महिलाओं के हाथ-पैर क्यों रहते हैं ज्यादा ठंडे, जानें वजह

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 13, 2017
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • कई बीमारियों से होते हैं ठंडे हाथ-पैर।
  • क्या फ्रॉस्टबाइट या रेनॉड'स रोग है वजह।
  • तुरंत डॉक्टर से मिलकर लें सलाह।

यदि सर्दियों के मौसम में कभी-कभी ही आपके हाथ व पैर ठंडे रहते हैं तो चिंता की कोई बात नहीं है। लेकिन पूरे मौसम या साल लगातार हाथ व पैर ठंडे रहें (अधिकांशतः सर्दियों में) तो आपको इसके सभी संभावित कारणों पर विचार करना चाहिए। क्योंकि इसके पीछे मधुमेह, कमज़ोर रक्त परिसंचरण, ल्यूपस, थायराइड, रेनॉड'स रोग, तंत्रिका तंत्र संबंधी विकार, एनीमिया, त्वग्काठिन्य और शीतदंश (scleroderma and frostbite) आदि बीमारियां हो सकती हैं। गंभीर फ्रॉस्टबाइट मांसपेशियों, टेन्डोन्स, रक्त वाहिकाओं तथा नसों को नुकसान पहुंचाने लगता है और हाथ व पैर ठंडे होने लगते हैं।

इसे भी पढ़ें, ठंड से राहत दिलाने वाले आसान घरेलू उपाय


मूलचंद मेडसिटी में आयुर्वेद विभाग प्रमुख डॉ. शशि बाला कहती हैं, ' बाहर की ठंडी हवा हमारे फ्लूड सकुर्लेशन को प्रभावित करती है, जिससे हाथ व पैर ठंडे होना सामान्य है। जिन महिलाओं को ये समस्या अधिक रहती है, उन्हें शुरुआत से खान-पान का ध्यान रखना चाहिए। आयुर्वेद में त्रिकुटि, पिपली चूर्ण और अश्वगंधा के सेवन से अधिक ठंड लगने की परेशानी में राहत मिलती है। खान-पान में गर्म तासीर वाली चीजों का सेवन करना चाहिए, पर इसका मतलब यह नहीं कि आप अधिक मात्रा में चाय व कॉफी पिएं।'

winter

डॉ. शशिबाला के अनुसार, 'मात्र दस्ताने व जुराबें पहन कर बैठे रहना सही नहीं है। अपनी जीवनशैली को सुधारना भी जरूरी है।  धूम्रपान का सेवन न करें। कैफीनयुक्त चीजों से परहेज करें। अधिक तंग कपड़े व जूते न पहनें। नियमित व्यायाम से भी रक्तसंचार सही रहता है। खासतौर पर प्राणायाम व गहरे श्वास का अभ्यास करना शरीर में ऊर्जा भरता है।'

इसे भी पढ़ें, मौसम और जोड़ों के दर्द के बीच क्या है संबंध

सरल उपाय

हल्दी औऱ दालचीनी का सेवन करें। हल्दी में मौजूद कुरकुर्मीन नाम का तत्व पूरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करने में मदद करता है। समस्या होने पर एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिक्स करके हल्की आंच पर पकाएं। फिर इसमें थोड़ा सा शहद मिलाकर दिन में एक बार पीने से ब्लड सर्कुलेशन में सुधार होता है। आप हल्दी और पानी से बने पेस्ट से प्रभावित हिस्से पर मसाज भी कर सकते हैं। दालचीनी में महत्वपूर्ण विटामिन बी के साथ मैंग्नीज और पोटेशियम सहित कई प्रकार के केमिकल और पोषक तत्व होते हैं। यह पोषक तत्व हाथ और पैर में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाकर हाथ और पैर की सुन्नता को दूर करने में मदद करते है।

विशेषज्ञ अच्छी तरह से ब्लड सर्कुलेशन के लिए नियमित रूप से 2 से 4 ग्राम दालचीनी लेने की सलाह देते हैं। एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर नियमित रूप से सेवन करें। अपने डॉक्टर के साथ स्थिति पर चर्चा के अलावा, आपको अपनी जीवन शैली में भी कुछ परिवर्तन करना चाहिए। जैसे, धूम्रपान बंद करें  साथ ही शराब और कैफीन के सेवन को भी कम कर दें। क्योंकि ये लक्षणों को और ज्यादा खराब बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। स्वस्थ आहार और अपने भोजन में अधिक विटामिन और खनिज लें।


ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image source- getty

Read More Articles on Healthy Living In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES2341 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर