी प्रीडायबिटीज के मामलों में आश्चर्यजनक रूप से वृद्धि दर्ज की जा रही है। 2001 में 15.5 प्रतिशत दर की दर बढ़कर 2010 में लगभग 50.5 प्रतिशत तक पहुंच गयी है।

क्‍या हैं कारण

आजकल जीवन और जीवनशैली दोनों बदल रहे हैं। और महिलायें भी इस बदलाव से अछूती नहीं हैं। मोटापा, निष्क्रिय जीवनशैली और डायबिटीज का परिवारिक इतिहास जैसे कारक पुरुषों और महिलाओं दोनों में डायबिटीज के खतरे में इजाफा करते हैं। लेकिन डायबिटीज होने की आशंका महिलाओं में पुरुषों की तुलना में निम्‍न कारणों की वजह से अधिक होती हैं।

 

  • गर्भावस्था के दौरान गर्भावधि मधुमेह
  • 9 पाउंड से अधिक वजन के शिशु को जन्‍म देना
  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम का निदान  

मध्‍यम आयु वर्ग की महिलाओं के लिए प्रीडायबिटीज एक 'वेकअप कॉल' की तरह होती है क्‍योंकि 45 साल की उम्र के बाद डायबिटीज का निदान मुश्किल हो जाता है। इस उम्र में चयापचय धीमा हो जाता है, मांसपेशियों में पहले सी शक्ति नहीं रहती और वजन घटाना भी मुश्किल हो जाता है।

पीट्सबर्ग यूनिवर्सिटी में डायबिटीज सपोर्ट सेंट्रर के डारेक्‍टर डॉक्‍टर पीएच एम काए क्रेमर के अनसुार, बीमार पड़ने पर ही प्रीडायबिटीज जांच करवाने तक का इंतजार नहीं करना चाहिए। इसका जल्‍द पता लगाना आवश्‍यक होता हैं, क्‍योंकि इसे अनियंत्रित छोड़ दिये जाने से टाइप-2 डायबिटीज के विकसित होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। लेकिन सबसे बड़ा जोखिम यह है कि प्रीडायबिटीज के कोई लक्षण नहीं होते है, यही कारण है कि अमेरिकन डायबिटीज एसोसिशन का अनुमान के अनुसार, 86 लाख वयस्‍कों में 10 प्रतिशत से भी कम लोगों में प्रीडायबिटीज को निदान किया गया।  

 

डायबिटीज के लिए उपाय

कुछ उपायों को अपनाकर आप प्रीडायबिटीज के खतरों और टाइप-2 डायबिटीज में बदलने से पहले इसका निदान कर सकते है। जीवनशैली में इन तीन परिवर्तनों से शुरूआत करें।

woman doing exercise

वजन कम करें  

रिसर्च के अनुसार, प्रीडायबिटीज का निदान होने पर, 6 महीने के भीतर शरीर के वजन को लगभग 10 प्रतिशत कम करने से (एक 200 पाउंड महिला के लिए के बारे में 20 पाउंड) 3 साल के भीतर नाटकीय रूप से डायबिटीज के खतरे को कम किया जा सकता है।

एक्‍सरसाइज

क्रेमर के अनुसार, कम से कम सप्‍ताह में 5 दिन 30 मिनट या उससे ज्‍यादा मध्‍यम तीव्रता से की जाने वाले एक्‍सरसाइज डायबिटीज के खतरे को कम करने में मदद करती है।

स्‍वस्‍थ खायें

इसके लिए कुछ भी खाने से पहले पोषण लेबल को पढ़ें। भोजन में प्रति कार्बोहाइड्रेट की 45 से 60 ग्राम और फैट से अपने कुल दैनिक कैलोरी का 25 प्रतिशत से अधिक नहीं लेना चाहिए।

तो किसी भी बीमारी के होने पर उसका इलाज करने से बेहतर है कि आप बीमारी को समय रहते ही नियंत्रित कर लें। इससे बीमारी का दुष्‍प्रभाव भी कम होता है और साथ ही उसे काबू करना भी अपेक्षाकृत आसान होता है।


Read More Articles on Diabetes in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES4 Votes 1197 Views 1 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर