व्हाइट ब्रेड का सेवन हो सकता है नुकसानदेह

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 05, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • व्हाइट ब्रेड का सेवन वजन बढ़ाने का काम करता है।
  • व्हाइट ब्रेड से शरीर को कोई पोषण नहीं मिलता है।
  • शरीर को अन्य खाद्य पदार्थों से मिलने वाले पोषण में रुकावट है व्हाइट ब्रेड।
  • ब्लड शुगर को भी बढाता है व्हाइट ब्रेड।

अगर आप अपने बढ़ते वजन को लेकर परेशान है तो जरा अपने व्हाइट ब्रेड के सेवन पर नजर डालें। होल ग्रेन ब्रेड के मुकाबले व्हाइट ब्रेड बहुत ज्यादा मात्रा में फैट पाया जाता है जो आपके वजन को बढ़ाता है। व्हाइट ब्रेड ब्राउन ब्रेड के मुकाबले ज्‍यादा घातक होती है। व्हाइट ब्रेड में काफी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, सोडियम और ग्‍लूटेन मिला होता है, जो कई बीमारियां पैदा कर सकता है।


व्हाइट ब्रेड पूरी तरह से मैदा से बनती है जो बहुत ही महीन होता है। कई शोधों में भी इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि व्हाइट ब्रेड हमारे शरीर के लिए काफी नुकसानदेह है। इसीलिए डॉक्टर्स, और डाइटीशियन होल ग्रेन्स ब्रेड या फिर ब्राउन ब्रेड को खाने की सलाह देते हैं।

white bread not good for health

व्हाइट ब्रेड का ग्लूटेन है खतरनाक

अधिकतर ब्रेड फाइन व्हीट से बनाया जाता है जिससे यह आसानी ले पच जाते हैं और तेजी से ब्लड शुगर लेवल और इंसुलिन लेवल को बढ़ाते हैं। यह ओवरइटिंग को भी बढ़ाता है। व्हाइट ब्रेड में ग्लूटेन नामक प्रोटीन बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है। इस प्रोटीन में ग्लू की तरह की प्रापर्टीज पाई जाती है इसीलिए इसे ग्लूटेन कहते हैं। शोधकर्ताओं की माने तो ग्लूटेन हमारी डाइजेस्टिव ट्रैक्ट की वाल को क्षतिग्रस्त करता है जिससे पेट में दर्द और कब्ज  होता है। ग्लूटेन आंत की लाइनिंग्स को डैमेज करके न्यूट्रिएंट्स के एब्जार्पशन को रोकता है। इसके साथ ही ग्लूटेन की सेंसिटीविटी ब्रेन से जुड़ी बीमारियों स्क्रीजोफ्रेनिया और सेरेबेलर अटैक्सिया का कारण भी हो सकता है।

 


नहीं होता कोई पोषण

व्हाइट ब्रेड आप किसी भी तरह से क्यों ना खाएं यह आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिये हानिकारक है। न ही इसमें किसी प्रकार का प्रोटीन होता है ना ही विटामिन होता है और न ही फाइबर। सफेद ब्रेड की जगह पर ब्राउन ब्रेड खाना ज्‍यादा उचित रहता है।

eating white bread

मोटापे की वजह

डॉक्टर्स की माने तो व्हाइट ब्रेड या फाइन ग्रेन फूड प्रोडक्ट्स को खाने के बाद ब्लड शुगर लेवल और इंसुलिन तेजी से बढ़ता है. साथ यह तेजी से नीचे भी आता है. ब्लड शुगर लेवल तेजी से कम होने के कारण हमें फिर से भूख लगती है और हम फिर खाते हैं. ज्यादा एनर्जी लेने के कारण हम मोटे होते जाते हैं.

पोषण में रुकावट 


यूं तो व्हाइट ब्रेड में पोषण नहीं होता है लेकिन यह अन्य खाद्य पदार्थों में से भी पोषण का अवशोषण कम कर देता है। इसमें कुछ एंटी न्यूट्रिएंट्स भी होते हैं जो कैल्शियम, आयरन और जिंक के अवशोषण को रोकते हैं। डॉक्टर्स कहते हैं कि कोई भी व्यक्ति जो वजन घटाना चाहता है उसे अपनी डाइट से ब्रेड को हटा देना चाहिए। इसके अलावा अगर आंत की डैमेज्ड वाल, ब्लड शुगर स्तर का उतार-चढ़ाव, टायर्डनेस, और बैड कोलेस्ट्रॉल में बढ़ोत्तरी होती है तो हमें ब्रेड खाना से ही बचना चाहिए।

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES25 Votes 2485 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • Akshit16 Jun 2014

    सफेद ब्रेड के नुकसान तो हमें पता है, लेकिन करें क्‍या इसका स्‍वाद जो मुंह लग गया है। लेकिन आपका लेख पढ़ने के बाद यह समझ में आ गया है कि अगर सेहत चाहिये, आपको स्‍वाद तो छोड़ना पड़ेगा। आगे से मेरी कोशिश रहेगी कि घर पर सफेद ब्रेड न ही आए।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर