किशोरावस्था में ऐसे दी जा सकती है सेक्स शिक्षा

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 23, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • किशोरों में सेक्स के प्रति रुचि बढ़ती है।
  • सेक्‍स शिक्षा अनचाहे गर्भ की समस्या से बचाती है।
  • सेक्स की सही शिक्षा देने से वह स्वास्थ्य के प्रति जागरुक रहते हैं।

किशोरों को सेक्स शिक्षा देना आजकल वक्त की जरूरत बन गया है। किशोरावस्था में ना सिर्फ हार्मोंन्स में बदलाव होता है, बल्कि शरीर में भी कई बदलाव आते हैं जिसकी वजह से किशोरों में सेक्स के प्रति रुचि बढ़ती है और वे इसके बारे में जानने का प्रयास करने लगते हैं। किशोरावस्था में सेक्स की सही शिक्षा मिलना बहुत जरूरी है। गलत सूचना व सही गाईडेन्स नहीं मिलने से यह आपके बच्चे के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है।

child in hindi

इसे भी पढ़े : सेक्‍स शिक्षा के लिए क्‍या है सही उम्र

क्यों जरूरी है सेक्स शिक्षा

  • बच्चों में सेक्स की सही शिक्षा हमेशा किशोरावस्था में अनचाहे गर्भ की समस्या से बचाती है।
  • सेक्स शिक्षा से किशोरों को सुरक्षित यौन संबंध की जानकारी मिलती है जैसे कंडोम का प्रयोग।  
  • सेक्स शिक्षा से किशोरावस्था में अनचाहे गर्भ से बचाव के साथ इससे होने वाले खतरों से भी सुरक्षा होती है।  
  • सेक्स शिक्षा के जरिए बच्चों में सेक्स की समझ विकसित होती है। जब वे इस दौर से गुजरते हैं तो यही बातें उनके काम आती हैं।  
  • किशोरावस्था में सेक्स शिक्षा देने से बच्चों में इसके प्रति उत्सुकता कम हो जाती है जिससे उनमें सेक्स के प्रति देर से सक्रिय होने की संभावना बढ़ जाती है।

इसे भी पढ़े : लड़कों के लिए सेक्स शिक्षा

कैसे दें सेक्स शिक्षा

किशोरावस्था में बच्चों में सेक्स के प्रति कई सवाल होते हैं। टी.वी, इंटरनेट के जरिए उनके ये सवाल और बढ़ जाते हैं। किशोरावस्था में बच्चों में कई बदलाव होते हैं, ऐसे में जरूरी है कि उन्हें सेक्स शिक्षा अपने स्कूल व अभिभावक से मिलें। अगर आप बच्चों के सवालों के जवाब को टालने की कोशिश करेंगे तो वह इसकी जानकारी कहीं और से लेने की कोशिश करेंगे और हो सकता है कि उन्हेंब गलत व अधूरी जानकारी मिलें जो उसके लिए नुकसानदेह हो।

  •  किशोरावस्था में सेक्स शिक्षा देते समय बच्चों को एड्स व अन्य यौन रोगों के बारे में जरूर बताएं। साथ ही उन्हें इससे बचाव के तरीकों के बारे में भी बताएं।
  • प्रत्येक टीचर व माता-पिता की जिम्मेदारी है कि वे बच्चों को सही जानकारी दें। और जो भी उनके पास गलत जानकारी हो उसे सुधारें।
  •  बच्चों को इस उम्र में सेक्स की सही शिक्षा देने से वे अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरुक रहते हैं। इस उम्र में बच्चों को यह समझाने की जरूरत होती है कि सेक्स से पहले सावधानी बहुत जरूरी है।  

हमारे देश में कई लड़कियां शादी से पहले गर्भवती हो जाती है इसकी सबसे बड़ी वजह सेक्स की सही शिक्षा नहीं मिलना। सेक्स समस्याओं से बचने के लिए जरूरी है इसकी पर्याप्त जानकारी होना, जो सिर्फ सेक्स शिक्षा के जरिए ही दी जा सकती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source : Getty

Read More Articles on Sex Education in Hindi

 

Write a Review
Is it Helpful Article?YES188 Votes 68561 Views 2 Comments
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Gunjan14 Aug 2012

    A well-written article. It's important for parents to discuss the emotional and bodily changes through which a child goes in his/her teenage.

  • Name05 Jun 2012

    how can i teech

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर