5 स्‍वास्‍थ्‍य स्थितियों के बारे में बताती है आपकी सांस

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 12, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सांस की जांच के जरिये चल सकेगा बीमारियों का पता।
  • पेट कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह आदि का निदान आसान।
  • इस टेस्‍ट से अति सूक्ष्म कणों कणों का भी पता चलेगा।
  • 'ब्रीद टेस्ट' की खोज से बीमारियों का निदान आसान।

सांस की बदबू का कारण अब केवल मुंह में मौजूद बैक्टीरिया ही नहीं होते बल्कि कई गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं। हाल ही में हुए ब्रीद टेस्ट की खोज से अब कई तरह की बीमारियों का पता सांसों से ही लगाया जा सकता है। ‘ब्रीद टेस्ट’ नामक ये परीक्षण सांस के जरिए किया जाता है और फिर सांस को बाहर निकालने पर उसमें मौजूद रसायनों में ट्यूमर बनाने की क्षमता के आधार पर मरीज का परीक्षण किया जाता है। यानी आपकी सांस आपसे संबंधित बीमारियों के बारे में बताती है, इसके बारे में विस्‍तार से जानने के लिए यह आर्टिकल पढ़ें।

पेट का कैंसर

सांस का परीक्षण करके पेट के कैंसर का पता चल सकेगा। इस तकनीक में सांस द्वारा उन ख़ास तत्वों की पहचान हो सकेगी जिनमें बीमारी के संकेत छुपे होते हैं। इस टेस्‍ट के जरिये अति सूक्ष्म कणों में रासायनिक संकेत ट्यूमर का पता लगा सकते हैं।

Breath Test in Hindi

दिल की बीमारी

जल्दी सांस फूलने, चक्कर आने, थकान, सीने में दर्द होने पर पल्मोनरी हाइपरटेंशन (पीएच) का खतरा होता है। इसमें हार्ट से फेफड़े में जानी वाली आर्टरी में ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। यह एक लाइलाज बीमारी है और इसके लक्षण हृदय सांस की दूसरी बीमारियों की तरह ही हैं।

मोटापा

मोटे लोगों को शारीरिक गति‍विधियां करने में दिक्‍कत होती है। गले और छाती के आसपास जमा अतिरिक्‍त चर्बी के कारण सांसें उखड़ने लगती हैं। इसलिए मोटे लोग गहरी और लंबी सांस नहीं ले पाते और इसके साथ ही उन्‍हें सांस लेने में परेशानी भी होती है। इन लोगों की सांस में मेथेन और हाईड्रोजन गैस की मात्रा बढ़ जाती है।

 Diabeties in Hindi

मधुमेह

मधुमेह की जांच रक्त के नमूने से की जाती है। लेकिन रोगी द्वारा छोड़े गए सांस से मधुमेह की जांच की जाएगी। मधुमेह की जांच के लिए सामान्य प्रक्रिया को विकसित करना समय की जरूरत है। मधुमेह की जांच के लिए प्रयोग होने वाले ‘ग्लूकोमीटर्स’ में प्रयोग किए जाने वाले स्ट्रिप्स काफी महंगे होते हैं। इसे एक बार प्रयोग करने के बाद फेंक देना पड़ता है। वैज्ञानिक पद्धति के अनुसार होने वाले इस जांच को ‘केटोसिस’ कहा जाता है।

Liver in Hindi

गुर्दे का फेल होना

गुर्दे के फेल हो जाने से रक्त में यूरिया का स्तर बढ़ जाता है। यह यूरिया लार में अमोनिया के रुप में उत्पन्न होता है जो मुंह में अमोनिया ब्रेथ नामक बू का कारण बनता है। साथ ही यह मुंह में अप्रिय धातु के स्वाद (डिस्गुसिया) का भी कारण बनता है। रोग के बढ़ जाने पर सांस लेने में दिक्कत महसूस होती है।

यानी अब केवल अंपनी सांसों की जांच कराकर गंभीर बीमारियों के बारे में जान सकते हैं, यह बीमारियों के उपचार में मददगार होगा।

 

Image Courtesy@Gettyimages

Read more Article on Oral Health in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES15 Votes 4984 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर