भूख लगने पर जरूरत से ज्‍यादा क्‍यों खा लेते हैं कुछ लोग, जानें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 23, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • फाइबर युक्‍त आहार से भूख शांत होती है।
  • जल्‍दबाजी में खाना बहुत गलत तरीका है।
  • पीवाईवाई हार्मोन को नियंत्रित करें।

भूख लगना अच्‍छी बात है, और यह अच्‍छी सेहत की तरफ इशारा करती है।
लेकिन तब क्‍या जब भूख लगने पर जरूरत से ज्‍यादा खा लिया जायें।
 
मेरी सहेली इस बात से बहुत परेशान रहती है कि उसकी 10 साल की बेटी को पता हीं नहीं चलता कि उसे कितना खाना है। भूख लगने पर वह जरूरत से ज्‍यादा खा लेती है। उसे इस बात का अहसास तब होता है, जब उसके पेट में दर्द होने लगता है। क्‍या आपके या आपके बच्‍चे के साथ भी ऐसा ही कुछ होता है अगर हां, तो आइए जानने कि क्‍यों कुछ लोग भूख लगने पर जरूरत से ज्‍यादा खा लेते हैं।

जी हां भूख लगने पर जरूरत से ज्‍यादा खा लेना सेहत के लिहाज से अच्‍छा नहीं होता। इसलिए यह जानना बहुत जरूरी है कि आखिर कुछ लोग जरूरत से ज्‍यादा क्‍यों खा लेते हैं। इस बारे में शोधकर्ताओं का दावा है कि उन्होंने इस बात का पता लगा लिया है कि क्यों कुछ लोग ज्यादा खाना खाते हैं, आइए जानें।

overeating in hindi

इसे भी पढ़ें : ज्यादा खाने या ओवर ईटिंग की आदत को कैसे रोकें

ज्‍यादा खाना खाने के कारण

वैज्ञानिकों ने पहली बार इस बात पर रोशनी डालने की कोशिश की है कि कुछ लोग ज्यादा क्यों खाते हैं? दरअसल, पेट भर खाने के थोड़ी देर बाद ही दोबारा भूख लगने के पीछे एक हार्मोन जिम्मेदार होता है।


शोध के अनुसार

साइंस जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार भोजन जैसे ही आंत में पहुंचता है, पीवाईवाई उत्सर्जित होता है। फिर यह दिमाग को भूख शांत हो जाने की सूचना भेजता है। शोध के दौरान आठ लोगों के शरीर में पीवाईवाई हार्मोन इंजेक्ट किया गया और एमआरआई स्कैनर से दिमाग के विभिन्न हिस्सों पर पड़ने वाले इसके असर की जांच की गई।
 
शोध टीम के प्रमुख राशेल बैटरहम ने बताया कि परिणाम चौंकाने वाले थे। 14 घंटे बाद जब इन्हें भोजन दिया गया तो हमने पाया कि जिन लोगों में पीवाईवाई का स्तर ज्यादा था उन्होंने अपनी सामान्य डाइट के मुकाबले कम खाया। अब वैज्ञानिक इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि पीवाईवाई हार्मोन एनोरेक्सिस (कम खाने की मानसिक बीमारी) में किस तरह काम करता है। माना जाता है कि एनोरेक्सिस से पीडि़त लोगों में इस हार्मोन का स्तर काफी बढ़ जाता है। कई अन्‍य कारणों से भी कुछ लोगों को ज्‍यादा खाते हैं


इसे भी पढ़ें : बच्चों की उम्र के हिसाब से कितना खाना ज़रूरी

अन्‍य कारण

  • शरीर को संपूर्ण आहार की जरूरत होती है। शरीर को अन्‍य पौष्टिक तत्‍वों की तरह एक पर्याप्त मात्रा में कैलोरी की जरूरत होती है। अगर आप कम कैलोरी आहार का सेवन करेंगे तो शरीर में उसकी कमी बरकरार रहेगी, जिस कारण आपको हमेशा भूख लगती रहेगी।
  • प्रोटीन और फाइबर वाले आहार से पेट से ऐसे हार्मोंस निकलते है जो भूख को शांत कर देते है। भोजन में प्रोटीन और फाइबर की कमी के कारण भी कई लोग एक समय में ज्‍यादा खा लेते हैं।
  • जल्दबाजी में खाना खाना, खाने का बहुत ही गलत तरीका है। इससे आपके नर्वस सिस्टम को ब्रेन तक यह संदेश पहुंचाने का मौका ही नहीं मिलता कि खाने का काम पूरा हो चुका है। इसलिए जल्दबाजी में ज्यादा खा लेने के बाद भी पेट भरने का एहसास नहीं होता। और आप बहुत ज्‍यादा खाने लगते हैं।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप
 
Image Source : Shutterstock.com  

Read More Articles on Diet-Nutrition in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES587 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर