स्‍वाइन फ्लू क्‍या है और यह कैसे फैलता है

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 12, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • चार प्रकार H1N1, H1N2, H3N2 और H3N1 का होता है स्‍वाइन फ्लू।
  • स्‍वाइन फ्लू सुअरों के पास रहने वाले व्‍यक्तियों को होने का खतरा ज्‍यादा होता है।
  • अधिकतर मामलों में स्‍वाइन फ्लू सात दिनों के भीतर अपने आप ही ठीक हो जाता है।
  • बीमार व्‍यक्ति से यह बीमारी दूसरे व्‍यक्ति को भी फैल सकती है।

स्वाइन फ्लू घातक वायरस है, जो सुअरों से फैलता है। सबसे पहले इस बीमारी के लक्षण मैक्सिको के वेराक्रूज इलाके के एक पिग फॉर्म के आसपास रह रहे लोगों में पाए गए थे। स्वाइन फ्लू दरअसल सुअरों के बुखार को कहते हैं। यह उनकी सांस से जुड़ी बीमारी है। यह बीमारी जुकाम से जुड़े एक वायरस से पैदा होती है। ये वायरस मोटे तौर पर चार तरह के होते हैं। H1N1, H1N2, H3N2 और H3N1। इनमें H1N1 सबसे खतरनाक है और दुनिया भर में यही वायरस सबको अपनी चपेट में ले रहा है।


इनसानों में फैलने की संभावनाएं

यूं तो आमतौर पर इसके वायरस इनसानों में नहीं फैलते थे। लेकिन, विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक ये बीमारी इनसानों से इनसानों के बीच भी फैलने लगी है। यह वायरस उन लोगों में फैल सकता है, जो सुअरों के सीधे संपर्क में रहते हैं।

swine flu

स्वाइन फ्लू के लक्षण

इसके लक्षण आम इनसानी फ्लू से मिलते जुलते ही हैं। बुखार, सिर दर्द, सुस्ती, भूख न लगना और खांसी। कुछ लोगों को इससे उल्टी और दस्त भी हो सकते हैं। गंभीर मामलों में इसके चलते शरीर के कई अंग काम करना बंद कर सकते हैं, जिसके चलते इंसान की मौत भी हो सकती है।। स्वाइन फ्लू के वायरस का ही एक प्रकार ‘एच-1-एन-1‘ इंसानों में स्वाइन फ्लू का कारण बन सकता है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण आम फ्लू के लक्षणों के समान होते हैं। इसमें मांसपेशियों में दर्द के साथ बुखार (38°C से अधिक), गले में खराश के साथ दर्द और सूखी खांसी हो सकती है। आमतौर पर यह संक्रमण कोई खास उपचार के बिना एक हफ्ते के भीतर ठीक हो जाता है। वायरस का संक्रमण की बिल्कुल सही अवधि अब तक सही मालूम नहीं हो पाई है। यह अवधि दो से पांच दिनों या फिर सात दिनों की हो सकती है। स्वाइन फ्लू से पीडित मरीज में जैसे ही लक्षण बढ़ते हैं, उसी समय से वह सबसे अधिक संक्रमण फैला सकता है। ये वायरस कफ या छींक के जरिए करीब 5 दिनों तक (बच्चों में 7 दिन तक) तक संक्रमण फैलाते रहते हैं। जैसे ही लक्षण घटने लगते हैं, उसी समय से संक्रमण का खतरा भी कम होता जाता है। और लक्षण समाप्‍त होने के बाद व्‍यक्ति दूसरों को संक्रमित नहीं कर सकता।

 


महामारी
स्वाइन फ्लू के वायरस का ही एक प्रकार ‘एच-1-एन-1‘ इनसानों को संक्रमित करता है। अप्रैल 2009 में पहले पहल यह वायरस मैक्‍सिको में सामने आया। धीरे-2 यह वायरस सारी दुनिया में फैल गया। यह वायरस नये प्रकार का है। इसके सारी दुनिया में तेजी से फैलने का सबसे बड़ा कारण ज्‍यादातर लोगों में इसके लिए प्रतिरोधक क्षमता का अभाव होना है। फ्लू की महामारी समय समय पर होती रहती है। पिछ्ले सौ सालों में 1918, 1957 और 1968 में तीन बार महामारी उत्पन्न हुई थी। लाखों लोग इन महामारी में मारे गए थे। स्वाइन फ्लू की महामारी से भी दुनिया भर के सैकड़ों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। हालांकि अभी तक इसकी पूर्ण चुनौती का अंदाजा नहीं लग पाया है। वैज्ञानिकों के सामने सबसे बड़ी चुनौती इस बात को लेकर है कहीं समय के साथ यह वायरस अपना रूप और संरचनात्‍मकता बदलकर और खतरनाक न हो जाए।

swine flu

अति संवेदनशील समूह


असल में स्वाइन फ्लू मामूली बीमारी का कारण बनता है, और अधिकतर मरीज पर्याप्त आराम, बहुत सारा पानी या तरल पदार्थ और फ्लू की दवाएं लेकर पूरी तरह से ठीक हो सकते हैं,

कुछ गंभीर बीमारी से ग्रस्त लोगों को यदि स्वाइन फ्लू वायरस से संक्रमण हो जाये, तो ये गंभीर बीमारी और भी खतरनाक हो जाती है, जैसे कि

  • दीर्घकालिक फेफडों या श्वाश प्रश्वाश सम्बन्धी बीमारी
  • दीर्घकालिक दिल की बीमारी (जन्मजात या जन्म के बाद)
  • दीर्घकालिक गुर्दे की की बीमारी (जैसे कि गुर्दा खराब होना)
  • दीर्घकालिक लीवर की बीमारी (सिरोसिस, हेपाटेटिस)
  • दीर्घकालिक दिमाग की बीमारी (जैसे कि पार्किंसन)
  • ईम्यूनोलस्प्रेशन (या तो किसी एक बीमारी के कारण, दवा के कारण, या फिर कोई उपचार के कारण)
  • मधुमेह की बीमारी (टाईप 1 या 2)

Image Courtesy- Getty Images

 

Read More Articles on Swine Flu in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES10 Votes 11230 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर