नहीं होने पर भी क्‍यों होता है प्रेग्‍नेंसी का एहसास

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 12, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • गर्भवती अनुभव करना बहुत ही सामान्‍य बात है।
  • काल्‍पनिक गर्भावस्‍था में गर्भवती जैसा महसूस होता है।
  • दिमाग ही नहीं बल्कि शरीर में हार्मोंन भी तैयारी करते है।
  • प्रोजेस्टेरोन के उच्च स्तर में थकावट महसूस होती हैं।

मां बनना सभी महिला के लिए सबसे सुखद अनुभव होता है। लेकिन कई बार आपको लगता है कि आप गर्भवती हैं जबकि वास्‍तव में आप होती नहीं हैं। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि आपको गर्भवती होने जैसे अनुभव ही होते हैं और इसके लक्षण एक जैसे होते हैं। लेकिन इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं। इसका बाद में प्रेग्‍नेंसी पर कोई असर नहीं पड़ता। आइए हम आपको बताते हैं कि गर्भवती न होने पर भी आपको इसका एहसास आखिर आपको क्‍यों होता है।

feeling pregnant in hindi

काल्पनिक गर्भावस्था

गर्भधारण करने की कोशिश के दौरान खुद को गर्भवती अनुभव करना बहुत ही सामान्‍य बात है। सोशल मीडिया साइटों पर समय बिताने के दौरान आपने काल्‍पनिक गर्भावस्‍था के लक्षणों के बारे में सुना होगा। और शायद आपने खुद भी ऐसे ही काल्‍पनिक गर्भावस्‍था के लक्षणों का अनुभव भी किया होगा।


काल्पनिक गर्भावस्था के लक्षण

काल्‍पनिक गर्भावस्‍था (आईपीएस) के लक्षणों में वास्‍तव में महिला को गर्भवती जैसा अनुभव होता है। साथ ही डॉक्‍टर से आईपीएस अवधि को सुनने की उम्‍मीद मत करो, क्‍योंकि यह एक तकनीकी शब्‍द नहीं है। यह वाक्यांश प्‍यार की दुनिया में प्रजनन क्षमता की चुनौती वाली महिलाओं द्वारा अविष्‍कार किया गया है और यह लक्षण का उल्‍लेख उन्‍हें गर्भवती महसूस कराते है।

ओवुलेशन और अपेक्षित अवधि के समय के बीच आप अक्‍सर इस बात को लेकर चिंतित रहती हैं कि इस महीने गर्भधारण हो जाएगा या नहीं। और आप कुछ स्‍वाभाविक गर्भावस्‍था के प्रारंभिक लक्षणों जैसे स्‍तनों में खिंचाव, थकान, सूजन, भावनात्मक संवेदनशीलता, ऐंठन और भोजन के प्रति लालसा की कल्‍पना करने लगती है। ज्‍यादातर मामलों में महिला को गर्भवती होने की इतनी चाहत होती है कि आप इसे सुनिश्चित तौर पर महसूस करने लगती हैं।

feeling vomiting in hindi

आपका आशावादी शरीर और प्रोजेस्टेरोन

आपको यह जानकार आश्‍चर्य हो सकता हैं कि केवल यह भावनाएं आपके दिमाग में ही नहीं होती, बल्कि शरीर में हार्मोंन की वास्‍तविक प्रतिक्रिया भी संभव गर्भावस्‍था की तैयारी कर रहा होता है। गर्भावस्‍था की उम्‍मीद होने पर हमारा शरीर आशावादी होता है। और ओवुलेशन की बात आने पर गर्भाधान न होने पर भी आपका शरीर खुद को नए जीवन के लिए तैयार करता है।    


स्वस्थ गर्भावस्था के प्रारंभिक स्‍तर को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार हार्मोनों में से एक प्रोजेस्टेरोन है। संभावित भ्रूण का समर्थन करने के क्रम में प्रोजेस्‍टेरोन ओवुलेशन के तुरंत बाद बढ़ जाता है। लेकिन अगर आप गर्भवती नहीं हैं तो प्रोजेस्‍टेरोन का स्‍तर पीरियड्स लाने के लिए 12 से 16 दिनों में गिर जाता है।

प्रोजेस्टेरोन का उच्‍च स्‍तर

प्रोजेस्टेरोन के उच्च स्तर पर आप थकावट और भावुक महसूस कर सकती हैं। यह हार्मोन भी स्तनों खिंचाव, कब्ज, और तरल पदार्थ बनाए रखने के लिए जिम्मेदार होते है। और थकान मूड में बदलाव और स्‍तनों में भारीपन  गर्भावस्था के प्रारंभिक लक्षणों की तरह लगते हैं। इसके अलावा अगर आप प्रजनन दवाएं ले रहीं हैं तो इसके साइड इफेक्‍ट से भी आपको कभी-कभी गर्भावस्‍था के प्रारंभिक लक्षण लगने लगते हैं।

गर्भावस्‍था की जांच

दो सप्‍ताह की प्रतीक्षा की चिंता के बाद आप गर्भावस्‍था की जांच करके इसे दूर कर सकते है। यानी पीरियड्स न आने के दो सप्‍ताह के बाद आप गर्भावस्था परीक्षण करके इसका पता लगा सकती हैं।



Image Source : Getty
Read More Articles on Pregnancy in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES46 Votes 9679 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर